पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

समस्या:गन्ने के खेत में नमी नहीं, नहर व पइन से नहीं मिल रहा पानी

बेतिया13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सिंचाई के अभाव में सूख रही गन्ने की फसल। - Dainik Bhaskar
सिंचाई के अभाव में सूख रही गन्ने की फसल।
  • सिंचाई को लेकर चिंतित हैं किसान, पंपसेट से खेत में पटवन करने में हाेगा अतिरिक्त खर्च, बढ़ेगी परेशानी

प्रखंड के गन्ना किसानों की चिंता एक बार फिर बढ़ गई है। पिछले साल कोरोना काल व लॉकडाउन में। इस बार कोरोना संक्रमण की दूसरी स्ट्रेन किसानों को प्रभावित कर रही है। इन सबके बीच किसान गन्ना फसल लगे खेतों में नमी के अभाव को लेकर चिंतित हैं। नहर व पइन में पानी नहीं मिल रहा है। जिससे किसानों को पंपसेट की मदद से खेत का पटवन करना पड़ रहा है। इस तरह किसानों को आर्थिक बोझ उठाना पड़ रहा है। किसान शत्रुघ्न यादव, मोती सहनी, शंकर गोंड, भरत साह, बलिराम चौधरी आदि का कहना है कि गन्ना फसल को लेकर चिंता बढ़ गई है।

बारिश नहीं होने व पइन, नहर में पानी नहीं मिलने से अधिक परेशानी हो रही है। कुछ सक्षम किसान जैसे तैसे रुपए जोड़कर पंपसेट की मदद से पटवन करवा रहे हैं। डीजल का भाव भी अधिक है। इस तरह वैसे किसानों को आर्थिक बोझ उठानी पड़ रही है।लेकिन अधिकतर किसान नहर, पइन में पानी आने तथा अच्छी बारिश होने के इंतजार में हैं। समय से सिंचाई नहीं हुई तो फसल खराब होने की चिंता बनी है।

किसानों को हर खेत काे पानी योजना लाभ नहीं मिल रहा है

सरकार की हर खेत को पानी मिले योजना भी अब तक धरातल पर नहीं उतर सकी है। जिससे किसानों की सिंचाई व्यवस्था सुदृढ हो सके। गौरतलब हो कि सरकार की महत्वपूर्ण योजना हर खेत को पानी मिले को धरातल पर उतारने के लिए कृषि विभाग ने गांव-गांव में सर्वे करवाया। ताकि किसानों के खेत को नहर, पइन से जोड़ा जा सके। जहां इन संसाधनों का अभाव है, वहां ट्यूबवेल (बोरिंग) की मदद से पानी मुहैया कराने की योजना है। लेकिन अब तक किसानों को इसका लाभ नहीं मिल सका है। इधर क्षेत्र के नहर व पइन की स्थिति भी खराब है। कई पइन की साफ सफाई तक नहीं की जा सकी है। कई जगह पर तटबंध भी टूटे हैं। ऐसे में किसानों को पानी के लिए काफी समस्या हो रही है।

हर खेत को पानी मिले योजन के तहत पंचायतों में सर्वे कार्य करवाया जा रहा है। सर्वे पूर्ण होने के बाद हर प्लॉट का नक्शा तैयार होगा। जहां पानी की सुविधा नहीं होगी, वहां ट्यूबवेल की मदद से पानी पहुंचाया जाएगा। इसके लिए कार्य किया जा रहा है।
श्रीकांत ठाकुर, प्रभारी बीएओ, नरकटियागंज।
गरमा व खरीफ फसल सिंचाई के लिए 25 अप्रैल से नहर में पानी छोड़ा जाता है। चूंकि अभी सिविल व यांत्रिक वर्क चल रहा है। मरम्मति पूर्ण होते हीं एक सप्ताह के भीतर नहर में पानी छोड़ दिया जाएगा। वहीं पइन के जीर्णोद्धार को लेकर हर खेत को पानी योजना से जोड़ा गया है। फंड उपलब्ध होने पर इनकी मरम्मति भी करवाई जाएगी।
रामनिरंजन कुमार राम, कनीय अभियंता, त्रिवेणी नहर प्रमंडल, नरकटियागंज।

​​​​​​​

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आर्थिक स्थिति में सुधार लाने के लिए आप अपने प्रयासों में कुछ परिवर्तन लाएंगे और इसमें आपको कामयाबी भी मिलेगी। कुछ समय घर में बागवानी करने तथा बच्चों के साथ व्यतीत करने से मानसिक सुकून मिलेगा...

    और पढ़ें