बिहार के पर्यटन मंत्री के बेटे समेत 7 पर FIR:बेतिया में घायल युवक के बयान पर कार्रवाई; बबलू कुमार से मारपीट की भी हो रही जांच

बेतिया5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नौतन विधायक और बिहार के पर्यटन मंत्री नारायण प्रसाद के बेटे द्वारा बगीचे में खेल रहे बच्चों की पिटाई मामले में पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी है। घायल युवक जनार्दन कुमार की मां के बयान पर मंत्री पुत्र बबलू कुमार सहित 7 लोगों पर मुफस्सिल थाना में मारपीट का केस दर्ज किया है।

पुलिस ने उस स्कॉर्पियो गाड़ी को भी जब्त कर लिया है, जिस पर सवार होकर बबलू कुमार अपने सहयोगियों के साथ पहुंचा था। मामले में पुलिस ने दो हथियार भी कब्जे में लिए हैं, जिनकी जांच जारी है। हालांकि पुलिस का यह मानना है कि हथियार लाइसेंसी था। लेकिन फिर भी जांच के लिए हथियार को रखा गया है।

रविवार को हुए हंगामे के बाद की तस्वीर।
रविवार को हुए हंगामे के बाद की तस्वीर।

सदर एसडीपीओ मुकुल परिमल पांडे ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है। घायल युवक की मां ने केस करने के लिए जो आवेदन दिया है, उसको लेकर छानबीन की जा रही है। ग्रामीणों द्वारा भी मंत्री पुत्र सहित अन्य लोगों की पिटाई की गई है, जिसको लेकर भी जांच की जा रही है। फिलहाल पुलिस मौके पर कैंप कर रही है, लेकिन गांव में तनाव का माहौल है।

बेतिया में पर्यटन मंत्री के बेटे की दबंगई, लोग भड़के:बच्चों-महिलाओं को पीटा, गुस्साए लोगों ने सबको भगा दिया

सदर SDPO मुकुल परिमल पांडेय।
सदर SDPO मुकुल परिमल पांडेय।

डिप्टी सीएम ने कहा - कोई बचेगा नहीं
उपमुख्यमंत्री रेणु देवी से आज मीडिया से कहा है कि चाहे किसी का भी बेटा हो, रिश्तेदार हो, उसे राहत नहीं मिलेगी। स्थानीय प्रशासन मामले की जांच कर रही है। जो गलती करेगा, उसे सजा जरूर मिलेगी। मंत्री सम्राट चौधरी ने भी कहा कि कानून अपना काम कर रही है। किसी भी दोषी को राहत नहीं मिलेगी।

यह था मामला
मंत्री पुत्र बबलू पर उनके बगीचे में खेल रहे बच्चों की पिटाई और डराने के लिए हवाई फायरिंग करने का आरोप है। घटना मुफस्सिल थाना क्षेत्र के हरदिया गांव की है। इसके बाद घटना से आक्रोशित लोगों ने मंत्री की उस गाड़ी को घेर लिया, जिस पर सवार होकर मंत्री पुत्र अपने सहयोगियों के साथ पहुंचा था। बाद में ग्रामीणों का आक्रोश देखकर मंत्री पुत्र और उसके सहयोगी मौके से फरार हो गए थे।

पिटाई से घायल ग्रामीणों से हाथापाई करते मंत्री पुत्र और साथी
पिटाई से घायल ग्रामीणों से हाथापाई करते मंत्री पुत्र और साथी

बताया जा रहा है कि गांव के ही कुछ बच्चे मंत्री के बगीचे में खेल रहे थे। तभी मंत्री पुत्र अपने सहयोगियों के साथ गाड़ी से पहुंचा और बच्चों की पिटाई करने लगे। जब गांव की महिलाओं और बच्चों के परिजनों ने इसका विरोध किया तो मंत्री पुत्र के सहयोगियों ने फायरिंग कर दी और महिलाओं की भी पिटाई कर दी।

नाराज ग्रामीण जब गोलबंद होने लगे तो मंत्री पुत्र साथियों सहित भाग गया।
नाराज ग्रामीण जब गोलबंद होने लगे तो मंत्री पुत्र साथियों सहित भाग गया।

घटना से नाराज ग्रामीण जब गोलबंद होने लगे तो मंत्री पुत्र साथियों सहित सभी मौके से भाग गया। लोगों ने मंत्री पुत्र और उनके सहयोगियों को खदेड़ा जिसके पास हाथ में हथियार भी थे। लोगों ने घेरकर उनके लोगों को पकड़ लिया और दो हथियार जब्त कर लिए। बाद में पुलिस के पहुंचने पर हथियारों को उनके सुपुर्द कर दिया।

मंत्री ने कहा - मेरे पुरखों की जमीन पर स्थानीय कर रहे थे अतिक्रमण
मंत्री ने कहा - मेरे पुरखों की जमीन पर स्थानीय कर रहे थे अतिक्रमण

मामले में पर्यटन मंत्री नारायण प्रसाद ने अपनी तरफ से सफाई दी है। मंत्री का कहना है कि उनके पुरखों की 2 बीघा जमीन पर स्थानीय ग्रामीण अतिक्रमण कर रहे हैं, जिसे हटवाने के लिए सबसे पहले उनके भाई वहां पहुंचे थे। भाई के साथ मारपीट की खबर फोन पर मिलने पर चाचा की मदद के लिए बेटा बबलू और उसके साथी वहां पहुंचे। स्थानीय लोगों ने उनके साथ भी मारपीट की है। ग्रामीणों ने लाइसेंसी पिस्टल और रायफल छीन लिया है। हमारे बेटे और उनके लोगों पर स्थानीय लोगों ने ईंट-पत्थर से हमला कर दिया। इसी हमले में उन्हीं के पत्थर से कुछ बच्चों को चोट लग गई है, जिससे बच्चों के घायल होने की सूचना सामने आ रही है। जो गाड़ी वहां क्षतिग्रस्त मिली है, वो सरकारी नहीं है। सरकारी गाड़ी मेरे घर पर थी। लेकिन मेरी प्राइवेट गाड़ी वहां गई थी और उस पर मंत्री का बोर्ड ढंककर लगा था।

खबरें और भी हैं...