बगहा-1 की पतिलार पंचायत का मामला:लाभार्थी का आरोप-वार्ड सदस्य को 11 हजार रुपए नहीं दिए तो हटवा दिया सूची से नाम

बगहा9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पीएम आवास में उगाही के आरोपों से जुड़े मामले थम नहीं पा रहे हैं। ताजा मामला बगहा -1 प्रखंड की पतिलार पंचायत से सामने आया है। इस पंचायत के वार्ड नंबर 11 की लाभार्थी लालसा देवी ने प्रखंड कार्यालय पहुंचकर आरोप लगाया कि आवास सहायक ने उससे 11 हजार रुपये की मांग की थी। रुपये नहीं दे पाने के उसका नाम लाभार्थियों की सूची से हटा दिया गया है।

चंदेश्वर साह की पत्नी लालसा का आरोप है कि वह वार्ड सदस्य गोविंद प्रसाद के पास पीएम आवास मद की राशि के बाबत जानकारी लेने गई थी। वार्ड सदस्य तकरार करने लगे। चन्देश्वर ने बताया कि वार्ड सदस्य ने उससे आवास दिलाने लिए 11हजार रुपये की मांग की। उसने वार्ड सदस्य को खोजबीन कर 700 रुपए दे दिया, वार्ड सदस्य 10 हजार रुपए और लेने की मांग पर अड़े रहे। वार्ड सदस्य ने कहा कि जब तक रुपए नहीं मिलेंगे, आवास का लाभ नहीं मिलेगा।

वार्ड सदस्य ने आवास सहायक को बोल दिया यहां नहीं रहता इस नाम का कोई भी व्यक्ति
लालसा ने बताया कि गरीबी के कारण उसका परिवार मजदूरी कर जीवन यापन करता है। कभी गांव में, तो कभी बगहा आकर मजदूरी करते हैं। इसी दौरान वार्ड सदस्य ने कथित खुन्नस के कारण आवास सहायक से बोल दिया कि उनके वार्ड में चंदेश्वर नाम का कोई व्यक्ति नहीं रहता है। उसका नाम ही सूची से हटा दिया गया। इसकी जानकारी मिलने पर वह नाम जुड़वाने के लिए वार्ड सदस्य व आवास सहायक के पास लगातार दौड़धूप करती रही है। लेकिन उसकी किसी ने नहीं सुनी।

आवास सहायक ने कहा : नहीं हुआ नाम का सत्यापन तो सूची से हटाना पड़ा लाभार्थी का नाम, आरोप गलत
आवास सहायक धर्मेंद्र शर्मा ने बताया कि वे पतिलार के वार्ड नंबर 11 में पीएम आवास के लाभार्थियों की सूची का सत्यापन करने गए थे। वहां कोई भी व्यक्ति चन्देश्वर साह के बारे में बता नहीं पाया। फलतः उसका नाम सूची से हटाना पड़ा। बाद में पता चला कि लालसा के पति चंदेश्वर का गांव में प्रचलित नाम चंदुल्ली है। अवैध उगाही से संबंधित उसका आरोप सरासर गलत है।

बोले बीडीओ - जांच के बाद होगी सख्त कार्रवाई
बीडीओ कुमार प्रशांत ने इस बाबत पूछने पर बताया कि उक्त लाभार्थी का कोई आवेदन अबतक उनके पास नहीं पहुंचा है। आवेदन मिलते ही जांच कराई जाएगी। अगर आरोप की पुष्टि हुई तो संलिप्त तत्वों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के साथ विभागीय कार्रवाई भी की जाएगी।

वार्ड सदस्य ने कहा-नहीं मांगे थे लाभार्थी से रुपए
वार्ड सदस्य गोविंद प्रसाद ने कहा कि उन पर रुपये मांगने का गलत आरोप लालसा व उसके पति ने लगाया है। उसके पति का नाम चंदेश्वर भी है, इसकी जानकारी नहीं थी। उन्हें उसके चंदुल्ली नाम की ही जानकारी थी। इसीलिए आवास सहायक को बताया था कि चंदेश्वर नाम का व्यक्ति वार्ड नंबर 11 में नहीं रहता है।

खबरें और भी हैं...