आस्था:कायस्थ समाज के लोगों ने जगह-जगह धूमधाम से की भगवान चित्रगुप्त की पूजा

बेतियाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नरकटियागंज में कायस्थ समाज के लोगों ने शनिवार को श्री चित्रगुप्त महाराज की पूजा-अर्चना की। इस अवसर पर कई स्थानों पर प्रतिमाएं स्थापित कर बड़े धूमधाम से चित्रगुप्त महाराज की पूजा-अर्चना की गई। कायस्थ समाज के लोगों ने वैदिक मंत्रोच्चार के बीच कलम, दवात, कॉपी व पुस्तक की पूजा की। शहर ब्लॉक रोड स्थित चित्रगुप्त मंदिर में कायस्थ समाज ने भगवान श्री चित्रगुप्त जी महाराज की पूजा-अर्चना की व मनोवांछित कामना की। चित्रांश मंजीत वर्मा ने बताया जाता है कि पौराणिक व्याख्यानों के अनुसार सृष्टि की रचना के बाद ब्रह्माजी चिंतातुर हो गए।

चिंता का कारण था- सकल सृष्टि की देखरेख एवं लेखा-जोखा रखना। कोई उपाय न सूझने पर ब्रह्माजी 12 हजार वर्ष की अखंड समाधि में लीन हो गए। इसके बाद उनकी काया से एक तेजस्वी बालक का जन्म हुआ, जिनका नाम ब्रह्माजी ने कायस्थ रखा और कहा कि समस्त जीवों के कर्मों का लेखा-जोखा रखना ही तुम्हारा दायित्व है। युवावस्था में उनका विवाह इरावती एवं शोभावती नामक कन्याओं से हुआ, जिनकी प्रथम पत्नी से चार एवं द्वितीय से आठ पुत्र उत्पन्न हुए। इन पुत्रों का नामकरण इनके शासित प्रदेश के आधार पर क्रमश: श्रीवास्तव, निगम, कर्ण, कुलश्रेष्ठ, माथुर, सक्सेना, गौड़, अस्थाना एवं वाल्मिकी आदि किया गया। आज भी कायस्थ वंश की उपजातियां इन्हीं नामों से अपनी पहचान कायम रखे हैं।

इधर चित्रगुप्त पूजा को लेकर कायस्थ समाज के लोगों ने घरों में भी विशेष पूजा अर्चना की। जबकि मंदिरों के आसपास मेला जैसा माहौल दिख रहा था। चित्रगुप्त मंदिर में पूजा आयोजन के दौरान मौके पर प्रदीप श्रीवास्तव, गोपाल प्रसाद, विजय श्रीवास्तव, सुबोध श्रीवास्तव, पंकज सिन्हा, बबलू श्रीवास्तव, अमितेश वर्मा, अभिजीत आनंद उर्फ गोलू वर्मा व अतुल वर्मा, रजनीश वर्मा, दीपक श्रीवास्तव उपस्थित थे। सिकटा प्रखंड के विभिन्न स्थानों समेत बैशखवा के पटहेरवा टोला स्थित श्रीराम जानकी मंदिर परिसर में चित्रांशों के आराध्य देवता भगवान चित्रगुप्त पूजा धूमधाम की गई। मंदिर के सचिव श्री बांके बिहारी श्रीवास्तव ने बताया कि चित्रगुप्त भगवान समस्त जीवों के पाप पुण्य एवम कर्मों का लेखा जोखा रखते है जिन्हें कलम और दवात का देवता भी कहा जाता है।

इनके स्मरण मात्र से पाप और कष्टों का निवारण होता है।इस अवसर पर अमित कुमार श्रीवास्तव, कुंज बिहारी श्रीवास्तव, अभय कुमार, संजय श्रीवास्तव, अमरेश श्रीवास्तव ,अरविंद श्रीवास्तव चुलबुल कुमार, राकेश श्रीवास्तव, नवनीत कुमार, उज्ज्वल श्रीवास्तव, अरुण श्रीवास्तव, योगेंद्र श्रीवास्तव, दीपू श्रीवास्तव, उमेश श्रीवास्तव, नवल किशोर पांडेय आदि उपस्थित रहे। चनपटिया में शनिवार को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र चनपटिया के परिसर में स्थित चित्रगुप्त मंदिर में कलम-दवात की पूजा की गई।

मंदिर के सचिव गंगा प्रसाद वर्मा ने बताया कि भगवान चित्रगुप्त की कृपा से ही सभी को उसके कर्मों का फल मिलता है, उनका हिसाब बहुत पक्का होता है। इस दौरान अरविंद श्रीवास्तव, मुख्तार प्रसाद, संतोष प्रसाद श्रीवास्तव, नीरज श्रीवास्तव, अनिल गुप्ता, अजय यादव, राकेश कुमार, मुकुल कुमार, सतीश वर्मा, हरिशंकर प्रसाद श्रीवास्तव आदि शामिल रहे।

खबरें और भी हैं...