संगोष्ठी का आयोजन किया गया:बाेझ डाले बिना छात्रों काे शिक्षा दिए जाने की जरूरत

मधुबनी15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
संगोष्ठी को संबोधित करते प्रोफेसर व अन्य। - Dainik Bhaskar
संगोष्ठी को संबोधित करते प्रोफेसर व अन्य।

जिले के मिल्लत शिक्षक प्रशिक्षण महाविद्यालय में शुक्रवार को राष्ट्रीय पाठ्यचर्या रूपरेखा 2005 विषय पर एक दिवसीय पाठ्यक्रम पर आधारित संगोष्ठी का आयोजन हुआ। संगोष्ठी के दौरान एनसीएफ के क्रियान्वयन के लिए विभिन्न उपविषययों जैसे व्यावसायीकरण, आईसीटी, शिक्षाशास्त्र मूल्यांकन आदि महत्पवूर्ण विषयों को शामिल किया गया। संगोष्ठी-सत्र की अध्यक्षता कॉलेज के प्राचार्य प्रो. एनआर रवि ने की। उन्होंने अपने अध्यक्षीय संबोधन में बिना बोझ के शिक्षा पर बल दिया जो वर्तमान समय की आवश्यकता है। संगोष्ठी के मुख्य अतिथि डॉ. फैयाज अहमद ने शिक्षा और शिक्षक के महत्व पर प्रकाश डालता हए छात्र-छात्राओं की नियमित उपस्थिति पर बल दिया। वक्ता के तौर पर डॉ. पीएन प्रभाकर, डॉ. एके चौधरी के साथ-साथ महाविद्यालय के सभी गुरू प्रशिणाक्षार्थी ने भाग लिया। इसमें बीएड प्रथम वर्ष, द्वितीय वर्ष व एमएड प्रथम सेमेस्टर व तृतीय सेमेस्टर के छात्र शामिल थे। कार्यक्रम संयोजक एमके पाठक व आर ठाकुर थे। मंच संचालन का कार्य छात्र दीपक कुमार झा व छात्रा कविता कुमारी ने संयुक्त रूप से किया। इस कार्यक्रम में महाविद्यालय के एचके झा, एमके साहू, एस कुमारी, डाॅ. के कुमारी, एमके लाल दास, प्रशासनिक अधिकारी आरपी ठाकुर आदि उपस्थिति थे।

खबरें और भी हैं...