दरभंगा में पुजारी की हत्या:कार से आए चार हमलावरों ने गोली मारी; भाग रहे एक अपराधी को लोगों ने पीट-पीटकर मार डाला, 2 गंभीर

दरभंगा11 दिन पहले
पुजारी राजीव झा के शव के साथ परिजन और मंदिर परिसर में बिखरा खून।

दरभंगा के राज परिसर स्थित कंकाली मंदिर के प्रधान पुजारी राजेश झा उर्फ संटू (45) की बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी। यह घटना गुरुवार सुबह करीब 4.30 बजे की है। इस दौरान हथियारबंद अपराधियों ने पुजारी को बचाने आए एक श्रद्धालु शंभु झा को भी गोली मार दी, उनकी हालत गंभीर है। पुजारी नवरात्रि व्रत कर रहे थे और फलाहार पर थे। आज ही उन्हें व्रत तोड़ना था। घटना के बाद मृत पुजारी के परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है।

बताया जाता है कि 4 बदमाश कार से आए थे। घटना के बाद भागने के दौरान आसपास के लोगों ने 3 हमलावरों को पकड़ लिया और लात-घूंसों, लाठी-डंडे से जमकर पिटाई की, इसमें एक की मौत हो गई। दो की हालत गंभीर है। वहीं, एक बदमाश भागने में सफल रहा। पुलिस अब तक घटना के कारणों का पता नहीं लगा पाई है। बदमाशों की भी पहचान नहीं हो पाई है। कुछ लोगों का कहना है कि पुजारी के भतीजे की बुधवार शाम कुछ लोगों से मोबाइल को लेकर झड़प हुई थी।

SSP बाबूराम ने घटना की सूचना मिलते ही मंदिर परिसर का निरीक्षण किया है। इससे पहले सदर एसडीपीओ कृष्णनंदन भी मौके पर पहुंचे थे। एसडीपीओ ने इस घटना में दो की मौत एवं तीन के घायल होने की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि पुलिस मामले की जांच कर रही है। घायल भक्त को पारस हॉस्पिटल एवं दोनों अपराधियों को DMCH में भर्ती कर दिया गया है। मरने वाले और जख्मी अपराधियों की पहचान अभी नहीं हो सकी है। पुलिस हिरासत में उनका इलाज कराया जा रहा है। दोनों की स्थिति गंभीर है। घटनास्थल से एक पिस्टल और 2-3 फायर किए हुए खोखे बरामद किए गए हैं।

घटनास्थल पर पहुंचे सदर एसडीपीओ कृष्णनंदन।
घटनास्थल पर पहुंचे सदर एसडीपीओ कृष्णनंदन।

बुधवार शाम पुजारी के भतीजे से हुआ था झगड़ा

घटना के बारे में भास्कर को प्रत्यक्षदर्शियों से जो जानकारी मिली है, उसके अनुसार बुधवार शाम एक अज्ञात व्यक्ति का पुजारी के भतीजे से मोबाइल को लेकर कुछ विवाद हुआ था। उनका कहना है कि शराबबंदी के बाद मंदिर के आसपास के इलाके में शाम से नशेड़ियों का जमावड़ा लगने लगता है। उन्हीं में से एक शख्स ने कॉल करने के लिए मोबाइल मांगा, जो पुजारी के भतीजे ने नहीं दिया। इसी बात पर दोनों के बीच कहासुनी हो गई।

इसी दौरान पुजारी राजीव झा भी बीच-बचाव करने आए थे। बात बढ़ते-बढ़ते मारपीट तक पहुंच गई। मारपीट के दौरान उस व्यक्ति के सर पर चोट लग गई थी। लोगों का कहना है कि उसी व्यक्ति के साथ गुरुवार की सुबह साढ़े चार बजे आए तीन अन्य लोगों ने मंदिर परिसर में सो रहे पुजारी को गोली मार दी।

मृतक के एक पड़ोसी अभिषेक झा ने बताया कि मंदिर में गोली चलने की आवाज सुन कर वे भागे-भागे यहां पहुंचे। देखा कि पुजारी को गोली लगी है। उन्हें जल्दी-जल्दी एक निजी अस्पताल में ले गए। वहां डॉक्टर ने पुजारी को मृत घोषित कर दिया। डॉक्टर ने कम से कम तीन गोली मारे जाने की बात बताई। उसके बाद वे लोग शव को फिर से मंदिर में ले आए। वहीं चश्मदीद पुजारी दयानंद ने बताया कि हम तीन लोग सो रहे थे। चार की संख्या में अपराधी आए और पूछा- संटू कौन है, फिर उनकी गोली मार हत्या कर दी।

इसी कार से आए थे चारों अपराधी। पुलिस ने इस कार को जब्त कर लिया है।
इसी कार से आए थे चारों अपराधी। पुलिस ने इस कार को जब्त कर लिया है।
बुधवार को निकला विशेष कमांडो दस्ते का फ्लैग मार्च।
बुधवार को निकला विशेष कमांडो दस्ते का फ्लैग मार्च।

एक दिन पहले ही शहर में निकला था प्रशासन का फ्लैग मार्च

बुधवार को ही दरभंगा शहर में विशेष प्रशिक्षण प्राप्त कर आए व अत्याधुनिक हथियारों से लैस कमांडो ने फ्लैग मार्च निकाला था। इसका नेतृत्व भी सदर एसडीपीओ कृष्णनंदन कुमार एवं लाइन डीएसपी जगदानंद ठाकुर कर रहे थे। सीआईएसएफ की इस विशेष दंगा निरोधक टीम को पहली बार दरभंगा शहर में तैनात किया गया है। हालांकि अपराधियों के मन में खौफ पैदा करने की प्रशासन की यह कोशिश कामयाब नहीं हुई और 24 घंटे के अंदर ही यह वारदात हो गई।

खबरें और भी हैं...