मेरे पापा की लाश घर में पड़ी है, मदद कीजिए:20 घंटे तक घर में पड़ी रही कोरोना से मरे 45 साल के व्यक्ति की लाश, कोई छूने तक नहीं आया

दरभंगा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दरभंगा में कोरोना से मरे पिता को अंतिम प्रणाम करतीं अभागी बेटियां। - Dainik Bhaskar
दरभंगा में कोरोना से मरे पिता को अंतिम प्रणाम करतीं अभागी बेटियां।
  • बेटी-पत्नी लोगों से लगाती रही मदद की गुहार, लोग नहीं आए
  • DM की पहल पर कबीर सेवा संस्थान ने किया अंतिम संस्कार

कोरोना काल में इंसान के साथ-साथ दरभंगा में इंसानियत भी मरी। 20 घंटे से घर में 45 साल के व्यक्ति की लाश पड़ी थी, लेकिन कोई छूने वाला नहीं था। दो बेटियां और पत्नी रो-रोकर लोगों से मदद की गुहार लगा रही थी, लेकिन संक्रमण के डर से कोई उठाने को तैयार नहीं था। दुनिया के इतिहास ने इंसान को इतना अछूत होते कभी नहीं देखा होगा। किराये के मकान में जिस दोमंजिले पर मौत हुई, उसमें और भी किराएदार थे, लेकिन पिता की मौत पर रोती बच्चियों की सिसकियों की अनसुनी कर गए।

कबीर सेवा संस्थान ने किया अंतिम संस्कार

दरभंगा जिले में कोरोना हर दिन कोरोना से मौतें हो रही हैं। मृतकों के रिश्तेदार शव को छूने से कतरा रहे हैं। इस वजह से शवों के अंतिम संस्कार में काफी दिक्कत आ रही है। शनिवार को दरभंगा शहर में कोरोना से मरे इस 45 वर्षीय व्यक्ति का शव 20 घंटे बाद उसके घर से उठाया जा सका। पड़ोसी नहीं आए तो कबीर सेवा संस्थान के सदस्यों ने इस शव का अंतिम संस्कार किया।

कबीर सेवा संस्थान के एक सदस्य नवीन सिन्हा ने बताया कि कोरोना से इस व्यक्ति की मौत शुक्रवार की रात हो गई थी। मृतक के परिवार में उनकी पत्नी और दो बेटियां ही थीं। शव भारी था और दोमंजिले मकान के कमरे में पड़ा था। उन्होंने कहा कि मृतक की पत्नी और बेटियां लगातार लोगों और जिला प्रशासन से शव उठाने की गुहार लगा रही थीं, लेकिन शव को उठाने में उनकी मदद के लिए कोई आगे नहीं आया।

शुक्रवार की रात से शनिवार दिनभर पड़ी रही लाश
शुक्रवार की रात और शनिवार को दिन भर शव घर में ही पड़ा रहा। आखिरकार DM डॉ. त्यागराजन SM और नगर आयुक्त मनेश कुमार मीणा के आदेश पर एक स्वास्थ्य कर्मी मृतक के घर पहुंचा और उसने शव को सैनिटाइज किया। उसके बाद शनिवार शाम 5 बजे के बाद शव को कबीर सेवा संस्थान के लोग मकान मालिक और एकमात्र रिश्तेदार के सहयोग से दोमंजिले मकान के कमरे से उतार कर अंतिम संस्कार के लिए ले गए। कबीर सेवा संस्थान के नवीन सिन्हा ने लोगों से अपील की कि कोरोना से हो रहीं मौतों के बीच मानवता को मरने न दें।