पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कार्रवाई:भैरोगंज में रेलवे के भूखंड से अतिक्रमण हटाया गया, 100 से अधिक दुकानदारों पर गिरी गाज

बेतिया15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • लगभग एक सप्ताह पहले रेलवे ने दुकानदारों को रेलवे के चिह्नित भूखंडों से हटने को दिया था नोटिस

भैरोगंज में रेलवे के भूखंड का अतिक्रमण कर वर्षों से अपने व्यवसाय करते आ रहे 100 से अधिक दुकानदारों पर आखिरकार गाज गिर ही गई है। लगभग एक सप्ताह पहले रेलवे ने इन दुकानदारों को रेलवे के चिह्नित भूखंडों से अपनी अपनी संरचनाएं हटा लेने के लिए नोटिस निर्गत किया था। हालांकि व्यवसायियों ने पहले तो इस नोटिस को बहुत तवज्जो नहीं दी, लेकिन सोमवार को आरपीएफ व पुलिस बल के बड़े पैमाने पर बंदोबस्त के साथ दंडाधिकारी आदि के साथ रेल अधिकारियों की टीम जब अतिक्रमण हटाने के लिए पहुंची तो आनन - फानन में व्यवसायियों ने खुद से अपनी संरचनाएं हटाने की कोशिश शुरू कर दी।

व्यवसायियों की इस सकारात्मक पहल तथा उनके अनुरोध को देखकर रेलवे की टीम ने इन्हें दो घंटे का समय दिया। इस दौरान कुछ छोटी दुकानें तो हट गईं, लेकिन उसके बाद भी जब अतिक्रमण हटाने में विलंब हुआ तो दुबारा कुछ समय देने के बाद अधिकारियों ने प्रशासनिक स्तर पर अतिक्रमण हटाने का कार्य आरंभ करा दिया। अतिक्रमण को हटाने के लिए रेलवे ने इस बार पूरी तैयारी कर रखी थी। दंडाधिकारी के रूप में प्रतिनियुक्त बगहा - 1 बीडीओ कुमार प्रशांत समेत आरपीएफ के मेजर नीरज कुमार मिश्र व आरपीएफ के सब इंस्पेक्टर लोकेश कुमार नरकटियागंज से आरपीएफ के 50 जवानों के साथ पहुंचे थे। जीआरपी, नरकटियागंज के प्रभारी संतोष कुमार भी एक सेक्शन फोर्स के साथ पहुंचे।

आरपीएफ, रक्सौल के इंस्पेक्टर राजकुमार, मोतिहारी के एईएन अर्जुन सिंह, नरकटियागंज से रेलवे की इंजीनियर महिमा शुक्ल आदि भी पहुंच आए। इसके अलावा भैरोगंज थानाध्यक्ष जयनारायण राम थाना के पुलिस बलों के साथ पहुंचे। बगहा व भैरोगंज थाना से महिला कांस्टेबल की टीम बुलाई गई। बगहा पुलिस लाइन से भी बड़ी संख्या में पुलिस बल भेजा गया था। कुल मिलाकर देखते ही देखते भैरोगंज पुलिस छावनी सरीखा दिखने लगा। अतिक्रमण हटाने के लिए दो जेसीबी आदि का बंदोबस्त भी किया गया था।

आनन-फानन में व्यवसायियों ने खुद से अपनी संरचनाएं हटाने की कोशिश शुरू कर दी

पहले भी मिल चुके थे कई नोटिस
रेलवे के भूखंड से अतिक्रमण हटाने के लिए इससे पहले भी कई बार नोटिस निर्गत हुआ था। अतिक्रमण कभी हटाना नहीं पड़ा था। इसलिए इस बार भी जब रेलवे ने नोटिस निर्गत किया तो संबंधित व्यवसायी बेचैन जरूर हुए, किंतु खुद से अतिक्रमण हटाने की जरूरत नहीं समझी। अंततः निर्धारित तिथि पर अतिक्रमण हटाने के लिए अधिकारियों की टीम जब पहुंच आई तो दुकानदारों ने अपने अपने सामान आदि निकालने के साथ छेनी, हथौड़ा आदि लेकर दुकानों को तोड़ना शुरू किया, ताकि उनके खिड़की, दरवाजे व अन्य साधन सुरक्षित निकाल सकें। अधिकारियों ने कुछ समय भी दिया, लेकिन इतने कम समय में सबकुछ हटा लेना संभव नहीं था। लिहाजा, अधिकारियों को प्रशासनिक स्तर पर अतिक्रमण हटवाने का निर्णय लेना पड़ा।
50 दुकानों की है लीज : महिमा
रेलवे की इंजीनियर महिमा शुक्ला ने बताया कि तकरीबन 100 से अधिक अवैध दुकानों को हटाने की प्रक्रिया शुरू की गई है। यहां 50 दुकानों की लीज है। लीज वाली दुकानें नहीं हटाई जाएंगी। अन्य लगभग 100 से अधिक दुकानों को अवैध पाया गया है, जिन्हें हटाने के लिए यह अभियान शुरू हुआ है। रेल अधिकारियों ने बताया कि जिन दुकानों की लीज है, उनके कागजात की भी जांच होगी। लीज वाली दुकानों की साइज 10 × 10 फीट होनी चाहिए। जिन लीजधारकों से इससे बड़े आकार के भूखंड पर कारोबार कर रखा है, उनके कब्जे की शेष जमीन के रेंट की भरपाई उन्हें करनी होगी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- अगर आप कुछ समय से स्थान परिवर्तन की योजना बना रहे हैं या किसी प्रॉपर्टी से संबंधित कार्य करने से पहले उस पर दोबारा विचार विमर्श कर लें। आपको अवश्य ही सफलता प्राप्त होगी। संतान की तरफ से भी को...

और पढ़ें