बांध के रिपेयरिंग में हो रही लापरवाही:मोतिहारी में नियम को भी ताक पर रखा गया, 25 लाख की लागत से रिपेयरिंग

मोतिहारी5 महीने पहले

मोतिहारी के अरेराज अनुमंडक क्षेत्र से हो कर गुजरने वाली गंडक नदी के बांधो में कटाव रोधी कार्य चल रहे हैं। तीन करोड़ की 25 लाख की लागत से इसका मरम्मती का कार्य चल रहा हैं। इस कार्य मे घोर लापरवाही सामने आई है । जहां नियम को ताख पर रख कर इस कार्य को किया जा रहा हैं। जिसके कारण यहां के लोगो को फिर से बाढ़ का खतरा सताने लगा है।

संग्रामपुर से हो कर गुजड़ने वाली गंडक नदी पुछरिया बाबु टोला के पास बांध में कटाव रोधी काम किया जा रहा हैं। कारण की।पिछले वर्ष भी यहां बाढ़ ने कटाव किया था, इसी को।लेकर इन बार इसे इस वर्ष बांध को मजबूत करने के लिए उसका रिपेरिंग किया जा रहा हैं।

बांध मरम्मती में जाल और जियो बैग केवल दिखावा

बतादे की बांध की मजबूती तब बढ़ती हैं जब नीचे से ही जियो बैग में बालू डाल कर उसे अच्छे से जाल से बांधा जाता हैं। ताकि जब नदी कटाव करे तो उसे रोक।सके, लेकिन यहां निचे में सीमेंट के बोरा में बालू भर कर ऐसे हो थाक लगा दिया जा रहा हैं, जैसे यह उपड आ रहा है तो उसे दिखावे के लिए जियो बैग में बालू को भर कर जाल से घेड़ा जा रहा हैं। ताकि अधिकारी और आम लोगो को लगे कि काम सही हो रहा हैं।

एसडीओ भी मानते हैं सही हो रहा काम

बांध में कटाव रोधी हो रहे कार्य को देखने पहुचे एसडीओ के हिसाब से बांध का कटाव रोधी कार्य ठीक हो रहा हैं। जबकि उनके आखों के सामने ही कार्य मे घोर अनियमितता बरता जा रहा हैं।अब सवाल उठता है कि जब अधिलारियो को ही गलत काम नहीं दिख रहा हैं तो भीड़ भगवान ही मालिक हैं।

क्या कहते हैं ग्रामीण

ग्रामीण अरुण तिवारी, देवेंद्र पांडे, रंजीत तिवारी आदि ग्रामीणों ने बताया कि जब जब बाढ़ आती है तो बांध कमजोर होने के कारण हम लोग दहशत में रहते हैं। लेकिन जिस तरह से बांध का काम हो रहा हैं वहः आने वाले दिन में भी इसका यही हाल रहेगा।

खबरें और भी हैं...