मुंगेर में नक्सलियों के खिलाफ छापेमारी का मामला:एसपी बोले- माओवादी दस्ता के जोनल कमांडर प्रवेश दा भी पहुंचा था

मुंगेर5 महीने पहले

मुंगेर में एसपी जगुनाथरेड्डी जगारेड्डी ने बताया कि सूचना मिली थी कि पैसरा गांव से लगभग तीन किलोमीटर दक्षिण सुगी पहाड़ (मठ पहाड़) पर माओवादी दस्ता के जोनल कमांडर प्रवेश दा एवं उसके सहयोगी नारायण कोड़ा अपने दस्ता के साथ इकट्ठा हुए हैं। वो किसी अप्रिय घटना को अंजाम देने की रणनीति बना रहे हैं।

इसी सूचना पर एसटीएफ जमालपुर, 207 कोबरा एवं मुंगेर पुलिस द्वारा छापेमारी की गयी। 26 जून की मध्यरात्री सखोल के रास्ते पहाड़ पर चढ़ा। छापेमारी दल को आते देख माओवादियों का दस्ता हथियार के साथ जंगली पहाड़ी रास्तों का सहारा लेकर भाग निकाला। पुलिस बल द्वारा कुछ दूर नक्सलियों का पीछा किया गया। लेकिन सभी नक्सली भाग निकले।

मुंगेर जिला अंतर्गत लड़ैयाटांड थाना क्षेत्र के पैसरा गांव से तीन किमी दक्षिण सुगी पहाड़ (मठ पहाड़) पर नक्सलियों की सूचना पर रविवार एवं सोमवार को छापेमारी अभियान चलाया गया। जहां से पुलिस ने 3 आईडी बम के साथ ही 967 जिंदा कारतूस बरामद किया।

जबकि, भारी मात्रा में दवाईयों के साथ ही अन्य सामान जब्त किया गया जो लंबे समय से वहां छिपाकर नक्सलियों ने रखा था। निगरानी के लिए वहां पर वायरलेस सिस्टम वाला मुवेवल सीसीटीवी कैमरा भी लगाया गया था। ताकि वहां की हर गतिविधि पर नक्सली नजर रख सके हालांकि इस छापेमारी से नक्सलियों के आगे की योजना पर पानी फिर गया।

नक्सलियों के भाग जाने के बाद पुलिस टीम ने टारगेट एरिया में छापेमारी की। पुलिस ने 3 आईडी बम बरामद किया। जबकि 967 जिंदा कारतूस, 1 कमांड तंत्र ट्रिगर, 1 मोबाइल फोन, 1 बड़ा साइज का टेंटेज बैकपैक, 5 पिट्ठु बैग, 3 ऊलन जैकेट, कंप्यूटर की कोर्ड, सोल्डिंग मशीन, वायरलेस मुवेबल कैमरा, 11 एम सेल, 1 बॉकी टॉकी सहित अन्य सामान बरामद किया गया. जबकि वहां से भारी मात्रा में दवाईयां भी जब्त की गयी है. जिसमें एंटीवाइटिक सुई, ब्लड रोकने वाली दवा व सूई, आइवी सेट, स्लाइन बोतल, डिस्पोजल सिरिंच सहित जीवन रक्षक दवाइयां शामिल है।

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि छापेमारी के दौरान 3 आईडी बम बरामद किया गया। एक टिफिन बम, एक प्लास्टिक लिपटे दबाव वाला आईईडी बम बरामद किया गया। 3 आईडी की श्रृंखला जिसमें 20 गोले शामिल हैं उसे बरामद किया गया। इसकी गंभीरता को ध्यान में रखते हुए बीडीडी टीम 207 कोबरा द्वारा डेटोनेटर नंबर 33 एवं टीएमटी स्लेव-1 का इस्तेमाल करते हुए नष्ट किया गया।

पुलिस अधीक्षक जगुनाथरेड्डी जलारेड्डी ने बताया कि पेसरा और चोरमारा में सीआरपीएफ कैंप खुलने के बाद लगातार नक्सलियों के खिलाफ छापेमारी हो रही है। दबाव में आकर तीन नक्सलियों ने पिछले दिनों सरेंडर किया था। उन्होंने नक्सलियों से अपील किया कि आत्मसमर्पण कर सभी समाज की मुख्यधारा से जुड़ जाय नहीं तो पुलिस की कार्रवाई झेलने के लिए तैयार रहें।