पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

हिंदी के विकास पर जोर:क्षेत्रीयता, अनुवाद की जटिलता व प्रचार-प्रसार में कमी के कारण हिंदी के विकास में हो रही कठिनाई

दरभंगा5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • हिंदी दिवस पर सामाजिक दूरी के साथ कई शिक्षण संस्थानों में कार्यक्रम आयोजित

एलएनएमयू के पीजी हिंदी विभाग में सोमवार को हिंदी दिवस पर सामाजिक दूरी के साथ कई शैक्षणिक संस्थानों में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। राजभाषा हिंदी के समक्ष उसके कार्यान्वयन की चुनौतियां विषयक संगोष्ठी की अध्यक्षता विभागाध्यक्ष प्रो. राजेंद्र साह ने की। उन्होंने राजभाषा हिंदी के समक्ष आने वाली चुनौतियों के रूप में सही प्रयत्नों के अभाव को चिह्नित करते हुए कहा कि हिंदी व्यावहारिक स्तर पर मजबूत भाषा बन गई है। लेकिन, इसके सम्यक विकास में क्षेत्रीयता, बोलियों के स्वरूप की जटिल स्थिति, अनुवाद की जटिलता एवं प्रचार-प्रसार से जुड़ी हुई कठिनाइयां इसके केंद्र में रही है। संकीर्णता और क्षेत्रीयता की समस्या ने हिंदी की राजभाषा को कई रूपों में प्रभावित किया है। बाजारवाद, विज्ञापन, वैश्विक प्रसार और अनेक प्रकार की व्यवस्था से जुड़ी चुनौतियों को भी उन्होंने इस संदर्भ में रेखांकित किय। डॉ. विजय कुमार ने कहा कि हिंदी जनता की भाषा के रूप में राजभाषा बनी है। डॉ. सुरेंद्र प्रसाद सुमन ने हिंदी दिवस के अवसर पर कहा कि हमें हिंदी-दिवस मनाने पर गहरी आपत्ति है। क्योंकि हिंदी दिवस को कतिपय समुदाय हिंदू दिवस की तरह मनाते हैं। उन्होंने जोर देकर बताया कि हिंदी जीवित मनुष्य की जीवित भाषा है। जब हिंदी ही हमारी सांसों और जीवन से जुड़ी भाषा रही है, तो उसके बगैर हमारे अस्तित्व की कल्पना ही नहीं की जा सकती। विषय-प्रवेश के क्रम में डॉ. आनंद प्रकाश गुप्ता ने राजभाषा हिंदी के संवैधानिक प्रावधानों की विस्तृत चर्चा की।

अखिलेश कुमार ने भारतवर्ष की भाषिक विविधता की चर्चा की। डॉ. उमेश कुमार शर्मा ने हिंदी दिवस पर हिंदी के संवैधानिक प्रावधानों की चर्चा की। कार्यक्रम के दौरान शोधप्रज्ञ शंकर कुमार ने कविता का पाठ किया। जबकि, शोधप्रज्ञ हरिओम कुमार, खुशबू कुमारी, पार्वती कुमारी एवं सियाराम मुखिया आदि मौजूद थे। कुंवर सिंह महाविद्यालय में हिंदी दिवस के मौके पर एक सेमिनार का आयोजन राष्ट्रीय सेवा योजना की ओर से किया गया। प्रधानाचार्य डॉ. मो. रहमतुल्लाह ने कहा कि हम आज से अपना हस्ताक्षर हिंदी में करेंगे। दुकान का नाम हिंदी में लिखेंगे। हिंदी विश्व बंधुत्व की भाषा है। यह तुलसी, रहीम व रसखान की भाषा है। कार्यक्रम पदाधिकारी डॉ अशोक कुमार सिंह ने कहा कि हिंदी अब वैश्विक भाषा बन चुकी है। डॉ. अमित सिन्हा ने धन्यवाद ज्ञापन किया। एमआरएम कॉलेज के हिंदी विभाग में गुगल मीट के माध्यम से वेबिनार आयोजित किया गया। प्रधानाचार्य डॉ. अरविंद कुमार झा ने की वर्तमान स्थिति पर प्रकाश डाला। साथ ही विभाग को हिंदी दिवस पर एक वार्षिक पत्रिका आरम्भ करने का सुझाव भी दिया गया। इस दौरान हिंदी विभाग की छात्रा अमृता, सुषमा, राजनंदिनी, नीतू, सुलभा, निक्की, कुमारी नेहा, कविता, अंजू आदि ने हिन्दी भाषा पर अपनी रचनात्मक अभिव्यक्ति दी। हिन्दी को यथोचित सम्मान देने की बात पर जोर दिया। ऑनलाइन कार्यक्रम का संचालन हिंदी विभाग की शिक्षिका नीलम सेन ने किया। धन्यवाद ज्ञापन अंग्रेजी विभाग की शिक्षिका चित्रा झा ने किया।

शिक्षकों ने हिंदी व्याकरण के महत्व पर विस्तार से डाला प्रकाश
महात्मा गांधी महाविद्यालय में हिंदी दिवस सह मतदाता जागरुकता अभियान को लेकर प्रधानाचार्य डाॅ. रामदेव चौधरी की अध्यक्षता गोष्ठी हुई। डाॅ. ममता रानी अग्रवाल ने इसका संचालन किया। इस अवसर पर डाॅ. राधे कृष्ण प्रसाद ने हिंदी दिवस के महत्व को रेखांंखित करते हुए हिंदी व्याकरण के विशेषताओं पर प्रकाश डाला। प्रो. शत्राुघ्न साह ने मतदाता जागरुकता अभियान के महत्त्व तथा उससे होने वाले अच्छे परिणामों पर चर्चा की। डाॅ. ज्वाला चंद्र चौधरी ने हिंदी के वैश्विक महत्व को समझाते हुए हिंदी भाषी छात्रों को इसके क्षेत्र में सरकारी एवं गैर सरकारी सेवा के अवसर की चर्चा की। डाॅ. ममता रानी अग्रवाल ने भरतेन्दु युग से लेकर हिन्दी के सफर को विस्तार से प्रकाश डाला।
काव्य गोष्ठी का आयोजन : हिन्दी-दिवस के उपलक्ष में दरभंगा के युवा कवि नवीन कुमार आशा के नेतृत्व काव्य-गोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसका संचालन दरभंगा की युवा रचनाकार अनिग्धा श्रीवास्तव ने किया। मुख्य वक्ता की भूमिका साहित्यकार शशिकांत मिश्र ने निभाई। उन्होंने हिन्दी की दशा व दिशा पर अपनी बात रखते हुए कहा कि हिन्दी को उसका गौरवमय स्थान तभी मिल सकेगा जब हम अंग्रेजी के मोह से बाहर निकलेंगे । प्रीति कुमारी ने युवाओं को प्रेरित करती अपनी रचना हार क्या जीत क्या से की। इसमें शाम्भवी माहेश्वरी, अनु श्रीवास्तव, पूजा कुमारी, ऋचा कुमारी आदि ने रचनाओं से हिन्दी की दशा, दिशा पर प्रकाश डाला।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज उन्नति से संबंधित शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में भी कुछ समय व्यतीत होगा। किसी विशेष समाज सुधारक का सानिध्य आपके अंदर सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करेगा। बच्चे त...

और पढ़ें