गिरफ्तारी:दहेज के 50 हजार के लिए ससुराल वालों ने रुकैया खातून काे जलाया

बेतिया6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पिपरासी का मामला : मृतका के पति और ससुर को पुलिस ने किया गिरफतार

बुधवार को पिपरासी थाना क्षेत्र के पिपरासी में दहेज के लिए ससुराल वालों ने पति रियाजुद्दीन के साथ मिलकर नवविवाहिता रुकैया को जला कर मार दिया है। अनुमंडलीय अस्पताल में उपचार के बाद जीएमसीएच बेतिया ले जाते वक्त रास्ते में रुकैया की मौत हो गई। जिसके बाद मायके पक्ष के लोगों द्वारा स्थानीय नगर थाना को सूचित करते हुए शव को पोस्टमाॅर्टम के लिए अनुमंडलीय अस्पताल लाया गया। पोस्टमाॅर्टम के बाद शव को मृतका का नैहर वालों को सौंप दिया गया है। रुकैया के पिता नगर के वार्ड 26 डफाली टोला निवासी मो साबिर ने बताया की दहेज में 50 हजार रुपये की मांग को लेकर ससुराल वालों ने रुकैया को जलाकर मार दिया है। उन्होंने बताया की दहेज में नैहर से 50 हजार रुपये मांग कर लाने के लिए ससुराल वाले हमेशा उसके साथ मारपीट करते थे। अंततः बुधवार को उनलोगों ने मेरी बेटी को घर मे बंद कर उसके ऊपर केरोसिन तेल डालकर आग लगाकर घर को बाहर से बंद कर भाग गये। मेरे साले मो नसरुल्लाह एवं मो आलम जो पिपरासी के हीं परसौनी में रहते हैं। उन्हें जब इसकी खबर मिली तो वे वहां पहुंच घर का किवाड़ तोड़ उसे घर से बाहर निकलवाये। तब तक वह काफी जल चुकी थी। जहां से उसे पिपरासी पीएचसी ले जाया गया तथा पिपरासी से रेफर कर बगहा भेज दिया गया। लेकिन बगहा से उपचार के बाद बेहतर इलाज के लिए बेतिया भेजा गया परन्तु उसने रास्ते मे हीं दम तोड़ दिया। मो साबिर बताते हैं की दो वर्ष पहले बड़े हीं धूम धाम से रुकैया की शादी मो रियाजुद्दीन से हुई थी। वह 6 भाइयों में इकलौती बहन थी। अभी उसे कोई बच्चा भी नहीं है।

मायके में हुआ अंतिम संस्कार
मो. साबिर ने बताया कि मुझे पता नहीं था की जिस अरमान से जिस हाथों से बेटी को ससुराल के लिए बिदा किया था। उन्हीं हाथाें से उसे श्मशान के लिए भी विदा करना पड़ेगा। उधर उसके मां और परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। बताते चले की रुकैया को बुधवार को ससुराल वालों ने पिपरासी में दहेज के लिए जला दिया था। जिसे अनुमंडलीय अस्पताल लाया गया। जहां से प्रारंभिक इलाज के बाद बेतिया रेफर किया गया। लेकिन बेतिया ले जाते वक्त रास्ते मे ही उसकी मौत हो गई।

रियाज अंसारी से 3 वर्ष पहले हुई थी रुकैया खातून की शादी, बार-बार कर रहे थे दहेज की मांग
मृतका के पिता साबिर अली के के फर्द बयान पर पिपरासी थाना में प्राथमिकी दर्ज की गई है। प्रभारी थानाध्यक्ष मनोहर कुमार सिंह ने बताया कि महिला के पिता बगहा पुलिस के समक्ष बयान दिया है। जिसके अनुसार अपनी पुत्री रुकैया खातून की शादी परसौनी गांव निवासी रियाज अंसारी से करीब 3 वर्ष पहले हुई थी। यह लोग दहेज में रुपया का बार-बार मांग करते थे । रुपया नहीं मिलने पर मेरी पुत्री को मारपीट और तंग किया करते थे। 26 अप्रैल को मेरी पुत्री को बगहा से विदाई करा कर अपने घर पिपरासी उसका पति ले गया। और 28 तारीख को उसको जला कर मार दिया। मामले में मृतका के पति रियाजुद्दीन ससुर निजामुद्दीन तथा इशा मियां को नामजद किया गया है। पति रियाजुद्दीन और ससुर निजामुद्दीन की गिरफ्तारी हो चुकी है। बाकी की तलाश जारी है।

खबरें और भी हैं...