पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

दुर्घटना:मछुआरों व किसानों के विवाद को सुलझाने गए सीओ व ओपी प्रभारी को बनाया बंधक, छुपकर बचाई जान

दरभंगा7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • तिलकेश्वर ओपी के सुघराइन गांव का मामला : मछली उत्पादन के लिए पांच एकड़ जमीन पर मछुवारों ने रोक दिया पानी

तिलकेश्वर ओपी के सुघराइन गांव में मछुआरों व किसानों के बीच जलजमाव को लेकर तनाव बढ़ता जा रहा है। कभी भी दोनों के बीच मारपीट भी हुई है। खेतों को जलजमाव को लेकर किसानों एवं मछुआरों के बीच लगभग दो महीने से चले आ रहे विवाद को सलटाने गुरुवार को पहुंचे सीओ त्रिवेणी प्रसाद व तिलकेश्वर ओपी प्रभारी अखिलेश कुमार सिंह को ग्रामीणों ने बंधक बना लिया। मारपीट की स्थिति देखते हुए दोनों पदाधिकारियों ने एक कमरे में घुस कर अपनी जान बचाई। फिर कुछ प्रबुद्ध लोगों के प्रयास से दोनों पदाधिकारी उस कमरे से निकले और खौर हटा देने का आश्वासन देकर नाव के सहारे भाग निकले। ताज्जुब वाली बात यह है कि तनाव को देखते हुए 73 लोगों पर धारा 107 के तहत कार्रवाई हो चुकी है।
मछली उत्पादन के लिए पानी का बहाव रोक रखे हुए हैं मछुआरे
बाढ़ के कारण सुधराइन गांव के आसपास के तकरीबन 5 एकड़ कृषि योग्य भूमि में जलजमाव है। बाढ़ से धान की फसल बर्बाद हो गई। जलजमाव नहीं हटा तो रबी की खेती भी मारी जाएगी। किसान चाहते हैं कि जमजमाव हटे लेकिन मछुआरे मछली की पैदावार को लेकर पानी को खौर लगाकर रोके हुए हैं। वे नहीं चाहते कि जलजमाव हटे। किसानों को कहना है जलजमाव वाली जमीन उनकी है। मछुआरों का बगल में जलकर है। इस कारण दोनों पक्षों में तनाव है।

खेत में पानी को लेकर किसानों में मछुआरों के प्रति आक्रोश, गांव में तनाव

12 सितंबर को हुई थी दोनों पक्षों की बैठक

12 सितंबर को कुशेश्वरस्थान थाना पर दोनों पक्षों को बुलाकर एसडीओ ,एसडीपीओ दिलीप कुमार झा, सीओ तथा दोनों थाना के थाना अध्यक्ष की मौजूदगी में बैठक हुई, जिसमें मछुआरे पक्ष के लोगों को खौर हटाने को निर्देश दिया गया था और शांति व्यवस्था बहाल करने के लिए पुलिस कैम्प की व्यवस्था की गई थी ।लेकिन एक महीना के बाद मछुआरों ने फिर से जोड़ जबरदस्ती खेत में खौर लगा दिया, जिससे पानी का बहाव रुक गया।

ग्रामीणों का आरोप : तिलकेश्वर ओपी प्रभारी के कारण यह स्थिति
खौर लगाने के कारण दोनों पक्षों के बीच उपजे विवाद को समाप्त करने के लिए गुरुवार को सीओ त्रिवेणी प्रसाद गांव में बने रेज्ड प्लेटफॉर्म पर पहुंचे। ग्रामीणों से बातचीत शुरू हुई। इसके कुछ देर बाद तिलकेश्वर ओपी प्रभारी भी पहुंचे। उनके पीछे पीछे मछुआरों के पक्ष में सैकड़ों महिलाएं पहुंचीं। वे कहने लगे कि खौर हटाने नहीं देंगे। तभी किसान पक्ष के महिलाएं एवं पुरुष आक्रोशित हो गए। इस बात को लेकर कि तिलकेश्वर ओपी प्रभारी मछुआरा पक्ष से सांठगांठ कर महिलाओं को जमा करवाया है।

किसान पक्ष के महिलाओं एवं पुरुषों का कहना था कि जब तक खौर नहीं हटाइएगा तब तक नहीं जाने देंगे तो वहीं मछुआरों के पक्ष की महिलाओं का कहना था कि खौर नहीं हटाने देंगे। मछुआरा पक्ष की महिलाएं इस बात को लेकर अटल थी कि खौर वहीं रहेगा। फैसला करें तभी जा सकते है। दोनों पक्षों के बीच तनातनी और बंधक बने अधिकारी ने जान बचाकर रेजड प्लेटफॉर्म पर बने कमरे में घुस गए। बाद में स्थानीय लोगों के प्रयास से इन्हें बाहर किया गया और ये लोग आश्वासन देकर भाग निकले। खौर नही हटाया गया है। इसलिए ग्रामीणों में आक्रोश बना हुआ है। किसानों का सीधा आरोप है कि तिलकेश्वर प्रभारी ही जान बूझकर मामला को फंसाए हुए हैं। मछुआरों का साथ देकर खूनी संघर्ष कराना चाहते हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप सभी कार्यों को बेहतरीन तरीके से पूरा करने में सक्षम रहेंगे। आप की दबी हुई कोई प्रतिभा लोगों के समक्ष उजागर होगी। जिससे आपका आत्मविश्वास बढ़ेगा तथा मान-सम्मान में भी वृद्धि होगी। घर की सुख-स...

और पढ़ें