अनदेखी:एक कमरे व बरामदे में तीन क्लास हो रहीं, प्लस टू में 10 शिक्षक, पढ़ाई ठप

मनोज कुमार| मुंगेर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
गांधी उच्च विद्यालय कुतलुपुर। - Dainik Bhaskar
गांधी उच्च विद्यालय कुतलुपुर।
  • दो कमरे वाले प्लस टू गांधी उच्च विद्यालय कुतलुपुर में भवन के अभाव में पढ़ाई बंद
  • विभागीय दरयादिली: कमरे हैं नहीं, 10 शिक्षक, 1 क्लर्क, 2 आदेशपाल पदस्थापित

एक तरफ सरकार जहां बालिका शिक्षा पर जोर देकर सभी बच्चियों को शिक्षित करने के लिए अभियान चला रही है। वहीं जिला मुख्यालय से 40 किलोमीटर दूर गंगापार सुदूर दियारा स्थित कुतलुपुर पंचायत में शिक्षा की स्थिति बदहाल है। कुतलपुर दियारा में स्थित प्लस टू गांधी उच्च विद्यालय की स्थिति बदहाल है। 3 कमरों वाले इस उच्च विद्यालय में एक कमरा कार्यालय के लिए तथा एक कमरा प्लस टू का सामान रख कर स्टोर रूम बना दिया गया है। 1 कमरा और बरामदा में उच्च विद्यालय में दसवीं तक की पढ़ाई छात्र-छात्रा करते हैं। विद्यालय में नवम व दशम वर्ग मिलाकर नामांकित बच्चों की संख्या 125 है, जबकि प्लस टू में 19 बच्चे नामांकित हैं। प्लस टू उच्च विद्यालय में 10 शिक्षक भी पदस्थापित हैं। परंतु भवन के अभाव में प्लस टू की पढ़ाई नहीं हो पाती है। प्लस टू की पढ़ाई के लिए पंचायत के छात्र व छात्राएं 12 किलोमीटर दूर बेगूसराय जिलान्तर्गत बलिया उच्च विद्यालय जाती हैं। ग्रामीण अमरेश चौधरी बताते हैं कि फिलहाल बाबूराम सिंह टोला की 05 छात्राएं बलिया उच्च विद्यालय प्लस टू की पढ़ाई करने 12 किलोमीटर दूर जाती हैं।

सांसद के जनसंवाद में सामने आई हकीकत
इसे विभाग की दरियादिली ही कहिए कि जिस प्लस टू विद्यालय में कमरा नहीं है उस विद्यालय में 10 शिक्षक, 1 क्लर्क और 2 आदेशपाल को पदस्थापित कर रखा है। गंगा पार सुदूर दियारा में कोई अधिकारी नहीं पहुंचते थे। शुक्रवार को जदयू के प्रदेश सचिव नचिकेता मंडल के पहल पर मुंगेर सांसद ललन सिंह जब कुतलुपुर पंचायत जनसंवाद के लिए पहुंचे तो ग्रामीणों ने समस्या को सांसद के सामने उठाया।

गांधी उच्च विद्यालय कुतलुपुर के कमरे में जैसे- तैसे रखा ब्रेंच।
गांधी उच्च विद्यालय कुतलुपुर के कमरे में जैसे- तैसे रखा ब्रेंच।

बोले बीईओ- 4 शिक्षकों को दूसरे जगह किया प्रतिनियुक्त
बीईओ दिनेश जायसवाल ने बताया कि प्लस टू गांधी उच्च विद्यालय भवन के निर्माण का प्रस्ताव भेजा गया है। स्वीकृति मिलते ही भवन निर्माण का कार्य कराया जाएगा। 10 शिक्षक के पदस्थापन के संबंध में बताया कि उस विद्यालय में पदस्थापित 04 शिक्षकों को दूसरे विद्यालय में प्रतिनियुक्त किया गया है। जब उनसे यह पूछा गया कि मध्य विद्यालय जाफरनगर में शिक्षक जाते ही नहीं हैं तो कन्नी काटते हुए बोले जानकारी नहीं है देखते हैं।

लौट चुकी है प्लस टू भवन निर्माण के लिए आई ~39.50 लाख की राशि
गांधी उच्च विद्यालय कुतलुपुर को प्लस टू का दर्जा मिलने के बाद वर्ष 2008-09 में भवन निर्माण के लिए 39.50 लाख रुपया विभाग द्वारा विद्यालय को आवंटित हुआ था। परंतु तत्कालीन प्रधानाध्यापक और स्थानीय कुछ लोगों की खींचातानी के कारण भवन निर्माण के लिए आई राशि लौट गई। फिलहाल 10 कट्‌ठा वाले उक्त विद्यालय में पड़ोस के ग्रामीण ने अतिक्रमण भी कर रखा है।

कुतलुपुर दौरा के दौरान ग्रामीणों ने भवन के अभाव में विद्यालय में प्लस टू की पढ़ाई नहीं होने की बात बताई थी। इसे गंभीरता से लेते हुए जिला शिक्षा पदाधिकारी को भवन निर्माण शीघ्र कराने का निर्देश दिया गया है। - राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन िसंह, सांसद, मुंगेर लोकसभा।

खबरें और भी हैं...