पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

विरोध:जाप नेता पप्पू यादव की रिहाई को लेकर शहर में किया प्रदर्शन

दरभंगा16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जन अधिकार पार्टी (लो) के राष्ट्रीध्यक्ष राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव को कैद में रखने के खिलाफ रविवार की सुबह 9 बजे के पूर्व जिलाध्यक्ष डॉ मुन्ना खान के आवासीय कार्यालय रहमगंज से पैदल मार्च शहर में निकाला गया।

यह मार्च बीबी पाकर, शैतान चौक, उर्दू बाजार, नीम चौक, किलाघाट, नगर थाना, सुभाष चौक, दरभंगा टावर, मिर्जापुर, सकमापुल, कोतवाली चौक नाका नंबर 5, सिनेमा चौक, मौलागंज होते हुए खान चौक तक लगभग छह किलोमीटर का पैदल मार्च किया। इसकी अगुवाई पप्पू सरदार एवं चुनमुन यादव संयुक्त रूप से कर रहे थे। जिसका नेतृत्व महिला नेत्री आसमा खातून एवं पुतुन बिहारी कर रहे थे। पदयात्रा के बाद पूर्व जिलाध्यक्ष डॉ. मुन्ना खान ने कहा कि सेवक पप्पू यादव की गिरफ्तारी किसी आपराधिक कारणों से नहीं बल्कि सरकारी तौर पर अपहरण कर लिया गया है, ताकी सेवक पप्पू यादव जो लगातार गरीब-मजदूर रिक्शावाले, तांगा वाले छात्रों की आवाज सड़क पर उतर कर बुलंद कर रहे थे, दवा माफियाओं, प्राइवेट नर्सिंगहोम माफियाओं, एंबुलेंस माफियाओं का लगातार पर्दाफाश कर रहे थे, उन सबों को अंकुश लगाने के लिए सेवक पप्पू यादव की गिरफ्तारी 32 साल पुराने मामले में कराई गई है।

भ्रष्टाचारियों व माफियाओं को डबल इंजन की बिहार सरकार बचाती रहे और बिहार की गरीब जनता को लूटवाती रहे। चंद्रकांत सिंह ने कहा कि अगर जल्दी सेवक पप्पू यादव की रिहाई नहीं होती है, उग्र आंदोलन की आशंका गहरा जाएगी। जिसकी जिम्मेदारी सीधे तौर पर बिहार सरकार के मुखिया नीतीश कुमार की होगी। पदयात्रा में लगभग 50 कार्यकर्ता सोशल डिस्टेंसिंग रखते हुए पदयात्रा कर रहे थे। जिसमें खासतौर से राधे कृष्ण बिहारी, सुदर्शन बाबा, नफीस खान, कासिफ ईकबाल, मो दिलशाद, मोनू ब्रावो, ईं ईरशाद खान, सद्दाम खान, डॉ. वारिस सोहरवर्दी आदि भी थे।

खबरें और भी हैं...