सीमा पर तनाव जारी / दाे दिन बाद भी नेपालियों ने नहींं खोलने दिया नाला सीमा पर तनाव, प्रशासन ने मांगा दो दिन का समय

Even after the next day, the Nepalis did not allow the tension on the drainage border, the administration asked for two days
X
Even after the next day, the Nepalis did not allow the tension on the drainage border, the administration asked for two days

दैनिक भास्कर

May 30, 2020, 05:00 AM IST

बेतिया. नेपाल के द्वारा पुल के एप्रोच का हवाला देकर बंद किए गए भारतीय क्षेत्र में आने वालें नालें को दोनों देश के जिलाधिकारी के पहल पर खोलने गए भारतीय अधिकारियों व किसानों को नेपाली नागरिकों ने विरोध कर वापस कर दिया हैं।  बंद किए गए नालें को खुलवानें गए एसडीएम चंदन कुमार चौहान, एसडीपीओ सूर्यकांत चौबे, बीडीओ हरिमोहन कुमार, सीओ राजीव रंजन कुमार श्रीवास्तव, इंस्पेक्टर प्रमित कुमार, सहोदरा, मानपुर व भंगहा के थानाध्यक्षों को खाली हाथ लौटना पड़ा हैं।

सभी अधिकारी जिलाधिकारी के निर्देश पर नेपाल प्रहरी के उपस्थिती में उक्त नालें को भारतीय किसानों के सहयोग से गुरूवार की शाम खोलवा रहें थें। तभी एकाएक नेपाल के ठोरी, रामनगर, बुद्ध नगर व ब्रह्मा नगर के नागरिक उक्त विवादित स्थल पर पहुंच गए और नाला खोलने का विरोध करने लगें। डीएम के आदेश के बावजूद नाला खोलवाने में विफल हुए अधिकारियों ने भारतीय लोगों को समझाते हुए कहा कि दो दिनों के अंदर नाला खोलवाने का स्थाई निदान निकाल लिया जाएंगा।

अगले दो दिनों तक बोर्डर पर किसी भी किसान को आने कि जरूरत नही हैं। नेपाली नागरिकों के द्वारा नाला नही खोलने देने व विरोध करने का रिपोर्ट जिला को भेजा जा रहा हैं। नेपाल के द्वारा भारतीय क्षेत्र के नाला को पत्थर मिट्टी डाल कर पूर्ण रूप से बंद कर दियें जाने और दोनों देश के जिलाधिकारी का आदेश मिलने के बाद भी नेपाली नागरिकों द्वारा नाला नही खोले दियें जाने को लेकर बोर्डर पर तनाव कि स्थिति बनी हुई है। भारतीय मुल के किसानों का कहना हैं कि फसल खराब होने के बाद भूखे भरेंगें ।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना