पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ग्रामीणों में गुस्सा:सिंचाई विभाग की उदासीनता से पीपी तटबंध पर खतरा बरकरार

पिपरासी6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पिपरा-पिपरासी (पीपी) तटबंध की सुरक्षा के साथ हर वर्ष सिंचाई विभाग की उदासीनता से खतरा बना रहता है। इससे तटबंध के समीप बसे गांव के लोगों के साथ आसपास के 10 किमी क्षेत्र के लोगों में भय बना रहता है। इसको ले ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त है।

वही इसकी सुरक्षा के लिए एसडीएम ने अपने निरीक्षण के दौरान तटबंध के रेन कट, रैट होल को बंद करने व तटबंध से अतिक्रमण मुक्त कराने का निर्देश दिया। एसडीएम के निर्देश के बावजूद सिचाई विभाग के अभियंताओं के कान पर जू तक नहीं रेग रहा है। इससे तटबंध पर खतरा बना हुआ है। ग्रामीणों ने बताया कि हर वर्ष बरसात के मौसम में रैट होल के कारण तटबंध से पानी का रिसाव होता है। इससे तटबंध पर भी खतरा बन जाता है। वही उस रिसाव को बचाने के लिए सिचाई विभाग सेंट बैग से मरम्मती कराता है। इसके बावजूद सिचाई विभाग उन खतरों से सिख नही ले रहा है। इससे बरसात के मौसम में तटबंध पर खतरा बना रहेगा। बगहा एसडीएम शेखर आनंद ने बाढ़ पूर्व तैयारी के तहत 19 मई को पीपी तटबंध के शून्य प्वाइंट से धनहा तक का निरीक्षण किया। इस दौरान उपस्थित सिचाई विभाग के कार्यपालक अभियंता को निर्देश दिया कि जल्द से जल्द तटबंध से अतिक्रमण मुक्त कर डैमेज प्वाइंट की मरम्मती कराए। एसडीएम के निर्देश के दो सप्ताह बाद भी तटबंध से न तो अतिक्रमण मुक्त किया गया और न ही डैमेज स्थानों की मरम्मती ही हुई। ग्रामीणों जल्द तटबंध की सुरक्षा व्यवस्था को सुदृढ़ करने की मांग की है।

खबरें और भी हैं...