गिरफ्तारी:तारा हत्याकांड के आरोपी की नहीं हुई गिरफ्तारी दहशत में लाठी-डंडे लेकर लोग कर रहे रतजगा

बेतिया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हत्यारोपी मोतीलाल यादव के खौफ से रतजगा करते गांव के लोग। - Dainik Bhaskar
हत्यारोपी मोतीलाल यादव के खौफ से रतजगा करते गांव के लोग।
  • लक्ष्मीपुर का मामला : हत्यारोपी साधु की गिरफ्तारी के लिए ठिकानों पर पुलिस कर रही छापेमारी

बगहा- 1 प्रखंड की पतिलार पंचायत स्थित लक्ष्मीपुर गांव में पिछले 23 सितम्बर को हुई तारा देवी की नृशंस हत्या के कांड का मुख्य आरोपी तथाकथित साधु मोतीलाल यादव अबतक गिरफ्तार नहीं किया जा सका है। हालांकि उसके खौफ के कारण लक्ष्मीपुर के ग्रामीण रतजगा करने के लिए विवश हो गए हैं। गांव के लोग संगठित रूप से लाठी डंडे के साथ सारी सारी रात पहरा दे रहे हैं, ताकि फरार हत्यारोपी किसी अन्य व्यक्ति के साथ अनहोनी को अंजाम नहीं दे सके। मृतका तारा देवी के पति बेचू यादव व उनके बच्चों के साथ लाठी डंडे के साथ मौजूद इसी गांव के आधार यादव, अनिल यादव समेत दर्जन भर लोगों ने बताया कि हत्यारोपी मोतीलाल यादव साधु वेश में रहता है। वह इसी गांव के ब्याधा यादव की हत्या समेत कई अन्य संगीन कांडों का भी आरोपी रहा है। तारा देवी की हत्या के बाद 9 अन्य लोगों की हत्या करने की धमकी से जुड़ा संदेश भी उसने भेजा है। फलतः दहशत में पड़ी महिलाओं ने खेतों तक मे जाना छोड़ दिया है।

बताते चलें कि मोतीलाल ने बीते 23 सितम्बर को घास काटने के लिए सरेह में निकली बेगुनाह तारा देवी की हत्या धारदार हथियार से कर दी थी। नाम नही छापने के आग्रह पर कई ग्रामीणों ने बताया कि मोतीलाल यादव पूरे दिन गन्ने के खेत में छुपा रहता है लेकिन जैसे ही शाम होती है वह गांव की तरफ आ जाता है। इससे ग्रामीणों में दहशत काफी अधिक है। ग्रामीण शाम ढलते ही खेतों से गांव में आ जा रहे हैं। वहीं चौतरवा थानाध्यक्ष शंभूशरण गुप्ता ने बताया कि हत्यारोपी मोतीलाल यादव की गिरफ्तारी के लिए उसके संभावित ठिकानों पर लगातार छापामारी की जा रही है। रतवल दियारा में पुलिस टीम की छापेमारी के दौरान गंडक नदी में अधिक पानी होने के कारण वह बच निकला था। बुधवार को भी दियारा में छापामारी की गई। जल्द ही उसकी गिरफ्तारी कर ली जाएगी।

खबरें और भी हैं...