बगहा में VTR भ्रमण के लिए टूरिज्म पैकेज की शुरुआत:सैलानियों को तीन दिवसीय पैकेज के तहत मिलेगा VTR देखने का मौका, 22 अक्टूबर से पैकेज की शुरुआत

बगहा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वाल्मीकि टाइगर रिजर्व, बगहा। - Dainik Bhaskar
वाल्मीकि टाइगर रिजर्व, बगहा।

वाल्मीकि टाइगर रिजर्व (VTR) में भ्रमण के लिए 22 अक्टूबर से इको टूरिज्म पैकेज की शुरुआत हो रही है। इसके लिए तीन तरह का पैकेज का शुभारंभ हुआ है। ऑनलाइन बुकिंग शीघ्र प्रारम्भ की जायेगी। पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग और बिहार राज्य पर्यटन विकास निगम की ओर से इसकी शुरुआत हो रही है। इससे पहले 2 दिन का टूर पैकेज हुआ करता था। जिसमें शनिवार व रविवार शामिल था। पहले टूर पैकेज के तहत पटना से बस खुलती थी। जो पटना से वाल्मीकि नगर के लिए थी। लेकिन अब वाल्मीकि नगर पर्यटन को और बढ़ावा देने के लिए दो अतिरिक्त पैकेज इस वर्ष प्रारंभ हो रहा है। नए पैकेज में खास करके बाहर से आने वाले सैलानियों का भी ख्याल रखा गया है। इस पैकेज में आने-जाने से लेकर भोजन, ठहरने और घूमने की सुविधा भी शामिल है।

यह है पैकेज

सबसे पहले पायलट प्रोजेक्ट के रूप में पटना से वाल्मीकि नगर के लिए टूर पैकेज का शुभारंभ हुआ था। इस पैकेज के तहत सैलानी एक रात और 2 दिन वाल्मीकि नगर का आनंद उठाते थे। लेकिन अब नए पैकेज में सैलानियों को वाल्मीकि नगर में दो रात व तीन दिन रहने का मौका मिलेगा। इस पैकेज के तहत पटना से प्रत्येक शुक्रवार को दो बसे खुलेंगी। एक पटना-मंगुराहा-पटना भाया वैशाली जो तीन दिवसीय होगा। शुक्रवार, शनिवार व रविवार का समय निर्धारित किया गया है। दूसरा पटना-वाल्मीकिनगर-पटना भाया वैशाली तीन दिवसीय शुक्रवार, शनिवार व रविवार का होगा। इसके लिए सैलानियों को 45 सौ रुपया प्रति पर्यटक देना होगा।

वाल्मीकि टाइगर रिजर्व में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में शुरुआत होने वाले दो दिवसीय टूर पैकेज भी चलता रहेगा। यह पैकेज जॉब करने वाले लोगों के लिए खास करके बनाया गया था। जिसे इस वर्ष भी सुचारू रूप से चलाया जाएगा। हालांकि अब इन पर खोज को ऑनलाइन सिस्टम से जोड़ दिया गया है। पहले के ही तरह पटना से वाल्मीकि नगर के लिए शनिवार को बस व रविवार को वापस चली जाएगी। इस पैकेज के लिए पर्यटक को प्रति पर्यटक तीन हज़ार रूपया देना होगा। इसके अलावा बेतिया, वाल्मीकिनगर व मंगुराहा के लिए एक दिवसीय पैकेज का शुभारंभ हो रहा है जिसमें प्रत्येक पर्यटक 12 सौ रुपया देकर पर्यटन का आनंद ले सकेंगे।

तीन मुख्य प्रवेश द्वार

वन संरक्षक संरक्षक सह क्षेत्र निदेशक हेमकांत राय ने बताया कि जहां पर्यटकों के ठहरने की व्यवस्था है उस जगह को प्रमोट करते हुए वीटीआर में आने के 3 मुख्य प्रवेश द्वार बनाए गए हैं। पहला वाल्मीकि नगर इसमें पर्यटक इको - पार्क , जंगल सफारी , कैन्टर सफारी , साईकिल सफारी , गंडक बोट , वाल्मीकि आश्रम , कौलेश्वर झुला , गंडक बराज हाथी शेड , धार्मिक स्थलो को देख सकेंगे। दूसरा प्रवेश द्वार मंगुराहा को बनाया गया है । जहा जंगल सफारी , लालभितिया सनसेट प्वाइन्ट, भितिहरवा गाँधी आश्रम , सोफा मंदिर आदि जगहों का पर्यटक आनंद लेंगे। तीसरा गोबरधना है। यहा जंगल सफारी , वाटर फॉल , परेवादह का पर्यटक आनंद लेंगे।

खबरें और भी हैं...