पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कार्यक्रम:बच्चों को जन्म के एक घंटे के अंदर से लेकर 6 माह तक सिर्फ मां का ही दूध दें, इससे कुपोषण की आशंका कम हो जाती है : उषा

चोरौत2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • विश्व स्तनपान सप्ताह को सफल बनाने का लिया संकल्प, कहा- मां का दूध शिशुओं के लिए सर्वोत्तम आहार

प्रखंड क्षेत्र के बेहटा गांव स्थित आंगनबाड़ी केंद्र संख्या 56 पर विश्व स्तनपान सप्ताह कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर पिरामल फाउंडेशन के बीटीओ शशि भूषण कुमार व सेविका अनुपमा कुमारी की देखरेख में काउंटर लगाया गया था। उपस्थित स्वास्थ्य कर्मियों ने लाभार्थियों के साथ विश्व स्तनपान सप्ताह को सफल बनाने का संकल्प लिया। वहीं एएनएम उषा कुमारी ने स्तनपान से संबंधित जानकारी दी। कहा कि मां का दूध बच्चों के लिए अमृत समान है। बच्चों के जन्म के एक घंटा के अंदर मां का पहला गाढ़ा पीला दूध ही सर्वोत्तम अहार के रूप में देना चाहिए।

मां का पहला गाढ़ा पीला दूध बच्चों में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। शशि भूषण कुमार ने बताया कि बच्चों को जन्म के एक घंटे के अंदर से लेकर छह माह तक सिर्फ मां का ही दूध दे। इससे बच्चों में कुपोषण की संभावना कम हो जाती है। सेविका अनुपमा कुमारी ने कहा कि विश्व स्तनपान सप्ताह के अवसर पर विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से महिलाओं को जागरूक करें। मौके पर आशा कार्यकर्ता सुचिता कुमारी के साथ ही कई अन्य लाभार्थी मौजूद थी। बोखड़ा : खड़का गांव में ग्रामीण स्वास्थ्य, स्वच्छता एवं पोषण दिवस का आयोजन पीरामल फाउंडेशन के कुमार ताराचंद के नेतृत्व किया गया। पंचायत के वार्ड 15 के आंगनबाड़ी केंद्र संख्या 26 पर आयोजित कार्यक्रम में वार्ड सदस्य सिकली देवी ने सभी धात्री एवं गर्भवती महिलाओं को स्तनपान के फायदे के बारे में विस्तार से बताया। वही श्री ताराचंद्र व उपस्थित अन्य स्वास्थ्य कर्मी एवं लाभार्थियों ने इसको लेकर शपथ लिया। बताया गया कि अपने बच्चों को छह माह तक केवल स्तनपान कराना चाहिए। इसके लिए वे सभी सभी महिलाओं को जागरूक करेंगी। मौके पर एएनएम मधुमति कुमारी, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता रंजना कुमारी, आशा निरंजना कुमारी, आशा फैसिलिटेटर आशा देवी आदि थी।

स्तनपान कराने से कुपोषण व संक्रामक बीमारियों से नवजात को रखा जा सकता सुरक्षित : डॉ. आरके यादव

सीतामढ़ी| कोरोना आपदा के बीच नवजात शिशुओं के पोषण को ध्यान में रखते हुए आगामी 7 अगस्त तक विश्व स्तनपान सप्ताह मनाया जा रहा है। स्तनपान सप्ताह के मद्देनजर स्वास्थ्य विभाग ने आशा व आंगनबाड़ी सेविकाओं सहित अस्पतालों के स्टाफ नर्स, एएनएम, आरएमएनसीएच प्लस ए काउंसलर, ममता, चिकित्सक एवं अन्य स्वास्थ्य कर्मी को प्रसूताओं व धात्री महिलाओं को नियमित स्तनपान के फायदों के बारे में जानकारी दी जा रही है। ताकि अस्पतालों में आने वाले गर्भवती महिलाओं को स्तनपान के बारे में जानकारी दे सके।

जिला भीबीडी नियंत्रण पदाधिकारी डॉ. आरके यादव ने बताया कि शिशु जन्म के 1 घंटा के भीतर शिशुओं को स्तनपान कराने से नवजात शिशु की मृत्यु दर में 20 प्रतिशत की कमी लायी जा सकती है। वहीं 6 माह तक सिर्फ स्तनपान करने वाले शिशुओं में डायरिया से 11 प्रतिशत एवं निमोनिया से 15 प्रतिशत तक कम मृत्यु होने की संभावना होती है। 6 माह तक शिशुओं को सिर्फ स्तनपान कराना चाहिए।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में रहेगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा। पिछले कुछ समय से चल रही किसी समस्या का समाधान मिलने से राहत मिलेगी। कोई बड़ा निवेश करने के लिए समय उत्तम है। नेगेटिव- परंतु दोपहर बाद परिस...

और पढ़ें