जनसंख्या स्थिरीकरण:परिवार नियोजन ऑपरेशन के लिए ओटी को गाइडलाइन के अनुसार रखना है : सीएस

मधुबनी3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिले में शुरू हुआ दंपती संपर्क पखवाड़ा, लाभार्थियों को दिया जाएगा परामर्श

परिवार नियोजन के प्रति आमजन में जागरूकता लाने के लिए जिले में दंपत्ति संपर्क पखवाड़ा का आयोजन शुरू किया गया है। यह अभियान 10 जुलाई तक चलेगा। आजादी के 75 साल और भारत के लोगों के गौरवशाली इतिहास को मनाने के लिए आजादी का अमृत महोत्सव मना रहे हैं। वैसे ही विश्व जनसंख्या दिवस परिवार नियोजन में उपलब्धियों को प्रदर्शित करने का एक अनूठा अवसर प्रदान करता है। भारत ने परिवार नियोजन के महत्व को समझा और तब से एक लंबा सफर तय करते हुए प्रजनन दर के प्रतिस्थापन स्तर को प्राप्त किया है। बिहार राज्य ने भी इस दौरान बेहतर प्रदर्शन करते हुए कुल औसत प्रजनन दर (टीएफआर) 3.0 की प्राप्ति की है। साथ ही गर्भनिरोधक प्रचलन दर में भी अच्छी बढ़ोतरी करते हुए अपूरित मांग में भी कमी दर्शाई है। हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी जिले में परिवार नियोजन पखवाड़ा का आयोजन किया जा रहा है। इस वर्ष की थीम \"परिवार नियोजन को अपनाओ, लिखो तरक्की का एक नया अध्याय\" रखा गया है।

स्वास्थ्य संस्थानों में परामर्श पंजीयन केंद्र स्थापित किया जाएगा

सिविल सर्जन डॉ. सुनील कुमार झा ने बताया गर्भनिरोधक के बास्केट ऑफ च्वाइस पर लाभार्थियों को परामर्श दिया जाएगा। इसके तहत इच्छुक दंपत्ति को सलाह मशवारा प्रदान करने हेतु सभी स्वास्थ्य संस्थानों में परामर्श पंजीयन केंद्र स्थापित किया जाएगा। परिवार कल्याण परामर्शी कक्ष में स्टाफ नर्स, एएनएम द्वारा परामर्श दिया जाएगा। इसके अलावा ओपीडी, एएनसी सेवा बिंदु, प्रसव कक्ष एवं टीकाकरण केंद्र पर भी कॉन्ट्रासेप्टिव डिस्प्ले ट्रे एवं प्रचार प्रसार सामग्रियों के माध्यम से परामर्श करते हुए इच्छुक लाभार्थी को परिवार नियोजन सेवा प्राप्त करने में सहयोग दिया जाएगा।

परामर्श पंजीयन केंद्र पूरे पखवाड़े के दौरान एवं आगे भी अस्थाई रूप से कार्य करेगा। मांग एवं खपत के अनुसार सभी सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों पर आवश्यक मात्रा में गर्भनिरोधक की उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी एवं गर्भनिरोधक का वितरण किया जाएगा। गर्भनिरोधक की मांग पर प्रत्येक लाभार्थी को अतिरिक्त इच्छित गर्भनिरोधक सामग्री उपलब्ध करायी जाएगी ।ताकि लाभार्थी को बार-बार गर्भनिरोधक प्राप्त करने के लिए केंद्र नहीं आना होगा। कंडोम बॉक्स में नियमित रूप से कंडोम भरा जाएगा। अंतरा एवं आयुसीडी की सेवा शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र एवं हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर सहित स्वास्थ्य उप केंद्र तक स्वास्थ्य कार्यों में सुनिश्चित की जाएगी। परिवार नियोजन ऑपरेशन के लिए शल्य कक्ष को पूरी तरह से इन्फेक्शन प्रिवेंशन कंट्रोल गाइडलाइन के अनुसार तैयार किया जाना है।

दो चरणों में होगा पखवाड़ा का आयोजन : नवीन दोस
जिला सामुदायिक उत्प्रेरक नवीन दास ने बताया जनसंख्या स्थिरीकरण ति पखवाड़ा दो चरणों में होगा। 27 जून से 10 जुलाई 2022 तक दंपती संपर्क पखवाड़ा एवं 11से 31 जुलाई तक परिवार नियोजन सेवा के तहत प्रदान की जाने वाली सेवाओं को सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है। ताकि जनसंख्या स्थिरीकरण की जरूरत सही उम्र में शादी, पहले बच्चे की देरी तथा बच्चों में सही अंतराल के बारे में आमजन के मध्य चर्चा कर मां और शिशु स्वास्थ्य को बेहतर कर सकें। पखवाड़ा के दौरान परिवार नियोजन सेवाओं के तहत प्रदान की जाने वाली आई यूसीडी, गर्भनिरोधक सूई, बंध्याकरण एवं नसबंदी आदि की सेवा प्रदान की जायगी। पखवाड़ा को सफल बनाने के लिए डिजिटल प्लेटफॉर्म को उपयोग करते हुए क्षेत्रीय सांसद, विधायक, पंचायती राज संस्था के सदस्य, शहरी स्थानीय निकाय, स्वास्थ्य कर्मियों एवं सिविल सोसायटी के सदस्य का सहयोग लिया जा सकता है। साथ ही प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को शामिल किया जाना है।

खबरें और भी हैं...