जलमीनार से दो महीने से जलापूर्ति ठप:आमलोगों को पीने के लिए नहीं मिल रहा है शुद्ध पेयजल

आदापुर23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
आदापुर में बंद पड़ी हुई पानी की टंकी। - Dainik Bhaskar
आदापुर में बंद पड़ी हुई पानी की टंकी।

तकनीकी खराबी का हवाला देकर स्थानीय प्रखंड मुख्यालय में पीएचईडी द्वारा स्थापित जलमीनार से बीते दो महीनों से पानी की आपूर्ति बंद हो गई है। जिसके कारण आमलोगों को पीने के लिए स्वच्छ जल के लाले पड़े हैं। इसका मुख्य कारण मोटर में आई खराबी बताया जा रहा है। नतीजतन स्थानीय लोगों के अलावा श्यामपुर बाजार सहित करीब 7 वार्डों में पानी की आपूर्ति पूर्णतः ठप है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस जल मीनार को संचालित करने के लिए विभागीय स्तर पर कोई ठोस ऑपरेटर नही होने से जैसे-तैसे ऑपरेटर के भरोसे किसी तरह जलापूर्ति तो कराया जाता था, परन्तु लोगों को नियमितरूप से पानी अब भी नही मिल पाता है। ऐसे में आमलोगों के लिए करोड़ों की राशि खर्च कर लगाए गए प्रखंड का यह एकलौता जलमीनार विभागीय उदासीनता के कारण महज शोभा की वस्तु बनकर रह गई है।

इसके अलावा लोगों के घरों तक इस जलमीनार से जलापूर्ति के दौरान भी विभागीय स्तर पर व्यापक अनियमितता बरतने का मामला पूर्व में ही उजागर हुई थी। जिसको लेकर कई दफे जांच भी हो चुकी है। विदित हो कि पीएचईडी के द्वारा स्थानीय प्रखंड मुख्यालय का एकलौता इस जलमीनार का शिलान्यास वर्ष 2006 में ही हुआ, बावजूद विभागीय पेंच व अनियमितता की भेंट चढ़ चुके इस जल मीनार से अब तक सम्पूर्ण रूप से लोगों को शुद्ध पेयजल नसीब नही हो सका।

आश्चर्य की बात है कि जब भी इसको लेकर आमजनों के द्वारा शिकायतें की जाती है तो विभाग के अधिकारियों के द्वारा इसके पाईप की मरम्मती व मोटर में तकनीकी खराबी का हवाला देकर लिंकेज को ठीक कराने की बात कही जाती है। जबकि वास्तविक बात यह है कि यह जलमीनार अपने निर्माण काल से ही अनियमितता की भेंट चढ़कर रह गया है। इस बाबत पीएचईडी के जेई म.अख्तर हुसैन से पूछे जाने पर हमेशा ही तकनीकी खराबी को शीघ्र ही दुरुस्त कराकर लोगों को सुचारू रूप से जलापूर्ति शुरू करने की बात कही जाती है।

खबरें और भी हैं...