पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बाइक की ठोकर से बचा तो गला दबा दिया:बेतिया में बाइक से कुचल अधमरा हो गया था 9 साल का मासूम, सवारों ने फिर दबा दिया उसका गला; शव को 1 KM दूर फेंका

बेतिया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शव मिलने के बाद बदहवाश रोती मां। - Dainik Bhaskar
शव मिलने के बाद बदहवाश रोती मां।
  • नरकटियागंज के बरवा गांव में हुई घटना
  • परिजन लगा रहे दो युवकों पर हत्या का आरोप

बेतिया के नरकटियागंज में एक तेज रफ्तार बाइक ने 9 साल के मासूम को जोरदार टक्कर मार दी। हादसे में वह गंभीर रूप से घायल था, लेकिन सांसें चल रही थीं। बाइक सवार ने उसे अस्पताल में ले जाने के बजाय गला दबाकर उसकी हत्या कर दी। अपनी गलती छुपाने के लिए मासूम की जान ले ली और शव को छुपा दिया। देर रात जब इलाके के लोग सो गए, तब दोनों ने शव को बाइक से 1 किमी दूर ले जाकर खेत में फेंक दिया। गुरुवार को मासूम की लाश मिली तो परिजनों के होश उड़ गए। इंसानियत को शर्मसार करने वाली यह घटना शिकारपुर थाना क्षेत्र के बिनवलिया बरवा गांव की है। मासूम के शव मिलने से परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। वे दो लोगों पर हत्या का आरोप लगा रहे हैं। मृतक की पहचान सुखाडी मांझी के पुत्र रंजय कुमार (9 साल) के रूप में की गई है। सूचना मिलते ही स्थानीय थाने की पुलिस मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में ले लिया। थानाध्यक्ष संदीप गोल्डी ने बताया कि प्रथमदृष्टया मामला गला दबा कर हत्या का प्रतीत हो रहा है। बच्चे की मौत के कारणों का पता लगाया जा रहा है। शव को पोस्टमार्टम के लिए बेतिया भेज दिया गया है।

शौच के लिए घर के पीछे सरेह में गया था बच्चा
मृतक की मां सुखली देवी ने बताया कि रंजय करीब 8 बजे शौच के लिए घर के पीछे नदी के किनारे गया था। जब लगभग दो घंटे तक वापस नहीं लौटा तो उसकी खोजबीन शुरू की गई। खोजबीन के दौरान जिधर वह शौच के लिए गया था उधर से ही बाइक पर सवार दो युवक रात्रि में तेजी से भागते हुए नजर आए। हालांकि दोनों युवकों को वह पहचानती है। काफी खोजबीन के बाद भी बच्चा नहीं मिला। गुरुवार की सुबह रंजय का शव घर से 1 किमी दूर सरेह में फेंका हुआ मिला। जिसके बाद पूरे गाव में सनसनी फैल गई। मृतक के गले में उसी के कपड़े और गंजी से गला घोंटने का निशान देखा गया है।

बाइक की ठोकर से नहीं मरा तो गला घोंट दिया
मृतक की मां सुखली देवी ने पुलिस को दिए बयान में गांव के दो युवकों का नाम का खुलासा किया है। रंजय जिस रास्ते से होकर जा रहा था, उसी रास्ते से एक बाइक सवार गांव के ही दो युवक उसी रास्ते से जा रहें थे। तेज रफ्तार बाइक से बच्चे को ठोकर लग गया। इसके बाद ही उन्होंने वारदात को अंजाम दिया था। जिस जगह पर उसके बच्चे के शव को छुपाकर रखा गया था, उसी जगह पर दोनों आरोपी रात के 1 बजे पहुंचे थे। आरोपितों बच्चे के शव को बाइक पर लादकर वहां से भागे और दूर सरेह में शव को फेंक कर फरार हो गए। रंजय की मां ने यह भी बताया है कि बच्चा को बाइक पर लादकर ले जाते हुए उसने देखा था। लेकिन अंधेरे के कारण वह यह नहीं जान पाई की उसी का बच्चा है।

मां बाप का रोते रोते हाल बेहाल
बच्चे की हत्या से गांव के आसपास में कोहराम मच गया। बच्चे के माता-पिता का रोते -रोते हाल बेहाल हो गया। मां दहाड़े मार कर रो रही थी। ग्रामीणों ने बताया कि मृतक चार भाइयों में दुसरे नंबर पर था। मृतक के माता-पिता दोनों मजदूरी करके अपना घर चलाते हैं। ऐसे में अचानक बच्चे की मौत ने उन्हें झकझोर दिया है। इधर, SDPO, नरकटियागंज कुंदन कुमार ने बताया कि मृतक की मां के बयान के आधार पर FIR दर्ज की गई है। गांव के दो युवकों का नाम हत्या कांड में सामने आ रहा है। दोनों आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है। बहुत जल्द हत्या कांड में शामिल आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...