बगहा के अस्पताल में एक डॉक्टर कर रहे सबका इलाज:रोस्टर में 3 शिफ्ट में 3-3 डॉक्टरों की है ड्यूटी, कुल 14, लेकिन एक ही डॉक्टर 24 घंटे करते हैं इलाज

बगहाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बगहा अनुमंडलीय अस्पताल में 14 डॉक्टर तैनात हैं, जिनकी रोस्टर के अनुसार ड्यूटी भी लगाई गई है। - Dainik Bhaskar
बगहा अनुमंडलीय अस्पताल में 14 डॉक्टर तैनात हैं, जिनकी रोस्टर के अनुसार ड्यूटी भी लगाई गई है।

बगहा अनुमंडलीय अस्पताल एक ऐसा अस्पताल है, जहां सभी बीमारियों का इलाज एक ही डॉक्टर कर देते हैं। यह चौंकाने वाली बात नहीं, बल्कि हकीकत है। ऐसा नहीं कि इस अस्पताल में सिर्फ एक ही डॉक्टर कार्यरत हैं। यहां पर 14 डॉक्टर कार्यरत हैं, जिसमें से चार विशेषज्ञ हैं। इसके बावजूद इस हॉस्पिटल में एक दिन में एक डॉक्टर लगातार सभी प्रकार के मरीजों को देखते हैं।

इस अनुमंडलीय अस्पताल में 14 डॉक्टर तैनात हैं, जिनकी रोस्टर के अनुसार ड्यूटी भी लगाई गई है। इस पोस्टर को दिखाने के लिए अस्पताल की दीवार पर भी लगा दिया गया है। लेकिन ज्यादातर डॉक्टर रोस्टर का पालन नहीं करते ना ही समय से ड्यूटी आते हैं। यहां आने वाले मरीजों पर डॉक्टरों की मनमानी भारी पड़ रही है। ड्यूटी के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति हो रही है।

यहां आने वाले मरीजों पर डॉक्टरों की मनमानी भारी पड़ रही है।
यहां आने वाले मरीजों पर डॉक्टरों की मनमानी भारी पड़ रही है।

9:30 तक ओपीडी में लटका रहा ताला

शनिवार को सुबह 9:30 बजे तक ओपीडी में एक भी डॉक्टर नहीं था। उनके चैंबर के बाहर ताला लटका था। मरीज बाहर बैठे थे। इस बारे में जब अनुमंडलीय उपाधीक्षक डॉक्टर एसपी अग्रवाल से रोस्टर अस्पताल के व्यवस्था के बारे में जब जानकारी ली गई तो उन्होंने कैमरा पर आने से बिल्कुल मना कर दिया। हालांकि बातों-बातों में उन्होंने बहुत कुछ कह दिया जो कैमरे में रिकॉर्ड हो गया।

उपाधीक्षक डॉक्टर एसपी अग्रवाल।
उपाधीक्षक डॉक्टर एसपी अग्रवाल।

अन्य चिकित्सकों के बदले उपाधीक्षक कर रहे थे ड्यूटी

शनिवार को सुबह के 9:30 में ड्यूटी पर तैनात कोई भी डॉक्टर अस्पताल में नहीं पहुंचे थे। तीन चिकित्सकों की ड्यूटी थी। हालांकि सिर्फ उपाधीक्षक डॉ. एसपी अग्रवाल इमरजेंसी में ड्यूटी पर तैनात थे, जिनकी रोस्टर में ड्यूटी नहीं थी। रोस्टर की बात पूछते ही यह झल्ला उठे. उन्होंने कहा कि अन्य डॉक्टरों के जगह पर मैं ड्यूटी कर रहा हूं।

उन्होंने कहा कि रोस्टर से कोई भी डॉक्टर काम नहीं करेगा। रोस्टर ऐसे ही चिपका दिया गया है। उस रोस्टर से कोई लेना-देना नहीं है। अगर मैं डॉक्टर के ऊपर रोस्टर के अनुसार काम करने के लिए दबाव बनाता हूं, तो वह लोग काम छोड़कर चले जाएंगे।

लगातार 24 घंटे काम कर 7 दिनों का कर लेते हैं कोटा पूरा

बगहा अनुमंडलीय अस्पताल में 14 चिकित्सक पदस्थापित हैं जिसमें चार चिकित्सक विशेषज्ञ हैं। बाकी चिकित्सक MBBS हैं. सभी चिकित्सकों की रोस्टर के अनुसार ड्यूटी बांटी गई है। सभी को हफ्ते में तीन दिन यानि तीन शिफ्ट में ड्यूटी दी गई है। इस रोस्टर को प्रकाशित भी कर दिया गया है। लेकिन धरातल पर कुछ और ही खेल चलता है।

यहां पदस्थापित डॉक्टर आते हैं. लगातार 24 घंटे तक तीन शिफ्ट में अपनी ड्यूटी करते हैं और फिर यहां से चले जाते हैं। इस प्रकार एक डॉक्टर अपने सात दिन की ड्यूटी एक दिन में पूरी कर यहां से निकल जाते हैं।

खबरें और भी हैं...