पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आस्था:वाल्मीकिनगर एक बार फिर कांवरियों से हुआ गुलजार यूपी-बिहार से जल भरने पहुंचे शिव भक्त, लगे जयकारे

बेतिया8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
वाल्मीकिनगर पहुंचा कांवरियों का जत्था। - Dainik Bhaskar
वाल्मीकिनगर पहुंचा कांवरियों का जत्था।
  • भादो महीने की त्रयोदशी को अरेराज के सोमेश्वर नाथ को करेंगे जलाभिषेक, उमड़ती है भारी भीड़

वाल्मीकिनगर स्थित गंडक नारायणी के संगम तट इन दिनों सैकड़ों कांवरियों के आने से वाल्मीकिनगर गुलजार हो गया है। ओम नमः शिवाय और बोल बम के नारे से पूरा वातावरण गुंजायमान हो रहा है। भक्तों की आवाजाही को देखने के लिए स्थानीय लोग में भी उत्सुकता बनी हुई है। जल भरने के लिए श्रद्धालुओं का वाल्मीकिनगर पहुंचने का सिलसिला अभी जारी है। मंगलवार को पहुंचे कांवरियों की एक जत्था यूपी और बिहार के पूर्वी चंपारण से सैकड़ों की संख्या में पहुंचकर गंडक नदी में डुबकी लगाए। बोल बम के नारों के बीच शिव भक्त वाल्मीकिनगर के गोल चौक से होते हुए कोलेश्वर मंदिर घाट पर पहुंचकर जल बोझी की ।विदित हो कि कांवरिया गंडक नदी के संगम तट से जलभर कर बोल बम के नारे के साथ पूर्वी चंपारण के लिए चलें। जो भादों त्रयोदशी के मौके पर अरेराज स्थित बाबा सोमेश्वर नाथ महादेव पर जलाभिषेक करेंगे। संकल्प लेते हुए अरेराज रवाना|इसके पूर्व कांवरिया गंडक नदी में स्नान कर कांवर की पूजा अर्चना कर संकल्प लेते हुए अरेराज धाम के लिए रवाना हुए। इस मौके पर बोलबम एवं हर-हर महादेव की जयघोष करते हुए श्रद्धालुओं ने बताया कि वाल्मीकिनगर स्थित नारायणी गंडक के त्रिवेणी संगम से हम कावरियां प्रत्येक वर्ष जल भरने के लिए आते हैं। त्रिवेणी तट से जलबोझी कर अरेराज धाम में निवास करने वाले बाबा सोमेश्वर नाथ का जलाभिषेक करने का यह सिलसिला विगत कई वर्षों से चला आ रहा है। यह गंगा स्नान एवं जल भरने की शुरुआत गणेश चतुर्थी से शुरू होता है। श्रद्धालुओं ने बताया कि सावन महीने में चढ़ाए गए जल से ज्यादा महत्त्व भादो महीने में जलाभिषेक करने की होती है।

खबरें और भी हैं...