उदासीनता:सोलर प्लांट दो वर्ष से बंद, अंधेरे से जूझ रहे ग्रामीण बोले- सुरक्षा गार्ड खोल कर ले गया चार सोलर प्लेट

पिपरासी10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
खलवा टोला व मुजा टोला में सोलर ऊर्जा देने के लिए लगाए गए सोलर प्लेट। - Dainik Bhaskar
खलवा टोला व मुजा टोला में सोलर ऊर्जा देने के लिए लगाए गए सोलर प्लेट।
  • गंडक की दो धाराओं के बीच बसे खलवा टोला व मुजा टोला के 300 घरों के लाेगाें काे मिलना था लाभ

गंडक नदी की दो धाराओं के बीच बसी बलुआ पंचायत के खलवा टोला व मुजा टोला गांवों के लगभग 300 घरों को सौर ऊर्जा से रौशन करने के लिए बना सोलर प्लांट पिछले दो वर्ष से बंद पड़ा हुआ है। फलतः इन गांवों में बिजली की आपूर्ति ठप है। ग्रामीणों के बार बार शिकायत करने के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं हुई। फलतः ग्रामीण अंधेरे में रात गुजार रहे हैं। ग्रामीणों ने बताया कि जब से यहां सोलर प्लांट लगा है, निर्बाध रूप से कभी भी 12 माह बिजली मुहैया नहीं हो पाई है। शुरुआती दौर में कुछ दिन बिजली आपूर्ति तो हुई, लेकिन गुणवत्तापूर्ण कार्य नही होने के कारण उस दौरान भी लगातार खराबी आती रही। सोलर प्लांट से बिजली सप्लाई शुरू होने के बाद यहां केरोसिन के वितरण पर भी रोक लगा दी गई।

इस कारण यहां निवास करने वाले परिवारों को केरोसिन मिल नहीं पाता है। मजबूरन लोगों को बाजार से ऊंची कीमत पर केरोसिन खरीदना पड़ता है। सरपंच अंबिका प्रसाद, मदन यादव, राजेश यादव, लाली यादव, राजू यादव, बच्चन पटेल आदि ने बताया कि दियारा वर्ती क्षेत्र होने के कारण जंगली जानवरों के साथ सांप, कीड़े-मकोड़े आदि जान लेवा जीवों का प्रवेश गांव में होने का खतरा हमेशा बना रहता है। इस स्थिति में लोगों को रोशनी की ज्यादा जरूरत रहती है। इस समय कोरोना के डर से बाहर कमाने गए लोग भी घर लौट रहे हैं। इससे सभी रोजगार धंधे बंद हो जाने के कारण आमदनी कम हो गई है। फलतः बाजार से ऊंची कीमत पर केरोसिन खरीद पाना भी मुश्किल हो रहा है। ग्रामीणों ने कहा कि रोशनी के संकट के कारण ज्यादातर घरों में दिन डूबने से पहले ही खाना बना लिया जाता है।
सुरक्षाकर्मी ने कहा- चाराें सोलर पैनल सुरक्षित हैं, जल्द लगा दिया जाएगा
स्थानीय ग्रामीण लालबाबू यादव, चंद्रदेव यादव, सुखल बैठा, झमन यादव आदि ने बताया कि सोलर प्लांट की रखवाली के लिए रखे गए सुरक्षा कर्मी ने ही प्लांट बंद होने के दौरान चार पैनल का प्लेट खोल ले गया। ये प्लेट अब तक लगाए नहीं गए हैं। हालांकि गार्ड शिवशंकर यादव ने बताया कि चारों पैनल सुरक्षित रखे गए हैं। इन्हें जल्द लगा दिया जाएगा।

इन गांव में नहीं पहुंची है बिजली
प्रखंड के सेमरा लबेदहा पंचायत के कांटी, बलजोरा, पिपरासी पंचायत के पिपरासी रेता, बऊक बैठा का घोठा, अमर यादव का टोला, सौरहा पंचायत के कठहवा रेता, बलुआ पंचायत के मदरहवा, बीरता, टाण्डी टोला, मुजा टोला, बलुआ, चरघरवा आदि गांव में अभी तक बिजली नहीं पहुंच सकी है।
सोलर प्लांट की बैट्री खराब हो गई है : कार्यपालक अभियंता
प्रोजेक्ट के कार्यपालक अभियंता अखिलेश चंद्र मिश्रा ने बताया कि सोलर प्लांट की बैट्री खराब हो गई है। फरवरी तक नई बैट्री आ जाने की संभावना है। बैट्री आने के बाद लगा दिया जाएगा। सोलर प्लेट खोल लिए जाने की जांच कराई जाएगी।

खबरें और भी हैं...