पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जुनून:डमरापुर में युवा पहलवान सीख रहे कुश्ती का दांव-पेंच

सहोदरा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सुबह के चार से सात बजे तक युवा पहलवानों को दांव-पेंच सिखाते हैं गोरख यादव

मैंनाटाड प्रखंड के डमरापुर गांव में दो दर्जन से अधिक युवा पहलवान कुश्ती का दांव-पेंच सीख रहें हैं। बिहार के कोने-कोने में अपने कुश्ती का दमखम दिखाए छः दशक पार कर चुके स्थानीय पहलवान गोरख यादव इनको प्रतिदिन सुबह के चार बजे से सात बजे तक प्रशिक्षण देते हैं। बारीकी से दांव-पेंच सिखाने के लिए वे बच्चों के साथ दो-दो हाथ भी करते हैं ताकि युवा पहलवान मनोवैज्ञानिक रूप से कुश्ती का दांव-पेंच सीख पाए और सामने वाले पहलवान को चित कर पायें।

प्रशिक्षण के दौरान गांव के दर्जनों लोग हौसला अफजाई के लिए मौके पर उपस्थित रहते हैं। ताकि भीड़ भांड वाले अखाड़े में इनको परेशानी न हो और खुल कर अपने दाव-पेंच का प्रदर्शन कर जीत हासिल कर सकें। डमरापुर निवासी गोरख ठाकुर ने बताया कि मैं जो कुछ अपने समय में सीखा हूं इनको बता रहा हुं। अगर इनको सही दिशा-निर्देश मिलें तो ये युवा पहलवान जिला से लेकर अंतरराष्ट्रीय मंच पर भी अपना पराक्रम दिखाने के लिए तैयार हो सकते हैं। उन्होंने बताया कि ये सभी युवा हैं और पहलवानी करना इनको अच्छा लग रहा हैं। अगर इनको अच्छी दिशा-निर्देश व एक अच्छा कोंच मिल जाएं तो ये उस प्लेटफार्म से बहुत आगे तक खेल सकते हैं। बेहतर दिशा-निर्देश नही मिलने से इनके अंदर छुपी प्रतिभा कुंठित हो रही हैं।
कुश्ती पर सरकार ध्यान दें तो मिलेगा अच्छा नतीजा : कुश्ती का प्रशिक्षण ले रहे हैं युवा विशाल कुमार ठाकुर, राजा यादव, अमताब यादव, प्रदीप यादव, मुन्ना यादव, मनोज यादव आदि ने बताया कि उनकी पहचान कुश्ती हैं। वे लोग एक सफल और कुशल कोच के तलाश में हैं जो इन्हें मैट पर कुश्ती खेलने का तौर तरीका व नियमों के बारे में बता सकें। उनलोगों ने बताया कि वे लोग राज्य और देश के लिए मैट पर कुश्ती खेलने के लिए उतरना चाहतें हैं। लेकिन सही दिशा नही मिलने के कारण परेशान हैं।

डमरापुर पंचायत के मुखिया सत्येन्द्र यादव ने बताया कि ये सभी पहलवान एक से बढ़ कर एक हैं। गवही मेला के आयोजन में अपना पराक्रम दिखाने के बाद अब ये दूसरें शहर भी जाकर पहलवानी कर रहें हैं। वहां से जीत कर लौटने पर हर्षित हैं। भारत के लिए स्वर्ण पदक जीत चुके सुशील कुमार, बजरंग पूनिया को अपना आदर्श मानते हैं। कुश्ती को अपनाए बच्चों को सरकार से बहुत उम्मीदें हैं। सरकार को इनके उम्मीदें पर ध्यान देते हुए जिला में एक कुश्ती एकेडमी का व्यवस्था करनी चाहिए जिसमें होनहार खिलाडिय़ों का चयन कर उनको आगे बढाने का प्रयास होना चाहिए।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज व्यक्तिगत तथा पारिवारिक गतिविधियों के प्रति ज्यादा ध्यान केंद्रित रहेगा। इस समय ग्रह स्थितियां आपके लिए बेहतरीन परिस्थितियां बना रही हैं। आपको अपनी प्रतिभा व योग्यता को साबित करने का अवसर ...

और पढ़ें