पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जन संकल्प से हारेगा कोरोना:काेराेना से डरिए नहीं, डट कर उसका मुकाबला करिए

दरभंगाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • इंजीनियर सुधा कुमारी महज तीन दिनों में दे दी कोरोना को मात, पांच मई से कर रही हैं वर्क फ्रॉम हाेम

सुधा कुमारी | कोरोना वॉरियर मैं इंजीनियर सुधा कुमारी, शिशु रोग विशेषज्ञ डॉक्टर ओम प्रकाश की बेटी हूं। दिल्ली में कार्यरत हूं। गत 23 अप्रैल काे मैं दिल्ली में सर्दी व खांसी से ग्रसित हाे गई। दवा और भाप लेना शुरू किया। 3 मई की रात में बुखार, बदन दर्द, कमजोरी के साथ सांस लेने की तकलीफ होने लगी। मेरा एसपीओ 2 लेवल 88 शो कर रहा था। वहां कोई सहयोगी नहीं था। इस कारण अपने दोस्त की सहायता से उसकी गाड़ी से मैं 4 मई की रात दिल्ली से दरभंगा आ गई। 4 मई को स्वाद और खुशबू आना बंद हो चुका था। घर आने पर पिताजी ने मुझे अपने बगल के कमरे में आइसोलेट कर दिया।

मेरे कमरे में बाथरूम अटैच है। मेरी मौसी अपने बेटे के साथ कोरोना वायरस से ग्रसित होकर उन्हीं के अस्पताल में भर्ती थी। तो उनके ही खाने में से मैं भी खाने लगी। मेरा भाई और मेरी मम्मी ने अपने को भी आइसोलेट कर लिया। पापा की निगरानी में मेरी चिकित्सा शुरू हुई। पापा ने पॉजिटिव रिपोर्ट हाथ में आने से पहले ही व्यायाम करवाने लगे। हल्दी दूध, जिंक और विटामिन सी अादि दवा नियमित रूप से लेने लगे। नतीजा सुखद और सामने है।

‘बिना एक दिन छुट्‌टी लिए रोज 9 घंटे घर से ही ऑफिस का काम कर रही हूं’

इंजीनियर सुधा कुमारी कहती हैं- 5 माई से मुझे इस बात का एहसास ही नहीं कि मुझे कोई रोग है। सिर्फ खांसी बहुत परेशान कर रही है। मुझे रोज घर से ही ऑफिस का काम करना है। हर दिन 9 घंटे आराम से ऑफिस का काम कर रही हूं। बिना एक भी दिन छुट्टी लिए हुए। 5 मई से ही मैं बिल्कुल स्वस्थ महसूस कर रही हूं। अपने सारे नियमित काम भी बड़े आराम से कर रही हूं। मेरी लाेगाें से सलाह है कि काेराेना से डरिए नहीं। डटकर इसका मुकाबला कीजिए। सरकारी की अाेर से जाे गाइडलाइंस है, उसका पालन कीजिए। बहुत जरूरी हाे तभी घर से निकलिए। अन्यथा नहीं। अगर निकलिए भी ताे मास्क अवश्य पहनिए। घर पर ही नियमित रूप से याेगाभ्यास कीजिए। गर्म पानी का सेवन कीजिए। निगेटिव सोच नहीं अाने दें। जितना डराया जा रहा है, डरने की जरूरत नहीं है। मगर खुद को सुरक्षित भी रखना चाहिए।

खबरें और भी हैं...