पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कार्रवाई:जहरीली शराब कांड का सरगना ठग साह व बीरबल साह सहित पांच लोग हुए गिरफ्तार

बेतिया11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
लौरिया थाने में उपस्थित दोनों जिलाें के पुलिस अधीक्षक। - Dainik Bhaskar
लौरिया थाने में उपस्थित दोनों जिलाें के पुलिस अधीक्षक।
  • जहरीली शराब पीने से 16 लाेगाें की हाे चुकी है माैत, चार की अांखों की राेशनी चली गई है

लौरिया पुलिस ने जहरीली शराब मामले में देवराज इलाके के पांच शराब तस्करों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार तस्करों में देवराज के देउरवा गांव निवासी ठग साह, बीरबल साह, पवन साह, अमरेश राम, एवं अजय चौधरी शामिल है। बेतिया एसपी उपेंद्र कुमार वर्मा एवं बगहा एसपी किरण कुमार गोरख जाधव ने संयुक्त रूप से बताया कि शराब प्रकरण मामले में पांच शराब तस्करों को गिरफ्तार किया गया है। उनसे पूछताछ के बाद जेल भेजा जा रहा है। पूछताछ के दौरान कई खुलासे हुए है। उस दिशा में पुलिस कार्य कर रही है। इस मामले में संलिप्त किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा। एसपी द्वय ने बताया कि इस मामले में और भी लोग है उनके खिलाफ कार्रवाई चल रही है। जल्द ही मामले का पटाक्षेप कर दिया जाएगा।

यहां बता दें कि 12 जुलाई की रात देवराज इलाके में पहुंची जहरीली शराब की खेप से वहां के आसपास के कई गांवों के लोगों ने शराब का सेवन किया। इसके बाद एक एक कर चार पांच दिनों में 16 लोग काल कल्वित हो गए। वहीं चार लोगों की आंख की रोशनी चली गई। इस मामले में संलिप्त दों गांवों के दो चौकीदारों को जांच के बाद पुलिस ने निलंबित कर दिया। केस के बाद एक को जेल भी भेजा गया। इसके अलावे कई पुलिस जवानों व अधिकारियों पर गाज गिरी। इसी मामले में पुलिस ने पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

12 जुलाई की रात देवराज इलाके के गांवों में पहुंची थी जहरीली शराब की खेप

तस्करी का सरगना भूंजा बेचता था

बताया जाता है कि देउरवा निवासी ठग साह देवराज इलाके के कई गांवों में शराब तस्करी का सरगना है। वह खुद गांव में ठेला पर भूंजा बेचता है। उसी के आड़ में इस धंधे को अंजाम देता आ रहा है। ठग का बहनोई बीरबल साह गांव में हलुआई का काम करता है। बताया जाता है कि अमरेश राम बाहर रहकर काम करता था। लेकिन जब से बिहार में शराबबंदी लागू हुई तब से यह घर आकर रहने लगा और इसी काम में संलिप्त हो गया। अजय चौधरी का पूरा परिवार शराब के कारोबार में लगा हुआ है और उसी से उसकी जीविका चलती है। पवन साह भी इनलोगों के साथ शराब की तस्करी में संलिप्त रहा है। बताया जाता है कि ये लोग जिले व बाहर के शराब माफियाओं से मिलकर शराब मंगाते थे इसके अलावे बनाते भी थे। इन्ही लोगों के माध्यम से देरवाज इलाके सहित अन्य जगहों पर शराब की सप्लाई होती थी।

शराब के धंधेबाजों को पकड़ने के लिए पुलिस ने लिया श्वान दस्ते का सहारा, छापेमारी तेज

जहरीली शराब पीने के कारण 16 लोगों की मौत की घटना के बाद पुलिस ने अब शराब के धंधेबाजों को टटोलने के लिए श्वान दस्ते का सहारा लिया है। बेतिया से पहुंची श्वान दस्ता की टीम के साथ बगहा पुलिस जिला के चिउटाहा व सेमरा थानाक्षेत्रों में बड़े पैमाने पर छापेमारी की गई। पुलिस की छापेमारी से शराब तस्करों में हड़कंप मचा हुआ हे। हालांकि पुलिस की छापेमारी के दौरान कोई शराब का कारोबाररी पकड़ा नहीं जा सका, लेकिन जनजाति बहुल यह इलाका चुलाई शराब के धंधे को लेकर पहले से ही खासा बदनाम रहा है। जहरीली शराब के कारण हुई मौत की घटनाओं के बाद भी इस इलाके से कई धंधेबाज शराब की खेप के साथ पुलिस की गिरफ्त में आ चुके हैं। लिहाजा, श्वान दस्ते के साथ हुई इस छापेमारी के कारण शराब के धंधेबाजों के बीच भय व्याप्त हुआ है। चिउटाहा थानाक्षेत्र के मर्यादपुर, सोनबरसा, शेरवा, बैराटी, बलकहवां समेत सेमरा थानाक्षेत्र में भी छापेमारी की गई। छापेमारी दल में चिउटाहा थानाध्यक्ष शहीद अनवर अंसारी के साथ सेमरा थाना के अधिकारी व जवान भी शामिल थे।

खबरें और भी हैं...