पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

पहले दिन हुई मां शैलपुत्री की पूजा आराधना:चुनावी गहमागहमी, कोरोना व बंदिशों के बीच नवरात्र शुरू, दुनिया को कोरोना मुक्त करने की मांगी गई दुअा

बेतिया7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • मंदिरों में श्रद्धालुओं के आने-जाने का सिलसिला चलता रहा

चुनावी गहमागहमी, कोरोना संक्रमण व बंदिशों के बीच शनिवार को शारदीय नवरात्र का शुभारंभ माता शैलपुत्री की पूजा अर्चना से हुई। शहर के मंदिरों में अहले सुबह से ही नवरात्र पूजन की तैयारियां जारी रही। निर्धारित मुहूर्त पर मंदिरों में कलश स्थापन कर वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच मां शैलपुत्री की पूजा आराधना की गई। इस दौरान पंडित- पुरोहित के साथ कम संख्या में ही यजमान व श्रद्धालु मौजूद रहे। हालांकि मंदिरों में श्रद्धालुओं के आने-जाने का सिलसिला चलता रहा।

लेकिन कुछ दूर से तो कुछ पास से मां भगवती का दर्शन कर चलते रहे। नवरात्र का पहला दिन होने की वजह से आम शहरवासी घरों में ही स्वयं के अनुष्ठान व पूजन में ही व्यस्त रहे। हालांकि मंदिरों में भी अन्य दिनों की अपेक्षा कुछ चहल-पहल अधिक रही। शहर के काली बाग, दुर्गा बाग,हरिवाटिका वैष्णवी मंदिर, लाल बाजार देवी मंदिर सहित अन्य मंदिरों व घरों में माता की पूजा आराधना पूरे विधि विधान के साथ शुरू हुई। श्रद्धालुओं ने भक्ति भाव से पूजा- आराधना कर वैश्विक महामारी कोरोना वायरस से मुक्ति दिलाने की गुहार माता से लगाई तथा भक्त व भगवान के बीच कोरोना के वजह से बढ़ी इस दूरी को पाटने की गुहार लगायी।

बदला-बदला रहा नजारा, नहीं सुनाई पड़ी पूजा पंडालों से उठने वाली मंत्रोच्चारण की ध्वनि

कोरोना काल में शारदीय नवरात्र का स्वरूप भी बदला बदला सा रहा। शहर में मंदिरों को छोड़ पूजा पंडाल स्थलों पर वीरानगी रही। आमतौर पर नवरात्र को लेकर शहर में जो उत्साह व उमंग देखने को मिलता था वह इस बार नदारद रहा। नवरात्र के पहले दिन से ही पूजा पंडालों से वैदिक मंत्रोच्चारण की ध्वनियों से शहर गुंजायमान हो जाता करता था। लेकिन इस बार कोरोना की वजह से लगी पाबंदियों ने उस पर रोक लगा रखी है। अलबत्ता मंदिरों से आम दिनों की तरह घंटे -घड़ियाल व मंत्रोच्चारण की आवाजें जरूर आती रही। बावजूद लोगों के मन में एक कसक जरूर रही। आखिर जब सब कुछ खुल चुका है तो पूजा आराधना पर ही ये बंदिशें क्यों हैं। एहतियात के साथ इसे भी इजाजत दी जानी चाहिए थी। वैसे लोगों में इस बात का संतोष जरूर था कि चैत नवरात्र की भांति इस बार मां के दरबार श्रद्धालुओं के लिए बंद नहीं हैं। कम से कम दर्शन का अवसर तो जरूर मिल रहा है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपने विश्वास तथा कार्य क्षमता द्वारा स्थितियों को और अधिक बेहतर बनाने का प्रयास करेंगे। और सफलता भी हासिल होगी। किसी प्रकार का प्रॉपर्टी संबंधी अगर कोई मामला रुका हुआ है तो आज उस पर अपना ध...

और पढ़ें