मिली राहत:2 दिन बाद एयरपोर्ट से दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरू के लिए छह विमान उड़े

दरभंगा13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बेंगलुरू जाने वाली फ्लाइट एसजी 694 एयरपोर्ट से 55 मिनट लेट उड़ी और आने वाली फ्लाइट 40 मिनट देरी से पहुंची, शुक्रवार को 750 यात्रियों ने किया सफर

हल्की धूप निकलने के बाद शुक्रवार काे दाे दिन बार दरभंगा एयरपोर्ट से बंगलुरू, दिल्ली और मुंबई के 6 विमानों ने हैंडिंग की एवं उड़ान भरी। दरभंगा से बेंगलुरू जाने वाली फ्लाइट एसजी 694 दरभंगा एयरपोर्ट से 55 मिनट लेट यानी दिन के 1 बजे उड़ान भरी। वहीं बंगलुरू से दरभंगा आने वाली फ्लाइट एसजी 694 लगभग 40 मिनट लेट से पहुंची। वहीं दरभंगा से दिल्ली जाने वाली फ्लाइट ने 12.50 बजे उड़ान भरी एवं दिल्ली से दरभंगा आने वाली फ्लाइट ने 1.30 लैंडिंग की। उसी तरह दरभंगा से मुंबई जाने वाली फ्लाइट ने 1.55 बजे उड़ान भरी एवं मुंबई से दरभंगा आने वाली फ्लाइट ने 2.30 बजे लैंडिंग की।

सामान्य दिनाें में इस एयरपाेर्ट पर 2500 से 2600 यात्री आते व जाते हैं। लेकिन शुक्रवार काे 750 यात्रियाें ने उड़ान भरी एवं लैंडिंग की। दरभंगा एयरपोर्ट से उड़ान सेवा शुरू हाेने से पटना एयरपोर्ट पर यात्रियों का दबाव कम हाेने लगा था लेकिन यहां उड़ानें रद्द हाेने से पटना पर यात्रियाें का मूवमेंट पटना की ओर शुरू हो गया है। यात्री दूरदराज से आते हैं और जब यहां पर विमान रद्द होने की सूचना मिलती है तो वे मायूस होकर पुनः पटना के लिए रवाना हाे जाते हैं।

एयरपाेर्ट आथाेरिटी काे कुहासे में भी उड़ान की व्यवस्था करनी चाहिए : सुमित

मुंबई से दरभंगा एयरपोर्ट पर उतरे यात्री सीतामढ़ी के सुमित कुमार चौबे ने बताया कि यरपोर्ट की शुरुआत जिस तरीके से हुई उस तरीके से यहां सुविधा उपलब्ध नहीं होने के कारण हम लोग दो-तीन लोग से लगातार न्यूज़ में पढ़ रहे थे कि सभी विमान रद्द हो रहे हैं। विमान रद्द होने के कारण जिन लोगों को कहीं जरूरी काम से अाना जाना रहता है उन्हें काफी समस्या होती है । इसके लिए एयरपोर्ट प्रशासन को काेहरा के समय भी उड़ान की व्यवस्था करनी चाहिए।

एयरपाेर्ट पर यात्री सुविधा का अभाव : रणधीर कुमार

दिल्ली के फ्लाइट से पहुंचे रणधीर कुमार ने बताया कि दरभंगा एयरपोर्ट माैसमी एयरपोर्ट बन कर रह गया। जब इस एयरपोर्ट की शुरुआत हुई थी तो मिथिलांचल सहित नेपाल तक के लोग काफी खुश हुए थे। किंतु एयरपोर्ट पर यात्रियों की सुविधा के नाम पर कुछ भी नहीं है। इससे सही करने के बाद ही इस एयरपोर्ट का और अधिक विकास होना संभव है।

खबरें और भी हैं...