पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

पहल:55626 लाभुकों के बीच पहली किश्त का भुगतान

बेतियाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पीएम आवास योजना के तहत बनेगा मकान
  • डीडीसी ने कहा कि लापरवाही बरतने वाले आवास सहायक किए जाएंगे चयनमुक्त

जिले में 55 हजार 626 लाभुकों के बीच प्रधानमंत्री आवास ग्रामीण योजना की प्रथम किश्त की राशि का भुगतान कर दिया गया है। इसमें 31 हजार 918 लाभुकों ने राशि का उठाव करने के बाद भी आवास निर्माण कार्य शुरू नहीं किया है। आवास नहीं बनाने वाले लाभुकों को नोटिस भेजने की तैयारी के पूर्व जिला प्रशासन ने आवास सहायकों और प्रखंड विकास पदाधिकारियों पर शिकंजा कसना आरंभ कर दिया है। निर्धारित समय सीमा के भीतर आवास का निर्माण कार्य नहीं करने के मामले में संबंधित आवास सहायकों से स्पष्टीकरण की मांग की गई है।

डीडीसी रविंद्रनाथ प्रसाद सिंह ने बताया कि यदि आवश्यक हुआ, तो संबंधित आवास सहायकों को चयनमुक्त भी किया जा सकता है। कारण कि राशि की निकासी कर लेने के बावजुद लाभुकों द्वारा आवास का निर्माण नहीं कराया जा रहा है। उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार ग्रामीण इलाकों में रहने वाले आवासविहीन या झोपड़ी में रहने वाले गरीबों के लिए पक्का घर बनाने के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) चला रही है। इस योजना के तहत गरीब परिवारों को अपना पक्का घर बनाने के लिए खाते के माध्यम से राशि सरकार दे रही है।

उन्होंने बताया कि जिले में 55 हजार 626 लाभुकों को आवास निर्माण के लिए प्रथम किश्त की राशि का भुगतान कर दिया गया है। लेकिन  प्रथम किश्त की राशि का उठाव करने के छह महीने बाद भी 31 हजार 918 लाभुकों ने अपने घर का निर्माण का आंरभ नहीं किया है। राशि की निकासी करने के बाद भी घर नहीं बनाने के मामले में प्रखंड विकास पदाधिकारी व आवास सहायकों की लापरवाही सामने आ रही है। इसके लिए हमेशा आवास सहायकों को आवास निर्माण में तेजी लाने का निर्देश दिया गया है। बावजूद इसके वे समुचित रूप से अनुश्रवण नहीं कर रहे है। वहीं इस मामले में प्रखंड विकास पदाधिकारियों को भी निरंतर अनुश्रवण करते हुए आवास निर्माण में तेजी लाने का निर्देश दिया जाता रहा है।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- धार्मिक संस्थाओं में सेवा संबंधी कार्यों में आपका महत्वपूर्ण योगदान रहेगा। कहीं से मन मुताबिक पेमेंट आने से राहत महसूस होगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा और कई प्रकार की गतिविधियों में आज व्यस्तता बनी...

और पढ़ें