बिहार का पहला वानिकी कॉलेज बनकर तैयार:232 करोड़ की लागत से बना है, अब उद्घाटन का इंतजार; पर्यावरण विज्ञान की पढ़ाई होगी

मुंगेरएक महीने पहले
96 एकड़ में बना वानिकी कॉलेज। - Dainik Bhaskar
96 एकड़ में बना वानिकी कॉलेज।

मुंगेर में सदर प्रखंड स्थित श्रीमतपुर पंचायत में 25 दिसंबर 2019 को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 96 एकड़ में बने रहे वानिकी कॉलेज का शिलान्यास किया था। इस भवन को ईको फ्रेंडली और भूकंप रोधी बनाया गया है। निर्माण पर लगभग 231 करोड़ 83 लाख 32 हजार की लागत है। वानिकी कालेज में शीघ्र ही देश भर के शोधार्थी शोध करेंगे। इसमें शोधार्थियों के लिए शोधार्थी भवन, क्लास रूम, प्रयोगशाला, आवास का लगभग कार्य पूरा कर लिया गया। अब यह कॉलेज उद्घाटन का बाट जोह रहा है।

हालांकि, सूत्रों के मुताबिक या कॉलेज का उद्घाटन आगामी जून महीने में 10 तारीख के अंदर हो सकती है। जिस की तैयारी को लेकर प्रशासनिक अधिकारी भी अब लगातार कॉलेज का दौरा करने लगे हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा या कॉलेज का उद्घाटन किया जाएगा। हालांकि, प्रशासनिक अधिकारी के द्वारा अब तक इसकी पुष्टि नहीं की गई है। बिहार में वानिकी कॉलेज एक अपने ढंग का अलग कॉलेज होगा।

इसकी आधारभूत संरचना भी देश-दुनिया के लोगों का ध्यान अपनी ओर आकृष्ट करेगी। योग विद्यालय की तरह इसकी भव्यता और सुंदरता को देखकर भी लोग मुग्ध होंगे। वहीं मुंगेर विधायक प्रणव कुमार ने बताया की यह अपने तरह का एक अलग महाविधालय होगा। जहां छात्र न सिर्फ फॉरेस्ट्री और एग्रीकल्चर की पढ़ाई कर पाएंगे बल्कि उस पे शोध भी कर पाएंगे। आज जो छात्र दूसरे देश के अलावा अन्य राज्यों में जा के पढ़ाई करते है। वो पलायन भी रुकेगा और यह कॉलेज मुंगेर को एक और गति प्रदान करेगा।

बता दें यह वानिकी कॉलेज में फारेस्ट्री, बीएससी फारेस्ट्री, एमएससी पर्यावरण विज्ञान में सर्टिफिकेट व डिप्लोमा कोर्स की पढ़ाई होगी। राज्य के सरकार द्वारा आयोजित प्रवेश परीक्षा के माध्यम से इसके लिए छात्रों का चयन किया जाएगा। वानिकी कालेज बिहार कृषि विश्वविद्यालय, सबौर के अधीन है। कालेज में प्राचार्य शिक्षकों की नियुक्ति राज्य सरकार की ओर की जाएगी। कॉलेज के अस्तित्व में आने से मुंगेर ही नहीं, बल्कि राज्यभर में वानिकी को बढ़ावा मिलेगा।