बबलू-डब्लू के इलाके में अब दिखे 2 शावक:VTR के पास शावकों को देख रोमांचित हो रहे लोग, लेकिन सावधान रहने की चेतावनी

बगहा6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
लोगों ने बताया कि यह शावक बबलू और डब्लू के हो सकते हैं। - Dainik Bhaskar
लोगों ने बताया कि यह शावक बबलू और डब्लू के हो सकते हैं।

VTR अब जानवरों से गुलजार दिखने लगा है। आम दिनों में यहां आने वाले पर्यटकों को जानवर देखने के लिए जंगल सफारी का सहारा लेना पड़ता है। इसके लिए उन्हें पर्यटन विभाग से गाड़ी लेना पड़ता है। इसके बदले पर्यटन विभाग को पेमेंट करना पड़ता है। लेकिन VTR में आजकल जंगली जानवर सड़कों के किनारे खूब अठखेलियां करते नजर आ रहे हैं। इसमें भालू के दो शावक लोगों को खूब भा रहे हैं।‌ स्थानीय लोगों ने बताया कि यह शावक बबलू और डब्लू के हो सकते हैं।

बताते चलें कि वाल्मीकि नगर के स्टेट बैंक मोड़ से लेकर जटाशंकर चेक नाका तक दो भालूओ को हमेशा देखा जाता है। इन दोनों ने कभी किसी को नुकसान नहीं पहुंचाया है। लोग इन्हें प्यार से बबलू और डब्लू कहते हैं। जहां पर बबलू और डब्लू को देखा जाता था अब वहां दो शावकों को भी देखा जा रहा है।

अठखेलियां करते हुए लोगों ने बनाया वीडियो
कोरोना के मद्देनजर वीटीआर को 6 जनवरी से पर्यटकों के लिए बंद कर दिया गया है। इस वजह से वीटीआर के दर्शनीय स्थलों पर पर्यटकों की चहलपहल बंद हो गई है। इलाके में सन्नाटा पसर गया है। ऎसे में जटाशंकर चेक नाका से छाता चौक के जंगल कैम्प के बीच लगातार दो शावकों को विचरण करते देखा जा रहा है। मॉर्निंग वॉक पर निकलने वाले लोग दोनों शावकों को देख रोमांचित हो रहे हैं। इन दोनों का कई लोगों ने वीडियो भी बनाया है।

रोमांच के साथ सावधान रहने का भी निर्देश हालांकि शावकों के साथ मादा भालू के होने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है। शावकों के साथ मादा भालू काफी आक्रामक होती हैं। ऐसी स्थिति में वहां शावकों को खड़ा होकर देखना भी खतरनाक हो सकता है।

वाल्मीकिनगर के रेंजर महेश प्रसाद ने बताया कि वन क्षेत्र से रिहायशी क्षेत्र के सटे होने के कारण वन्यजीवों का विचरण आम बात है। लोगों को आगाह किया जा रहा है कि वे सजग और सतर्क रहें।

खबरें और भी हैं...