रबी महाअभियान का हुआ शुभारंभ:सही समय पर बीज की बुआई करने से होगा अधिक उत्पादन

बथनाहाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

प्रखंड अंतर्गत कृषि विभाग के द्वारा किसानों को सबल बनाने एवं उनके विकास के लिए रबी मौसम में कृषि विभाग बिहार सरकार के द्वारा प्रखंड स्तरीय रबी महा अभियान सह प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन प्रखंड कृषि पदाधिकारी सीताराम पासवान की अध्यक्षता में किया गया।

इस कार्यक्रम का शुभारंभ प्रखंड विकास पदाधिकारी एवं अंचलाधिकारी के द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर किया गया। कार्यक्रम में किसानों को कृषि विभाग द्वारा चलाई जा रही कल्याणकारी योजनाओं के बारे में बताया गया। साथ ही साथ रबी मौसम में उगने वाली फसलों- जैसे गेहूं की वैज्ञानिक खेती दलहन एवं तिलहन की लाभकारी खेती, मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना, आत्मा योजना, पराली प्रबंधन, जैविक खेती, प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना सहित अन्य योजनाओं के बारे में चर्चा की गई। प्रखंड विकास पदाधिकारी ने बताया गया कि किसानों को जागरूक होने की जरूरत है। इसके लिए बिहार सरकार कृषि विभाग के द्वारा किसानों को जागरूक करने के लिए इस तरह के कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है।

साथ ही पंचायत स्तर पर भी कृषि विभाग द्वारा किसान चौपाल के माध्यम से किसानों तक योजना की जानकारी एवं तकनीकी सुझाव दिलाने का काम बिहार सरकार द्वारा किया जा रहा है। ताकि किसानों को योजनाओं की सही जानकारी मिल सके और किसान उसका लाभ उठा सकें। कार्यक्रम के दौरान प्रखंड तकनीकी प्रबंधक आरडी. चौरसिया ने बताया कि आज के बदलते मौसम के परिवेश में खेती करना चुनौतीपूर्ण है। ऐसे में किसान भाइयों को जलवायु अनुकूल कृषि फसलों का चुनाव, सही समय पर बीज की बुवाई, कम पानी कम लागत में पीएमकेएसवाई योजना अंतर्गत ड्रिप सिंचाई प्रणाली लगवा कर किसान अधिक उत्पादन प्राप्त कर मुनाफा कमा सकते हैं।

साथ ही साथ किसान खेती के अलावे मधुमक्खी पालन, मशरूम उत्पादन, मछली पालन, औषधीय पौधों की खेती आदि कर अतिरिक्त मुनाफा कमा सकते हैं। इसके लिए कृषि विभाग आत्मा द्वारा किसानों को प्रशिक्षित भी किया जा रहा है। समन्वयक प्रवीण कुमार ने किसानों को जीरो टिलेज से गेहूं की बुआई करने की सलाह दी। साथ ही पराली प्रबंधन कर उससे जैविक खाद बनाकर अधिक उत्पादन करने की बात कही। इस मौके पर प्रखंड के सभी कृषि समन्वयक, किसान सलाहकार, कंप्यूटर ऑपरेटर सहित बड़ी संख्या में किसान मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...