पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

आफत की बाढ़:न हाथी-घोड़ा, न मोटरकार; नाव से आई बारात व रस्म अदायगी के बाद नाव से ही दुल्हन को रुखसत करा कर ले गए दूल्हे राजा

बंजरियाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बाढ़ में घिरा हुआ है बंजरिया का सिसवनिया गांव, पांच किमी नाव से दूरी तय कर पहुंची बारात

बंजरिया प्रखंड के बाढ़ ग्रस्त क्षेत्र सिसवनिया में बुधवार को एक शादी हुई। इसमें लड़के वाले नाव से बारात लेकर आए। वहीं शादी के बाद लड़की की विदाई भी नाव से ही हुई। क्योंकि इसके सिवाय दूसरा कोई उपाय ही नहीं था। बताते चलें कि सिसवनिया सजही टोला के शेख कयूम की लड़की नुसरत-जहां की शादी छौड़ादानो के जफीर आलम से तय हुई थी। उसकी तारीख फिक्स कर दी गई थी। परंतु पिछले 14 जुलाई से प्रखंड क्षेत्र में आई बाढ़ के बाद लड़के वाले आने से कतरा रहे थे। वहीं लड़की वालों ने भी सारी तैयारी कर ली थी।

शेख कयूम ने बताया कि लड़की की शादी की तैयारी पिछले एक वर्ष से कर रहा था। एक-एक सामान जुगाड़ कर लिए थे। शादी इस वर्ष नहीं होने पर काफी परेशानी बढ़ जाती। बाद में लड़के वालों ने हामी भर दी। जिस पर बुधवार को छौड़ादानो से गाड़ी से बारात भोला चौक तक आई और वहां से नाव से करीब 5 किमी यात्रा कर सिसवनिया पहुंचे। वहां सभी रस्मों को पूरा कर लड़की की विदाई नाव से ही कर दी गई। बाढ़ के पानी में घंटों नाव चलने के बाद भोला चौक पहुंचा, जहां सभी गाड़ी से छौड़ादानो के लिए रवाना हो गए।

अरेराज से आई बारात सिसवनिया नहीं पहुंची
वहीं गुरुवार को अरेराज प्रखंड के इजरा नवादा से आए बारातियों व दूल्हे ने सिसवनिया जाने से मना कर दिया। उसके बाद सिसवनिया निवासी वहाब मियां ने ट्रैक्टर पर खाने का सारा सामान लोड कर भोला चौक पर भेजा। वहां गांव के लोगों ने बारातियों को भोला चौक पर खाना बना कर खिलाया। दूल्हा भी बाढ़ के कारण ससुराल नहीं पहुंच पाए। तब बाद में लड़की को घर वाले सिसवनिया से भोला चौक नाव से ले गए। फिर वहां से उसे रुखसत किया गया।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज उन्नति से संबंधित शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में भी कुछ समय व्यतीत होगा। किसी विशेष समाज सुधारक का सानिध्य आपके अंदर सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करेगा। बच्चे त...

और पढ़ें