पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नाइंसाफी:सेना बहाली में सभी टेस्ट में पास ठकराहां के 6 युवकाें काे यूपी के मार्कशीट के कारण निकाला

बेतिया9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बिहार में प्लस टू की पढ़ाई के लिए ठकराहां के बच्चाें काे 120 किमी बगहा जाना पड़ेगा, इसीलिए यूपी में करते हैं पढ़ाई

4 फरवरी को मुजफ्फरपुर में सेना बहाली में यूपी के मार्कशीट पर छटने वाले छह और बच्चों का नाम उजागर हुआ है। यह मामला गंडक पार के ठकराहां प्रखंड का है। यहां के बच्चे भी यूपी के कुशीनगर जिले के विभिन्न जगहों से उच्च शिक्षा की डिग्री प्राप्त किए है। लेकिन इन्हें भी सब प्रकार से क्वालीफाई करने के बाद सेना बहाली से सिर्फ इस लिए छांट दिया गया कि इनका सर्टिफिकेट यूपी के स्कूलों का है और आवास, निवास, आधार बिहार का। नौकरी को लेकर इनके आगे भी समस्या आन पड़ी है। बताया जाता है कि गंडक पार के ठकराहां प्रखंड में 2019 से पूर्व मात्र एक ही विद्यालय हाई स्कूल था। 2019 के बाद हर पंचायत में एक उत्क्रमित विद्यालय को हाई स्कूल में प्रमोट कर दिया गया।

वहीं, गांधी मेमोरियल यूनियन उच्च विद्यालय ही पूरे प्रखंड में एक मात्र स्कूल है जिसे 2015 में प्लस टू की मान्यता मिली। लेकिन संसाधनों की कमी के कारण इस विद्यालय में भी उच्च शिक्षा ठीक से नहीं मिल पाती है। 2015 से पहले प्रखंड में एक भी प्लस टू स्कूल नहीं हाेने के कारण बच्चे मजबूरन यूपी के कुशीनगर जिले के सीमावर्ती स्कूलों में पढ़ते थे। क्योंकि बिहार में प्लस टू की पढ़ाई करने के लिए उनकाे बगहा लगभग 120 किलोमीटर या बेतिया 160 किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ती।

निकाले गए अभ्यर्थियों ने कहा- हमारे साथ गलत हुअा, काॅलेज नहीं है ताे हमारी क्या गलती?

ठकराहां के हरख टोला निवासी आदित्य यादव ने बताया कि 4 फरवरी को सेना बहाली की लिए मुजफ्फरपुर में लगे विशेष शिविर में शामिल हुए। सभी अहर्ता पूरा करने के बाद जब कागजातों की जांच हुई तो यूपी का मार्कशीट देख अधिकारी ने कागजात फेंक दिया और बोले यूपी के मार्कशीट पर बहाली नहीं होगी।

मलाही टोला गांव निवासी अखिलेश मधेशिया ने बताया कि उसके माता पिता का सपना था कि बेटा देश सेवा करे। इसको ले वह सेना बहाली की तैयारी में जुट गया। लेकिन सब सपना टूट गया। सरकार शिक्षा की व्यवस्था भी नहीं कर रही है और नौकरी में अपने राज्य के बच्चों के साथ ऐसा दुर्व्यवहार ठीक नहीं है।

ठकराहां प्रखंड के उमा टोला गांव निवासी अजीत यादव ने बताया कि उसके घर लोग आर्थिक रूप से मजबूत नही है। इस कारण वह यूपी में रिश्तेदारी में रह कर पढ़ाई करता था और सेना की बहाली के लिए तैयारी भी करता था। लेकिन केवल मार्कशीट के कारण गाली देकर अधिकारियों ने भगा दिया।

मोतीपुर निवासी रामलखन कुमार ने बताया कि वे दौड़, हाइट, चेस्ट आदि में निकल गए तो अधिकारियों ने शरीर पर गुड का ठप्पा भी मारा, लेकिन यूपी का मार्कशीट होने के कारण छांट दिया। वहीं बताया कि मोतीपुर के रमेश यादव एवं पिंटू यादव को भी यूपी के मार्कशीट की वजह से निकाल दिया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज समय कुछ मिला-जुला प्रभाव ला रहा है। पिछले कुछ समय से नजदीकी संबंधों के बीच चल रहे गिले-शिकवे दूर होंगे। आपकी मेहनत और प्रयास के सार्थक परिणाम सामने आएंगे। किसी धार्मिक स्थल पर जाने से आपको...

    और पढ़ें