धर्म-समाज:सिद्धपीठ उच्चैठ भगवती मंदिर, बेहटा काली स्थान में दीप जला लोगों ने मनाई दिवाली, पटाखे भी छोड़े गए

बेनीपट्टी25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
उच्चैठ भगवती मंदिर में जलाए गए दीप। - Dainik Bhaskar
उच्चैठ भगवती मंदिर में जलाए गए दीप।

प्रखंड क्षेत्र में अंधकार पर प्रकाश का विजय पर्व दीपावली शांतिपूर्ण, हर्षोल्लास व सौहार्द्रपूर्ण वतावरण में संपन्न हुआ। लोगों ने घरों, दुकानों और देवी-देवताओं के मंदिरों में दीप जलाकर व पूजा-पाठ कर दिवाली मनाई। घरों, दुकानों और मंदिरों में लोगों के द्वारा भगवान श्रीगणेश, मां लक्ष्मी व मां सरस्वती की पूजा-आराधना कर दिवाली मनाई गई। लोगों ने भगवान श्रीगणेश, माता लक्ष्मी और मां सरस्वती की पूजा कर सुख, शांति, समृद्धि, धन, वैभव व आरोग्यपूर्ण जीवन प्रदान करने की कामना की।

लोगों के द्वारा एक-दूसरे के बीच दिवाली के उपलक्ष्य में मिठाइयां बांटी गई। सरकारी व प्रशासनिक रोक के बावजूद लोगों ने खासकर नौजवानों और बच्चों ने दिवाली पर खूब आतिशबाजी की। पटाखों के धमाकों की आवाज दिवाली के दिन से लेकर देर रात तक सुनाई पड़ती रही। प्रखंड सह अनुमंडल मुख्यालय सहित प्रखंड क्षेत्र में पटाखों की दुकानों पर पटाखों की खूब बिक्री हुई।

बेहटा स्थित प्रसिद्ध काली स्थान, विश्व प्रसिद्ध सिद्धपीठ उच्चैठ भगवती स्थान, इंदिरा चौक स्थित विश्वंभर नाथ महादेव मंदिर, शिवनगर स्थित गांडीवेश्वरनाथ महादेव मंदिर, वाणगंगा स्थित वाणेश्वरनाथ महादेव मंदिर, ब्रह्मपुरा स्थित हरिहरनाथ महादेव मंदिर, देपुरा स्थित सिद्धपीठ भगवती मंदिर, जरैल व दामोदरपुर स्थित अंकुरित भगवती मंदिर सहित अन्य देवी-देवताओं के मंदिरों में लोगों ने दीप जलाकर दिवाली मनाई। दीपों व इलेक्ट्रिक बल्बाें से मुख्यालय सहित संपूर्ण प्रखंड क्षेत्र जगमग रहा।

देर रात तक चलती रही आतिशबाजी, बच्चों और युवाओं में दीपोत्सव को लेकर देखा गया उत्साह

अंधराठाढ़ी व खुटौना में भी जमकर हुई आतिशबाजी
प्रखंड परिक्षेत्र में गुरुवार को दीपों का महापर्व दीपावली का त्योहार हर्षोल्लास से मनाया गया। घरों व संस्थानों में दीप जलाकर दीपावली मनाई गई। इस दौरान अंधराठाढ़ी पूरे रोशनी से नहाया हुआ था। लोगों ने अपने घरों काे रंगोली बनाकर, दुकानों व प्रतिष्ठानों काे गेंदा फूल के अलावा रंग-बिरंगे झालरों से दुल्हन की तरफ सजाया गया था।

सुबह से ही दुकानों पर मिठाइयों की जमकर खरीदारी की गई। बाजार में पर्व को लेकर भारी भीड़ रही। ज्यादा भीड़ होने के कारण बाजार में जाम की स्थिति बनी रही। थानाध्यक्ष जीतेंद्र कुमार व अशोक कुमार के नेतृत्व में पुलिस टीम भी सतर्क नजर आई।

पर्व को लेकर अंधरा बाजार, ननौर, महरैल सहित ग्रामीण इलाकों में भारी भीड़ देखने को मिली। बच्चे, महिलाओं व पुरुषों ने अपने घर के बाहर खूब पटाखे फोड़े। तीनों थाना क्षेत्र में कहीं से अप्रिय घटना की जानकारी नहीं है।

शहर से गांव तक जश्न, रंगोली ने लोगों का मोहा मन

झंझारपुर अनुमंडल क्षेत्र में शहर से लेकर ग्रामीण इलाकों में दीपावली हर्षोल्लास के साथ शांतिपूर्ण तरीके से मनाया गया। चारों ओर दीपोत्सव का एक नया नजारा दिख रहा था। लोगाें ने पिछले वर्ष पिछले वर्ष की भांति इस बार अपने घरों पर इलेक्ट्रिक बल्ब जलाने का काम किया। किराेसीन तेल, सरसों तेल और तिल के तेल की अधिक कीमत रहने के कारण लोगाें ने दीया के बदले मोमबत्ती का यूज किया। हालांकि ग्रामीण क्षेत्रों में पीडीएस दुकान से कमोबेश किराेसीन तेल उपलब्ध कराया गया।

लेकिन नगर पंचायत में कई वर्षों से किराेसीन तेल की उपलब्धता नहीं रही है जिसके कारण बिजली ही सहारा है। बिजली गुल होने के बाद भी बाद लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। वहीं, दीपोत्सव को लेकर चारों ओर लोगों की खुशी देखी गई। खासकर बच्चों में काफी खुशी थी। बच्चों ने अपने अपने घर के दरवाजे पर रंगोली बनाई तो वहीं, कई बच्चे पटाखे और फुलझड़ी जलाने में मस्त देखे गए। वहीं, भगवान गणेश और मां लक्ष्मी की पूजा हर घर में की गई और लोगों के बीच प्रसाद का वितरण किया गया।

खबरें और भी हैं...