मधुबनी DM को सीएम नीतीश ने किया सम्मानित:मध निषेद के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने के लिए हुए सम्मानित

मधुबनी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मधुबनी DM को सीएम नीतीश ने किया सम्मानित - Dainik Bhaskar
मधुबनी DM को सीएम नीतीश ने किया सम्मानित

मधुबनी जिला अधिकारी अरविंद कुमार वर्मा को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सम्मानित किया। मध निषेद के क्षेत्र में उत्कृष्ट एवं सराहनीय कार्य के लिए प्रशस्ति पत्र देकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सम्मानित किया हैं। मधुबनी सहित बिहार के कुल पांच जिलों के जिला अधिकारी को सम्मानित किया गया हैं । लेकिन जिस विभाग में उत्कृष्ट कार्य के लिए मधुबनी जिला अधिकारी अरविंद कुमार वर्मा को सम्मानित किया गया हैं। आखिर वो मधनिषेद और उत्पाद विभाग मधुबनी में कैसा कार्य कर रही हैं।

मधुबनी मध निषेद एबं उत्पाद विभाग पर लगातार कई गंभीर आरोप लगते रहे हैं । एक आरोप तो ऐसा लगा हैं की उत्पाद विभाग के तीन तीन A S I एक साथ जेल चले गए हैं। तीनो A S I लगातार शराब माफिया से साठ गांठ कर शराब की तस्करी सहित आम आदमी से शराब के नाम पर मोटे रकम ऐंठ रहे थें। इसके अलावा भी मधुबनी उत्पाद विभाग अपने कारनामे कर लगातार सुखियों में रही हैं। इससे कुछ दिन पूर्व ही मधुबनी मध निषेद एबं उत्पाद विभाग मधुबनी जिला अधिकारी अरविंद कुमार वर्मा को भी चुना लगा दी हैं। आप सोच रहे होंगे आखिर जिला अधिकारी को कैसे कोई चुना लगा सकता हैं तो आइए हम समझाते हैं।।

कुछ दिन पूर्व मध निषेद विभाग के द्वारा शराब के तस्करी में संलिप्त वाहनों की नीलामी की जा रही थीं। जैसा कि आप जानते हैं। वाहनों की नीलामी की फ़ाइल पर अंतिम परमिशन मधुबनी जिला अधिकारी का होता हैं। मधुबनी में भी ऐसा ही हुआ लेकिन जिस वाहनों की सूची पर जिलाअधिकारी अरविंद कुमार के द्वारा हस्ताक्षर किया गया। दरअसल वो सूची ही गलत बना दी गयीं। इससे भी चौकाने वाली बात तब निकल कर सामने आयी जब उसी गलत सूची के आधार पर वाहनों की नीलामी भी हो गयी। जिसमें लाखों का घोटाला भी हो गया था। नीलामी के महीने बीत जाने के बाद मामला जब सुखियों में आया तब जाकर एक कंप्यूटर ऑपरेटर पर प्राथमिकी दर्ज की गयी।

आखिर उत्पाद विभाग लगातार बड़े बड़े कारनामे कर रहा हैं। जिला अधिकारी से फर्जी वाहनों की सूची पर हस्ताक्षर करवा लिए जा रहे है। इसके बाद भी विभाग के बड़े अधिकारीयो से सवाल जवाब नही किया गया। आखिर इतने बड़े गलती के बाद भी विभाग के अधिकारियों का मनोबल इस कदर बढ़ा हैं। जिसको लेकर आमजनमानस में जिलाधिकारी के लिए कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं।उत्पाद विभाग पर कई आरोप लगते रहे हैं । कई लोगो का कहना है विभाग के अधिकारी अपनी टारगेट पूरी करने के लिये तारी पिये व्यक्ति को भी उठा लेते हैं और जबरदस्ती पैसा वसूलते हैं।

खबरें और भी हैं...