पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

दुर्गा पूजा:कोरोना ने दुर्गा पूजा की रौनक को किया फीका, इस बार बदला दिखेगा दरबार

दरभंगा9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
गायत्री मंदिर बाकरगंज।
  • शहर में पूजा पंडाल के दर्शन को लेकर कम रहेगा उत्साह, मेला भी नहीं लगेगा

कोरोना महामारी से बचने के लिए प्रशासनिक स्तर पर की गई कड़ाई और पूजा समितियों को पंडाल नहीं बनाने दिए जाने की स्थिति में इस साल दुर्गा पूजा की रौनक फीकी पड़ने लगी है। पूर्व के वर्षों में संसद भवन, टाइटेनिक जहाज, दोनार में बनने वाले स्टॉक मार्केट सहित अन्य पहाड़ और गुफाओं से होकर देवी की दर्शन को लेकर जगह-जगह बनने वाले भव्य पूजा पंडाल और सजावट इस बार नजर नहीं आएगी। हसन चौक, दोनार चौक आदि जगहों पर सड़क पर बनने वाले गुफा नजर नहीं आएगी।

भीड़ से बचने और सोशल डिस्टेंस का पालन करने के बीच पंडाल और भव्य आयोजन पर राेक लगाए जाने से कोरोना ने दुर्गा पूजा की रौनक को फिका कर दिया है। इस साल अन्य सालों से बदला रहेगा माता का दरबार और नहीं दिखेगी भव्य पूजा पंडाल। इस वजह से शहर में पूजा पंडाल के दर्शन को लेकर कम ही रहेगी उत्साह, मेला नहीं लगने की स्थिति घरों में सिमटे रहेंगे श्रद्धालु।

सेनेटाइजेशन के लिए व्यवस्था के बीच सोशल डिस्टेंस कायम रहेगा

मालूम हो कि चट्टी चौक से पूरब गोविंदपुर बाजार में भव्य पंडाल और भव्य शोभायात्रा निकला था और मेला भी यहां का खास रहता है। समिति अध्यक्ष अजय चौधरी कहते हैं कि गत वर्ष यहां खोंइछा भरने के लिए 12 गांव से 55 सौ महिलाएं आई थीं। मगर इस बार भव्य आयोजन नहीं होने से उसमें कमी दिखेगा और पूजा पंडाल भी नहीं बन रहा है और ना ही बाजा आदि का बजना ही है।

सेनेटाइजेशन के लिए व्यवस्था के बीच सोशल डिस्टेंस कायम करने को व्यवस्था की जा रही है। वहीं, शहर के गायत्री मंदिर में भी पूजा पंडाल का निर्माण नहीं हो रहा है। यहां भी यही हालात बना है। दोनार चौक पर बीच सड़क पर नहीं एक दुकान में प्रतिमा स्थापित किया जा रहा है। यहां पंडाल आदि कुछ निर्माण नहीं होना है। यही हाल अन्य जगहों का भी है। बंगला पद्धति में बीणा पानी क्लब का पूजा इस बार होना तो है मगर ऐतिहासिक मेला और अन्य व्यवस्था नहीं होना है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- चल रहा कोई पुराना विवाद आज आपसी सूझबूझ से हल हो जाएगा। जिससे रिश्ते दोबारा मधुर हो जाएंगे। अपनी पिछली गलतियों से सीख लेकर वर्तमान को सुधारने हेतु मनन करें और अपनी योजनाओं को क्रियान्वित करें।...

और पढ़ें