• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Motihari
  • The Driver Also Got 3 Bullets In The Quick Firing, In The Same Condition The Car Reached The Hospital By Driving 40 Km

गोली लगने के बाद मालिक को बचाने 40km दौड़ाई कार:मोतिहारी में फायरिंग में ठेकेदार की मौत; जिंदा समझकर अस्पताल ले गया ड्राइवर

मोतिहारी7 महीने पहले

मोतिहारी में 3 गोलियां लगने के बाद भी अपने मालिक को बचाने के लिए ड्राइवर ने 40KM तक कार चलाई। इतना ही नहीं जख्मी हालत में उसने अपराधियों का पीछा भी किया, लेकिन वो भाग निकले। खुद जख्मी होने के बाद भी उसने अपने से पहले मालिक की जान की परवाह की और कार चलाते हुए अस्पताल ले गया। चकिया ओवरब्रिज के पास सोमवार शाम बाइक सवार बदमाशों ने ठेकेदार जयप्रकाश प्रसाद और उनके ड्राइवर राधेश्याम कुमार पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी। तीन गोलियां ठेकेदार के सिर, पेट और बांह में लगी।

पोल में हिस्सा लेकर खबर पर अपनी राय दे सकते हैं।

गंभीर हालत में ड्राइवर का इलाज जारी
ड्राइवर राधेश्याम काे भी तीन गोलियां लगी हैं। खुद जख्मी हाेने के बाद भी ड्राइवर ने हिम्मत नहीं हारी। वह गाड़ी लेकर 40 किमी दूर एक नर्सिंग होम पहुंचा। जहां डॉक्टरों ने ठेकेदार जयप्रकाश काे मृत घोषित कर दिया। ड्राइवर का इलाज चल रहा है। लोग उसकी हिम्मत की तारीफ करते नहीं थक रहे हैं।

ठेकेदार जयप्रकाश प्रसाद ड्राइवर के साथ पटना आ रहे थे।
ठेकेदार जयप्रकाश प्रसाद ड्राइवर के साथ पटना आ रहे थे।

जयप्रकाश डुमरियाघाट थाना क्षेत्र के सरोतर में रहते थे। वह छतौनी थाने के बरियारपुर स्थित आवास से पटना के लिए निकले थे। ड्राइवर घोड़ासहन थाना क्षेत्र के भोडहर का रहने वाला है। ड्राइवर की बाई बांह, सीने और एक गोली बाएं जांघ में लगी है। वह रहमानिया नर्सिंग होम में भर्ती है। चकिया पुलिस ने घटनास्थल से तीन खोखे बरामद किए हैं। सीसीटीवी फुटेज से बदमाशों की पहचान की कोशिश की जा रही है।

जयप्रकाश की सड़क, भवन निर्माण सहित कई विभागों की ठेकेदारी का काम मोतिहारी, बेतिया, शिवहर और सीतामढ़ी सहित अन्य जिलों में है। वह गिट्टी, बालू के भी रैक चकिया, बेतिया और अन्य जगहों पर मंगवाते थे।

फायरिंग में घायल ड्राइवर राधेश्याम।
फायरिंग में घायल ड्राइवर राधेश्याम।

जानिए पूरी कहानी ड्राइवर की जुबानी
राधेश्याम ने बताया कि वो और जय प्रकाश छतौनी थाना क्षेत्र बरियारपुर आवास से पटना जा रहे थे। रास्ते में ठेकेदार ने चकिया में अपने हॉट मिक्सर प्लांट पर करीब एक घंटे रुक कर वहां काम देखा और फिर दोनों पटना के लिए निकल गए। इसी दौरान हम चकिया ओवर ब्रिज के पास रुके। एक बिरयानी हाउस से बिरयानी ली और गाड़ी में बैठकर खा रहे थे। तभी काले रंग की एक बाइक से दो अपराधी आए और अंधाधुंध फायरिंग करने लगे।

मुझे कुछ समझ ही नहीं आ रहा था। मेरे और मालिक के शरीर से खून निकल रहा था। इतना समझ में आ रहा था कि दोनों को गोली लगी है। तीन गोलियां लगने के बाद भी उसने इनोवा से अपराधियों की बाइक का पीछा करना शुरू कर दिया। अपराधी बाइक से मोतिहारी की तरफ भाग रहे थे। इस दौरान अचानक एक ऑटो के बांई ओर कट मार दिया। हमारी इनोवा ऑटो में टकरा गई। अपराधी भी गिर गए। जब तक लोग आते, अपराधी संभले और भाग निकले। उसी हालत में गाड़ी को लेकर लगभग 40 किलोमीटर की दूरी तय कर मोतिहारी के नर्सिंग होम में भर्ती हुए, लेकिन जय प्रकाश भैया मर चुके थे।

घटनास्थल से बरामद 7.62 एमएम की गोली।
घटनास्थल से बरामद 7.62 एमएम की गोली।

सदर एसडीपीओ अरुण कुमार गुप्ता ने बताया कि एसपी डॉ. कुमार आशीष ने चकिया एसडीपीओ के नेतृत्व में एसआईटी का गठन किया है। घटनास्थल सहित अन्य जगहों से सीसीटीवी फुटेज निकाला गया है। बदमाशों की पहचान की जा रही है। जल्द ही अपराधी गिरफ्तार हाेंगे।