पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Muzaffarpur
  • Alinagar
  • The Construction Of Alinagar Police Station Could Not Be Completed Even In 5 Years Due To The Arbitrariness Of The Construction Agency, The Problem Being Faced

परेशानी:निर्माण एजेंसी की मनमानी से 5 साल में भी पूरा नहीं हो सका अलीनगर थाने का भवन निर्माण, हो रही परेशानी

अलीनगर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • थाने का कार्य दो कमरे के सामुदायिक भवन में चल रहा

अलीनगर थाने की आलीशान बिल्डिंग बनने के बाद भी उसे दाे वर्षों से सुपुर्द नहीं किया जा रहा है। पिछले दिनों जब पुलिस प्रशासन ने इसकी खोज-खबर ली, तब बेनीपुर के तत्कालीन एसडीपीओ अंजनी कुमार सिंह ने 22 अगस्त को भवन निर्माण का निरीक्षण किया। उन्होंने निर्माण कार्य की गुणवत्ता में कई प्रकार की गड़बड़ी पाई। तब कार्य कराने वाले कर्मियों को फटकार लगाई। पुलिस लाइन के रक्षित डीएसपी जेएन ठाकुर ने भी भवन को हैंड ओवर करने से पूर्व निरीक्षण करने पहुंचे, तो कई प्रकार की कमियां देखकर एजेंसी को दुरुस्त कराने का निर्देश दिया। अभी तक वह कार्य जारी है। एक तो पहले ही बहुत देर हो चुकी है, दूसरा कमियों को दूर करने में देरी से थाने के कर्मियों में खीज उत्पन्न होने लगी है।

कारण कि थाने का कार्य दो कमरे के सामुदायिक भवन में चल रहा है। जहां आम लोगों की बात तो दूर, पुलिस पदाधिकारियों को भी बैठने के लिए पर्याप्त जगह नहीं मिल पाती है। बताया जाता है कि वर्ष 1992 में अलीनगर ओपी की स्थापना हुई थी। 2015 में यहां के विधायक अब्दुल बारी सिद्धिकी ने वित्त मंत्री का कार्यभार संभालने के बाद इस ओपी को थाने का दर्जा दिलवाया। इसके भवन के लिए पर्याप्त राशि की व्यवस्था भी करवाई। 2016 में नए भवन बनाने का कार्य शुरू हुआ। इसे दो साल में पूरा करना था। लेकिन निर्माण एजेंसी की लेटलतीफी के कारण धीमी गति से कार्य शुरू हुआ। पांच साल हो गए, आज तक निर्माण अधूरा ही है। थाने की नई बिल्डिंग के साथ ही आवासीय कॉलोनी का भी निर्माण कराया गया है। आवासीय परिसर में पदाधिकारियों ने रहना भी प्रारंभ कर दिया। लेकिन कार्यालय का कार्य अब तक शुरू नहीं हाे सका है। कंप्यूटर सेट तो यहां 2020 में ही उपलब्ध करा दिया गया था। लेकिन उसका संचालक आज तक नहीं होने के कारण कोई भी काम कंप्यूटर से नहीं किया जाता है। भवन के संबंध में थानाध्यक्ष विजेंद्र कुमार बृजेश से जब पूछा, तो उन्होंने बताया कि भवन तो बनकर तैयार है। लेकिन कुछ छोटी-छोटी कार्य अधूरे हैं। जिसे निर्माण एजेंसी के प्रतिनिधियों के द्वारा ठीक करवाया जा रहा है, जो जल्द ही पूरा कर भवन सौंप देगा। उसके बाद यहां से थाना का कार्य प्रारंभ कर दिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...