पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पानी का कहर:बेनीपट्टी में 1 दर्जन सड़क बाढ़ के पानी के धार से टूटी, 4 दर्जन गांवों में पानी घुसने से परेशानी

बेनीपट्टी20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
चानपुरा पश्चिम-रजवा बांध के ऊपर से बहता पानी। - Dainik Bhaskar
चानपुरा पश्चिम-रजवा बांध के ऊपर से बहता पानी।
  • बांध के ऊपर से बाढ़ के पानी का हो रहा है बहाव, ऊंचे स्थानों की ओर लोगाें का पलायन शुरू

प्रखंड क्षेत्र के पश्चिमी भू-भाग के गांवों में बाढ़ के पानी में बढ़ोतरी का सिलसिला बुधवार को भी जारी रहा। उच्चैठ-समदा-सोहरौल पथ को बाढ़ के पानी की तेज धारा ने करीब 5 जगहों पर 150, 200 व 300 फीट की दूरी में तोड़ दिया है। समदा में एक जगह पर और सोहरौल में तीन से चार जगहों पर सड़क को बाढ़ के पानी ने तोड़ दिया है। इस पथ पर जगह-जगह बाढ़ के पानी का तेज बहाव होने के कारण कई गांवों का संपर्क बेनीपट्टी प्रखंड सह अनुमंडल मुख्यालय से कट गया है। करीब 50 हजार की आबादी का आवागमन प्रभावित हो गया है।

बाढ़ के पानी से घिरे समदा, सोहरौल व बिरदीपुर गांव के लोगों में सरकारी स्तर पर अब तक नाव की व्यवस्था नहीं होने के कारण प्रशासन के प्रति भारी आक्रोश व्याप्त है। वहीं प्रखंड के चानपुरा पश्चिम-रजबा बांध को सलुइस गेट के समीप बाढ़ के पानी ने 2 जगहों पर तोड़ दिया है। यहां बांध के ऊपर से पानी का बहाव हो रहा है। सहदिया-चानपुरा पथ, बेतौना-सोहरौल पथ, शिवनगर-माधोपुर पथ, सोइली-गुलरियाटोल पथ, अंधरी-परसौनी पथ, बलिया-खसियाघाट पथ, विशे-लड्डूगामा-भगवतीपुर पथ, फुलबरिया-रजघट्टा पथ, माधोपुर-बिशनपुर पथ, बनकट्टा-दामोदरपुर पथ स्थित बछराजा नदी पर निर्माणाधीन पुल के डायवर्सन सहित कई सड़कों पर पानी बह रहा है।

सड़क के क्षतिग्रस्त होने के कारण आवागमन प्रभावित हो चुका है

इन सड़कों को बाढ़ के पानी की तेज धारा ने जगह-जगह तोड़कर क्षत-विक्षत कर दिया है और आवागमन ठप पड़ा हुआ है। बिरदीपुर में लचका पुल के ऊपर से बाढ़ का पानी बह रहा है। प्रखंड के बर्री, रजघट्टा, नवगाछी, माधोपुर, रजबा, धनुषी, करहरा, करहरा डीह, सोहरौल, समदा, बिरदीपुर, उच्चैठ, बेहटा, चानपुरा, चानपुरा पश्चिम, रानीपुर, रानीपुर मतरहरी, बिशनपुर, बगवासा, भगवतीपुर, अगई, विशे लड्डूगामा, लड्डूगामा, भंगीडीह, हथियरबा, खसियाघाट, पाली उत्तर, पाली गोठ, गंगूली, मानसीपट्टी, नवटोलिया, बलिया, अंधरी, दामोदरपुर, बेतौना, कटैया, सरिसब, सिमरकोण, मेघबन, नजरा सहित 4 दर्जन गांव बाढ़ के पानी से अब तक घिरा हुआ है।

उच्चैठ गांव के कई घरों में घुसा पानी बाढ़ पूर्व तैयारी की खुल गई पोल

प्रखंड के उच्चैठ-समदा पथ स्थित उच्चैठ गांव के कई लोगों के घरों में बाढ़ का पानी घुस गया है। घरों में बाढ़ का पानी घुसने से प्रभावित लोग ऊंचे जगहों पर शरण लेकर रह रहे हैं। अधबारा समूह की धौस, खिरोई, कोकरा, थुमहानी, बछराजा, बुढ़नद आदि नदियों का पानी प्रखंड के पश्चिमी क्षेत्र के बाढ़ प्रभावित गांवों में तेजी से घुस रहा है और सड़कों को तोड़ रहा है। बाढ़ प्रभावित गांवों के पीड़ितों के बीच नाव, खाने-पीने के सामान, पशुचारा, दवा, यातायात आदि की समस्या बनी हुई है। प्रशासनिक स्तर पर बाढ़ से पूर्व की तैयारी की कलई बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में खुल रही है। बाढ़ प्रभावित गांवों में बाढ़ से बचाव की कोई व्यवस्था नहीं देखी जा रही है। बाढ़ प्रभावित गांवों में नाव तक उपलब्ध कराने में प्रशासन नाकाम साबित हो रही है।

इससे लोगों में प्रशासन के प्रति आक्रोश बढ़ रहा है। सीओ पल्लवी कुमारी गुप्ता ने बताया कि सोहरौल में एक सरकारी नाव का परिचालन हो रहा है। अंचल से दूसरी नाव सोहरौल व बिरदीपुर गांव केलिए भेजी जा रही है। सीओ ने बताया कि अगई सहित अन्य जगह पर बाढ़ से गांव को बचाने केलिए ग्रामीण लोगों के द्वारा स्वंय ही सड़क को काट दिए जाने की जानकारी मिली है।

खबरें और भी हैं...