पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

आफत की बाढ़:जितौरा गोपालपुर के सैकड़ों लोगों ने आंगनबाड़ी केंद्र समेत ऊंची जगहों पर ली शरण, अब भी पानी से घिरा हुआ है घर

चकिया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • दलित-महादलित समाज के 800 से अधिक लोग बाढ़ में घिर गए, किसी तरह-तरह एक-एक कर बाहर निकले

बाढ़ का नाम सुनते ही लोगों के आंखों में तबाही का मंजर तैरने लगता है। इस वर्ष वर्षा भी एक दशक के रिकॉर्ड को ध्वस्त कर बाढ़ का भयानक रूप ले लिया है। इस कारण सभी पशु-पक्षी सहित आमजन की जिंदगी को अस्त-व्यस्त कर दिया है। किसानों की कमर टूट गई है। खेतों में लगा अधिकतर फसलें बर्बाद हो गया है। कुड़िया पंचायत के वार्ड बारह जितौरा गोपालपुर टोला चारों तरफ से पानी से घिर गया है। यहां 800 से अधिक लोग पानी से घिरे थे। सभी गरीबी रेखा के नीचे जीवन बसर करते हैं। जो दलित-महादलित समाज से आते हैं। मेहनत मजदूरी कर अपना जीविकोपार्जन करते हैं। बीते एक माह से टोला वासी जल जमाव की विभीषिका झेल रहे हैं। घरों में तीन से चार फीट पानी लगा हुआ है। जिससे कई घर ध्वस्त हो चुके है। टोलावासी अपना-अपना घर छोड़ आंगनबाड़ी केंद्र संख्या 136 सहित अन्य ऊंचे स्थान पर पशु के साथ रह रहे हैं। टोलावासी योगी पासवान, ललन पासवान, श्याम बहादुर पासवान, महेंद्र पासवान, भूषण माझी, सिकंदर मांझी, शंकर मांझी, जैनुल अंसारी, अयूब अंसारी, किशोरी प्रसाद, भिखारी साह, ललन प्रसाद, रामानन्द साह ने बताया कि जल जमाव से स्थिति बदतर हो गई है। अधिकतर घरों में 3 से 4 फीट तक पानी बीते एक माह से लगा हुआ है। घर में रखा कोठी का अनाज जलावन तथा पशु के लिए रखा चारा आदि नष्ट हो गया है। चापाकल पानी में डूबा है। घर के समीप मनियर में डूबने से सिकंदर मांझी के चार वर्षीय पुत्र का मौत हो गई थी। साथ ही अधिक दिनों तक पशु को पानी में रहने के कारण बीमारी होने लगी है। जिस कारण सोमवार को महेंद्र पासवान की गाय मर गयी। रात में विषैले जानवर का खतरा बना रहता है। सर्पदंश से बचने के लिए रात में जाग कर वक्त गुजारना पड़ता है। शौचालय घर में पानी भर जाने के कारण रात्रि में शौच जाने के भय से लोग भर पेट भोजन करने से बचने लगे हैं। यहां अस्थाई शौचालय घर बनाया गया है।

बिजली की आंख मिचौली ने और परेशान कर दिया है। अभी तक कोई सरकारी सहायता नहीं मिली है न कोई जनप्रतिनिधी तथा अधिकारी या हल्का कर्मचारी सुधि लेने आया है। जो अफसोस की बात है। वहीं वार्ड सदस्य कृष्णा साह ने बताया कि बीडीओ, सीओ, हल्का कर्मचारी सहित अन्य को भी दिया है। परंतु वे लोग टालमटोल की नीति अपना रहे हैं। वहीं बीडीओ अब्दुल क्यूम ने बताया कि उस पंचायत के हल्का कर्मचारी को सर्वेक्षण कर जीआर की प्रक्रिया के लिए आदेश दिया गया है।

भवानीपुर में बांध बांधने का काम पूरा, रोकी पानी की धारा

जितौरा गोपालपुर गांव में पानी में डूबे घर से बाहर निकलते ग्रामीण।
जितौरा गोपालपुर गांव में पानी में डूबे घर से बाहर निकलते ग्रामीण।

प्रखंड के भवानीपुर निहालु टोला में 23 जुलाई की रात में टूटे बांध की मरम्मत कार्य अंतिम चरण में है। मुख्य बांध के दक्षिण दिशा में बगल से रिंग बांध के चार लेयर का कार्य पूर्णता की स्थिति में पहुंच चुका है। चम्पारण तटबन्ध के अधीक्षण अभियंता उमानाथ राम के द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार तेईस जुलाई को बांध टूटा,चौबीस जुलाई से ही नदी के तेज बहाव को कम करने के लिए पेंड, बांस, बोरा आदि का प्रयोग किया गया। लेकिन पचीस जुलाई से काम का सकारात्मक परिणाम आने लगा। प्रतिदिन ढाई से तीन सौ मजदूरों की अथक मेहनत व अभियंताओं की तकनीक ने दसवें दिन नदी की बहती धारा पर काबू पाया और गांव में बह रहे पानी के बहाव को मोड़कर नदी के साथ बहने को मजबूर कर दिया।

तीन दर्जन से अधिक सागवान व अन्य पेड़ाें को काटा गया| बांध टूटने के बाद कटाव रोधी कार्य मे बांध पर पर्यावरण सुरक्षा को लेकर वर्षों पूर्व लगाए गए सागवान व अन्य मोटे मोटे वृक्षों को काटकर लगा दिया गया। बांध पर पेड़ों की कटाई का दृश्य बाँध टूटने से हुई हर प्रकार की क्षति की गवाही दे रहा है। इन काटे गए पेड़ों की मोटाई तीन फीट से लेकर सात सात फिट तक है। इस संदर्भ में अरेराज वन विभाग की अधिकारी रूपा कुमारी ने कहा कि इनकी कटाई का आदेश डीएम साहब ने दिया था। आपदा के कारण जान माल की सुरक्षा के मद्देनजर इनकी कटाई की गई है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- मेष राशि वालों से अनुरोध है कि आज बाहरी गतिविधियों को स्थगित करके घर पर ही अपनी वित्तीय योजनाओं संबंधी कार्यों पर ध्यान केंद्रित रखें। आपके कार्य संपन्न होंगे। घर में भी एक खुशनुमा माहौल बना ...

और पढ़ें