पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

वैकल्पिक व्यवस्था:नगर निगम के 425 सफाई कर्मी हड़ताल पर शहर के सभी 39 वार्डों की सफाई व्यवस्था ठप

बेतिया13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
काली बाग मिसकार टोली में कचरे का अंबार। - Dainik Bhaskar
काली बाग मिसकार टोली में कचरे का अंबार।
  • वार्ड-36 समेत कुछ वार्डों में किया गया कूड़ा-कचरा का उठाव, बीमारी का सता रहा डर

एक तरफ जहां जिले में वायरल फीवर से बीमार होने वाली मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है वहीं दूसरी ओर नगर निगम सफाई कर्मियों की अनिश्चितकालीन हड़ताल के कारण शहर की सफाई व्यवस्था चरमरा गई है। गली मोहल्ले में फैली गंदगी आम लोगों को कब संक्रमित कर दे या कहना मुश्किल है । संक्रमण से बच्चों के बीमार होने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता । स्कूल के लिए जाने वाले लाखों बच्चे इन सड़कों पर फैली गंदगी के बीच गुजरते हुए अपने विद्यालय पहुंच रहे हैं । शहर के कई चौक चौराहों पर जगह जगह कूड़ा कचरा का ढेर लगा हुआ है।

इससे शहर के लोगों के साथ- साथ आसपास के दुकानदारों व राहगीरों को भी परेशानी हो रही है। हालांकि नगर निगम के वैकल्पिक व्यवस्था के तहत वार्ड 36 समेत कुछ वार्डों में कूड़ा कचरा का उठाव मंगलवार को भी किया गया। स्टेशन चौक से से पूरब तरफ तथा समाहरणालय चौराहा से लेकर उसके पूरब दिशा में सड़कों पर पड़े कूड़ा कचरा का उठाव पार्षद प्रतिनिधि केशव राज की मौजूदगी में कराया गया। फिर भी शहर का मुख्य चौक चौराहों पर अब भी कूृड़ा का ढेर लगा हुआ है। इधर नगर निगम कार्यालय में मंगलवार को भी कर्मचारी महासंघ के द्वारा धरना दिया गया। जबकि निगम के कर्मियों के हड़ताल पर चले जाने के कारण सभी कार्यालय कक्षों में ताला लटका रहा।

स्कूल जाने के लिए रोज सैकड़ों बच्चे इन सड़कों पर फैली गंदगी के बीच से गुजरते हैं

महाराजा पुस्तकालय से लेकर दोनों तरफ सजती हैं दुकानें

शहर के शहीद स्मारक के समीप बनाए गए शौचालय के सामने सड़क के किनारे कूड़ा का ढेर लगा हुआ है। जबकि इसके आसपास में महाराजा पुस्तकालय से लेकर दोनों तरफ स्थायी व अस्थाई दुकानें लगती है। संत कबीर चौराहा, हरिवाटिका तिराहा, सोआबाबू चौक, मिस्कार टोली, सुप्रिया चौराहा पर जगह जगह कूड़ा कचरा भरा पड़ा है। मुख्य पथों व गली माेहल्लों की भी यही स्थिति है।

नगर निगम में सिर्फ आउटसोर्सिंग पर कार्यरत हैं 170 कर्मचारी

बेतिया नगर निगम में 425 कर्मी कार्यरत है। जिसमें 170 कर्मी आउटसोर्सिंग, 204 अनुबंध तथा 51 कर्मी परमानेंट है। सभी कर्मी फिलहाल हड़ताल पर है। यही कारण है कि कर्मियों के हड़ताल पर चले जाने के कारण व्यवस्था चरमरा गई है। कर्मियों के साथ साथ वाहनों के इंधन आदि खर्च को लेकर प्रत्येक माह 60 लाख रुपए व्यय किये जाते है। जबकि नगर निगम को होल्डिंग अैक्स, सैरात, हाेल्डिंग- बैनर, स्टांप ड्यूटी मद से आय होता है।

नगर निगम में सफाई के उपकरण जस के तस पड़े

नगर निगम में सफाई कार्य के करीब करीब सभी उपकरण मौजूद है। नगर के कुल 39 वार्डाें में प्रत्येक वार्ड को एक- एक ट्रैक्टर टेलर, एक - एक पिकअप, टीपर 2, जेसीबी 3, बभकट 1, फॉकलेन 1, पिचिंग मशीन 2, कम्पेक्टर 2, बड़ा ट्रैक्टर 7 के साथ साथ कूड़ा कलेक्शन के लिए प्रत्येक वार्ड को हांथ इेला भी मुहैया कराया गया है। परंतु कर्मियों की हड़ताल के कारण सभी उपकरण जहां तहां पड़े हुए है।

मांगों के समर्थन में डटे हैं हड़ताली कर्मचारी

नगर निकाय के कर्मी अपनी 12 सूत्री मांगों के समर्थन में डटे हुए है। मंगलवार को नगर निगम के कर्मी मुख्य गेट पर बैठकर धरना दिया। इस क्रम में पहुंचे सिकटा विधायक बीरेन्द्र प्रसाद गुप्ता ने भी हउ़ताली कर्मियों के मांगों का समर्थन किया। उन्होंने कहा कि सरकार को जल्द कर्मियों की मांगों को मान लेना चाहिए। जिले के सभी नगर निकायों में कर्मचारी महासंघ ने धरना व प्रदर्शन किया।

खबरें और भी हैं...