पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आजादी का अमृत महोत्सव:बगहा पहुंची एसएसबी की साइकिल रैली का 21वीं वाहिनी के कैंप परिसर में हुआ भव्य स्वागत

बेतिया9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
एसएसबी 21वीं वाहिनी के कैंप परिसर में नृत्य प्रस्तुत करते कलाकार। - Dainik Bhaskar
एसएसबी 21वीं वाहिनी के कैंप परिसर में नृत्य प्रस्तुत करते कलाकार।
  • स्वागत गान व थरुहट के पारंपरिक लोक नृत्य से मनमोहक बना माहौल

आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर असम के तेजपुर से चली साइकिल रैली मंगलवार को बगहा पहुंची तो एसएसबी 21वीं वाहिनी के कैंप परिसर में समारोह आयोजित कर भव्य स्वागत किया गया। गुवाहाटी, सिलीगुड़ी, पटना, मोतिहारी, बेतिया, नरकटियागंज के रास्ते यहां पहुंचे साइकिल रैली में शामिल जवानों का सनफ्लावर चिल्ड्रन एकेडमी व ऑक्सफोर्ड विद्यालय के छात्र - छात्राओं समेत एसएसबी 21वीं व 65वीं वाहिनी के अधिकारियों, जवानों ने फूल माला पहनाने के साथ चंदन लगाकर एसएसबी कैंप के मुख्य द्वार पर स्वागत किया। इसके बाद समारोह स्थल पर स्कूली छात्राओं ने स्वागत गान की प्रस्तुति कर पूरे परिवेश को गारिमामय बना डाला। थरुहट के पारंपरिक लोक नृत्य डांडिया व झूमर की प्रस्तुति लोक कलाकारों ने की तो उपस्थित लोग मुग्ध हो चले।
राष्ट्रीय एकता व अखंडता के भावों से भरी है साइकिल रैली | एसएसबी 21वीं वाहिनी के कमांडेंट प्रकाश ने इस अवसर पर संबोधन के दौरान कहा कि राष्ट्रीय एकता व अखंडता के भावों से भरी यह साइकिल रैली जनभावनाओं को देखते हुए असम से चलकर बिहार की तमाम जगहों का भ्रमण करते हुए बगहा पहुंची है। यह रैली 2 अक्टूबर को दिल्ली के राजघाट पहुंचेगी। उन्होंने कहा कि इस रैली में शामिल जवानों का साहस व पराक्रम नमनीय है। यह रैली हमें देश की आजादी के लिए किए गए संघर्षों की याद दिलाते हुए आजादी की बलिवेदी पर प्राण उत्सर्ग करने वाले वीर बलिदानियों के प्रति नमन निवेदित करने और उनसे प्रेरणा लेकर देश के नवनिर्माण के लिए सजग रहने की सीख देती है। वस्तुतः आजादी का अमृत महोत्सव राष्ट के जागरण का महोत्सव है।

यह स्वराज के सपनों को पूरा करने के साथ वैश्विक शांति और विकास का महोत्सव भी है। इतिहास साक्षी है कि राष्ट्र का गौरव तभी जागृत रहता है, जब अपने स्वाभिमान और बलिदान की परंपराओं को अपनी अगली पीढी को सिखाने के लिए हम तत्पर व प्रतिबद्ध रहते हैं। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित बगहा सिविल कोर्ट के न्यायाधीश अविनाश पांडेय व एसएसबी 65वीं वाहिनी के कमांडेंट ने भी अपने भावपूर्ण संबोधन के माध्यम से उपस्थित लोगों को देश के नवनिर्माण की दिशा में सतत प्रतिबद्ध रहने के लिए प्रेरित किया। इस अवसर पर एसएसबी के अधिकारियों, जवानों समेत बड़ी संख्या में छात्र - छात्राएं, शिक्षक व प्रबुद्धजन उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...