पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कोरोना का असर:लॉकडाउन के कारण रमजान के दौरान भी ठप है इत्र का कारोबार, व्यवसायियों काे हाे रहा भारी नुकसान

दरभंगा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बाजार में दुकान पर इत्र की खरीदारी करते लोग।
  • हर साल लाखाें का हाेता था काराेबार, पर इस बार हजाराें में ही सिमटा

रमजान का पाक महीना खत्म होने वाला है। लोग ईद को लेकर उत्साहित व बाजार में खरीददारी के लिए पहुंच रहे हैं। लेकिन कोरोना के कारण चल रहे लॉक डाउन की वजह से बाजार में वीरानगी छाई हुई है। व्यवसायी वर्ग के लोगों में लॉक डाउन के कारण मायूसी छाई हुई है। खासकर रमजान में इत्र का कारोबार करने वाले व्यवसायियों को काफी नुकसान सहना पड़ रहा है। रमजान में इत्र लगाना सुन्नत माना गया है। कुरान के मुताबिक इत्र लगाने से रूह को ताजगी मिलती है। जिस कारण रमजान के पर्व के दौरान लहेरियासराय से लेकर दरभंगा टॉवर तक लाखों रुपए के इत्र का कारोबार होता था। लेकिन लॉक डाउन की वजह से इस बार इत्र के व्यवसाय पर काफी असर पड़ा है। इस्लामिक विद्वानों की मानें तो पाकीजगी को इस्लाम में ऊंचा स्थान दिया गया है। रमजान के महीने में रोजा व इबादत करना हर मुस्लिम का फर्ज है। इसलिए हर शख्स नमाज पढ़ने से पहले इत्र का प्रयोग करता है। बाकरगंज में वर्षों से इत्र का कारोबार करने वाले सद्दाम, करीम व बाबर सहित अन्य दुकानदारों का कहना है कि हदीस में कहा गया है कि रमजान में इत्र लगाना सुन्नत है। क्योंकि रोजे के समय इत्र लगाने से शरीर में सहन करने की शक्ति बढ़ती है।   इत्र व्यवसाय से जुड़े लोगों की मानें तो लॉकडाउन की वजह से इस बार रमजान में इत्र का कारोबार नाम मात्र का हुआ है। जहां पिछले वर्ष एक दुकानदार 50 हजार से एक लाख तक का व्यवसाय करता था। वही दुकानदार इस बार दस से पंद्रह हजार का माल भी नहीं बेच पाया है। पिछली बार जहां इत्र की शहर में करीब सैकड़ों दुकानें थी। वहीं इस बार गिने चुने दुकान ही दिख रहे है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का दिन परिवार व बच्चों के साथ समय व्यतीत करने का है। साथ ही शॉपिंग और मनोरंजन संबंधी कार्यों में भी समय व्यतीत होगा। आपके व्यक्तित्व संबंधी कुछ सकारात्मक बातें लोगों के सामने आएंगी। जिसके ...

और पढ़ें