विनोदानंद झा कॉलोनी का हाल:हल्की बारिश में ही नाले से सड़क पर आया पानी, मानसून नहीं झेलेगा शहर

मधुबनीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
विनोदानंद झा कॉलोनी मेंे बारिश के बाद भरा हुआ नाला। - Dainik Bhaskar
विनोदानंद झा कॉलोनी मेंे बारिश के बाद भरा हुआ नाला।

शहर के विनोदानंद झा कॉलोनी में जलजमाव की समस्या का स्थाई निदान नहीं किया जा रहा है। कॉलोनी से जलनिकासी को लेकर स्थाई निदान नहीं होने से इस बार भी बरसात के समय लाेगाें काे अपने घराें काे छोड़ना पड़ेगा। बरसात के पूर्व ही स्थानीय लाेगाें काे यह परेशानी सताने लगी है।

काॅलाेनी के लाेगाें ने कहा कि हर वर्ष वरीय अधिकारी समस्या के निदान का आश्वासन मोहल्ले में आकर देते हैं लेकिन स्थाई निदान आज तक नहीं हो पाया है। अधिकारियों के समक्ष नगर परिषद-नगर निगम के अधिकारी सक्रिय रूप में दिखते है लेकिन अधिकारी के जाने के बाद नगर निगम के अधिकारी भी नदारद हो जाते हैं। 20 मई को डीएम अरविंद कुमार वर्मा ने जलजमाव की समस्या को लेकर मोहल्ले का निरीक्षण किया था।

उनके समक्ष नप के अधिकारियों ने बंद पड़े कैनालों व नालाें की सफाई शुरू कर दी। लेकिन उनके जाते ही नप के अधिकारी भी चलते बने। सफाई के नाम पर अधिकारियों को दिखाने के लिए सिर्फ जलकुंभी काे हटाया गया है। लेकिन नाला उड़ाही का कार्य नहीं किया गया। जब तक कैनालों व नालों की 10 फीट की गहराई कर सफाई नहीं कराई जाएगी तब तक पूर्ण रूप से पानी की निकासी नहीं हाे पाएगी।

सफाई के नाम पर प्लास्टिक हटाई है
जब तक स्टेशन कैंपस के कैनाल व नाले में जमा मलवे की सफाई नहीं होगी तब तक पानी का निकासी संभव नहीं है। रेलवे बजरंग बली मंदिर के पास से 12 नंबर गुमटी तक गहराई से सफाई करानी होगी और ओवरब्रिज के पास होम पाइप को हटाकर पुलिया बनाना होगा तभी पानी का बहाव तेज होगा। डीएम के निरीक्षण के दौरान िगम कर्मी कॉलोनी गेट के पास कैनाल की सफाई के लिए जेसीबी लगा दी लेकिन डीएम के जाने के साथ ही जेसीबी के साथ सभी गायब हो गए। -शैलेंद्र झा, कॉलोनी निवासी

खानापूर्ति कर चले जाते कर्मी, हम परेशान होते हैं
बरसात शुरू होते ही घर के भीतर बेड रूम में दो फीट से ज्यादा पानी आ जाता है। इसके साथ ही सांप-बिच्छु व कीड़े का प्रकोप बढ़ जाता है। इस कारण हर वर्ष अपना घर छोड़ना पड़ता है। अगर इस बार भी बरसात से पूर्व सही तरीके से कैनालों की सफाई नहीं हुई तो इस बार भी हर हाल में घर छोड़ना होगा। अधिकारी के निर्देश पर सफाई के नाम पर खानापूर्ति कर नगर निगम के कर्मी गायब हो जाते है। बारिश होने के बाद हमें पलायन करना पड़ता है। -अनुराधा झा, कॉलोनी निवासी

सफाई के लिए एक सप्ताह का समय दिया है
नगर निगम के कर्मियों को सफाई के लिए एक सप्ताह का समय दिया गया है। शहर से जलजमाव की समस्या को दूर करने को लेकर नाला के निर्माण में भी तेजी लाने को कहा गया है। एक सप्ताह बाद फिर निरीक्षण किया जाएगा। -अरविंद कुमार वर्मा, डीएम

खबरें और भी हैं...