पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

नाराजगी:कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद भी सेनेटाइजेशन नहीं होने से आक्रोश

दरभंगा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद मैरची पाड़ो गांव जानेवाली सड़क की हुई घेराबंदी।
  • सेनेटाइज करने के लिए नहीं मिल रहा मजदूर, मुखिया सहयोग करें : डाॅ. फूल

प्रखंड क्षेत्र के पाड़ो एवं मैरची गांव के तीन प्रवासी श्रमिकों के 20 मई कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद दोनों गांवों को अब तक सेनेटाइज नहीं करने से लोगों में दहशत है। वहीं इसको लेकर प्रशासन पूरी तरह लापरवाह है। जिससे स्थानीय लोगों में प्रशासन के प्रति आक्रोश व्याप्त है। मालूम हाे कि मैरची एवं पाड़ाे गांव एक-दूसरे के पास है। दोनों गांवों में आने जाने के लिए एक ही रास्ता है। तीनों संक्रमित व्यक्ति इन्हीं दो गांव के हैं। पाड़ो के संक्रमित व्यक्ति के एक साथी दिल्ली से साथ चलकर मध्य विद्यालय हरौली क्वारेंटाइन सेंटर में साथ साथ एक ही कमरे में रहे और डिस्चार्ज होने के बाद दोनों एक साथ अपने-अपने घर पहुंचे। बाद में कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति को प्रशासन ने पकड़ कर डीएमसीएच भेज दिया। लेकिन उसके साथी काे वहीं छाेड़ दियाद। जिसके बाद खतरा बढ़ता देख 22 मई काे परिजनाें और गांव वालाें ने दबाव बनाकर उसे वापस क्वारेंटाइन सेंटर में भेज दिया। लेकिन अभी तक प्रशासन ने दोनों गांवों को संक्रमित होने से बचाने का कोई उपाय नहीं किया है और न ही संपर्क में अाए लाेगाें की जांच की गई है। 
सेनेटाइज करवाने के लिए पीएचसी प्रभारी को बोले हैं : नोडल पदाधिकारी 
इस संबंध में कोविड-19 के प्रखंड नोडल अधिकारी सीओ मनोज कुमार श्रीवास्तव से पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि पीएचसी के चिकित्सा पदाधिकारी को दोनों गांवों को सेनेटाइज करवाने के लिए कहा गया है। 
मजदूर मिलते ही दोनों गांवों को पूर्ण सेनेटाइज किया जाएगा : पीएचसी प्रभारी
पीएचसी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डाॅ. फूल कुमार झा ने बताया कि दोनों गांवों को सेनेटाइज करने के लिए मजदूर नहीं मिला है। मजदूर की व्यवस्था के लिए मुखिया को सहयोग करने को कहा है। मजदूर मिलते ही दोनों गांवों को पूर्ण सेनेटाइज किया जाएगा।
लोगों ने कहा-लापरवाह बना हुआ है प्रशासन 
पाड़ो गांव के रमेश चौपाल, गुरुचरण राउत, मैरची गांव के नित्यानंद झा, मो. गुलाब हसन ने बताया कि कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि 20 मई को हुई थी। लेकिन अब तक दोनों गांवों को सेनेटाइज भी नहीं किया गया है। सुरक्षा के नाम पर मुख्य पथ से गांव तक जाने वाले पहुंच पथ को मात्र बांस बल्ला से घेर दिया गया है। परन्तु किसी के गांव में आने जाने पर रोक लगाने वाला कोई नहीं है।
नोडल पदाधिकारी से कई बार किया गया है अनुरोध
मुखिया हरेराम राय ने बताया कि गांव को सेनेटाइज करवाने के लिए प्रखंड नोडल पदाधिकारी एवं पीएचसी चिकित्सा पदाधिकारी से कई बार अनुरोध किए हैं। लेकिन दोनों पदाधिकारियों ने एक-दूसरे का दायित्व बताकर पल्ला झाड़ लिए हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का दिन परिवार व बच्चों के साथ समय व्यतीत करने का है। साथ ही शॉपिंग और मनोरंजन संबंधी कार्यों में भी समय व्यतीत होगा। आपके व्यक्तित्व संबंधी कुछ सकारात्मक बातें लोगों के सामने आएंगी। जिसके ...

और पढ़ें