वाल्मीकि टाइगर रिजर्व में बाघ की मौत:गन्ने के खेत में मिला शव, दो बाघों के बीच संघर्ष में मौत की आशंका; चरवाहों ने दी वन विभाग को सूचना

बेतिया2 महीने पहले
बेतिया में गन्ने के खेत में मिला वीटीआर के बाघ का शव।

वाल्मीकि टाइगर रिजर्व (VTR) के मांगुराहा रेंज में बुधवार को एक बाघ का शव मिला। बेतिया जिले के मैनाटांड़ प्रखंड के चक्रसन गांव के पास गन्ने के खेत में बाघ का शव चरवाहों को दिखा। शव मिलने के बाद वन विभाग में हड़कंप मच गया। VTR के क्षेत्र निदेशक हेमकांत राय ने बाघ का शव मिलने की पुष्टि की। इसकी सूचना मिलने पर रेंजर सुनील कुमार पाठक के नेतृत्व में वनकर्मियों की टीम पहुंची। उन्होंने आशंका जताई कि दो बाघों के आपसी संघर्ष में बाघ की मौत हुई है। बाघ के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया है। रिपोर्ट आने के बाद मौत के कारणों का पता चलेगा।

चरवाहों ने दी वन विभाग को सूचना

लोगों के अनुसार, बुधवार सुबह जानवरों को चराने के लिए जंगल की तरफ चरवाहे जा रहे थे। इसी बीच उन्हें गन्ने के खेत में बाघ का शव दिखा। इसकी सूचना उन्होंने वन विभाग को दी। वन कर्मचारियों ने इसकी सूचना उच्च अधिकारियों को दी। इसके बाद विभाग की टीम मौके पर पहुंचकर जांच में जुटी।

मौके पर पहुंचकर जांच में जुटी वन विभाग की टीम।
मौके पर पहुंचकर जांच में जुटी वन विभाग की टीम।

बाघ के शरीर पर गहरे जख्म थे

VTR के क्षेत्र निदेशक हेमकांत राय ने बताया- 'मृत बाघ की उम्र लगभग 3 वर्ष है। मौत प्रथमदृष्ट्या आपसी संघर्ष में प्रतीत हो रही है। बाघ के मुंह और आगे के भागों पर गहरे जख्म का निशान है। हालांकि, पोस्टमॉर्टम कराया जा रहा है। रिपोर्ट के बाद ही साफ हो पाएगा कि बाघ की मौत कैसे हुई।'

खबरें और भी हैं...